Dharm

सुन्दरकाण्ड-17-2

समुन्द्र पार करने के लिए विचार-02.

दोहा: –

सकल चरित तिन्ह देखे धरें कपट कपि देह।

प्रभु गुन हृदयँ सराहहिं सरनागत पर नेह ।।

वाल्व्यास सुमनजी महाराज श्लोक का अर्थ बताते हुए कहते है कि, कपट से वानर का शरीर धारण कर उन्होने सब लीलाएँ देखी. वे अपने हृदय में प्रभु के गुणो की और शरणागत पर उनके स्नेह की सराहना करने लगे.

चौपाई: –

प्रगट बखानहिं राम सुभाऊ। अति सप्रेम गा बिसरि दुराऊ।।

रिपु के दूत कपिन्ह तब जाने। सकल बाँधि कपीस पहिं आने ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराज जी कहते है कि, फिर वे प्रकट रूप में भी अत्यंत प्रेम के साथ श्रीरामचंद्रजी के स्वभाव की बड़ाई करने लगे और अपने देश को भूल गए. सब वानरो ने जाना कि ये शत्रु के दूत है और वे उन सबको बाँधकर सुग्रीव के पास ले आए.

कह सुग्रीव सुनहु सब बानर। अंग भंग करि पठवहु निसिचर।।

सुनि सुग्रीव बचन कपि धाए। बाँधि कटक चहु पास फिराए ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराज जी कहते है कि, सुग्रीव ने कहा – सब वानरो ! सुनो , राक्षसो के अंग-भंग करके भेज दो. सुग्रीव के वचन सुनकर वानर दौड़े और दूतो को बाँधकर उन्होने सेना के चारो ओर घुमाया.

बहु प्रकार मारन कपि लागे। दीन पुकारत तदपि न त्यागे।।

जो हमार हर नासा काना। तेहि कोसलाधीस कै आना ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, वानर उन्हे बहुत तरह-तरह से मारने लगे और वे दीन होकर पुकारते थे, फिर भी वानरो ने उन्हे नही छोड़ा. तब दूतो ने पुकारकर कहा – जो हमारे नाक-कान काटेगा, उसे कोसलाधीश श्रीरामचंद्रजी की सौगंध है.

सुनि लछिमन सब निकट बोलाए। दया लागि हँसि तुरत छोडाए।।

रावन कर दीजहु यह पाती। लछिमन बचन बाचु कुलघाती ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, यह सुनकर लक्ष्मणजी ने सबको निकट बुलाया. उन्हे बड़ी दया लगी, उन्होने हँसकर राक्षसो को तुरंत ही छुड़वा दिया. और उनसे कहा – रावण के हाथ में यह चिट्ठी देना और कहना- हे कुलघातक ! लक्ष्मण के संदेश को पढ़ो.

वालव्यास सुमनजी महाराज,

महात्मा भवन, श्रीरामजानकी मंदिर,

राम कोट, अयोध्या. 8709142129.

==========  =========  ===========

Samundr Paar Karane Ke Lie Vichaar-01

Doha: –

Sakal Charit Tinh Dekhe Dharen Kapat Kapi Deh

Prabhu Gun Hridayan Saraahahin Saranaagat Par Neh ।।

Vaal wyas sumana jee mahaaraaj shlok ka arth bataate huye kahate hain ki kpat se Baanar shareer dhaaran kar unhonne sab liilaayen dekhi. We apne hriday men prabhu ke gunon kii aur sharnaagat par unke sneh kii sarahana karne lage.

Choupai: –

Pragat Bakhaanahin Raam SubhaooAti Saprem Ga Bisari Duraoo।।

Ripu Ke Doot Kapinh Tab JaaneSakal Baandhi Kapees Pahin Aane ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraajajee kahate hai ki, phir ve prakat roop mein bhee atyant prem ke saath shreeraamachandrajee ke svabhaav kee badaee karane lage aur apane desh ko bhool gae. Sab vaanaro ne jaana ki ye shatru ke doot hai aur ve un sabako baandhakar sugreev ke paas le aaye.

Kah Sugreev Sunahu Sab BaanarAng Bhang Kari Pathavahu Nisichar।।

Suni Sugreev Bachan Kapi DhaeBandhi Katak Chahu Paas Phiraye ।।

Shlok ka arth batate huye mhaharaja ji khahate hai ki, sugriv ne kaha – sab vanaro! suno, rakshaso ke ang-bhang karake bhej do. Sugriv ke vachan sunakar vanar daude aur dooto ko bandhakar unhone sena ke charo or ghumaya.

Bahu Prakaar Maran Kapi LageDin Pukarat tadapi Na Tyage।।

Jo Hamar Har Naasa KaanaTehi Kosaladhis Kai Aana ।।

Shlok ka arth batate hue maharaj ji kahate hai ki, vanar unhe bahut tarah-tarah se marane lage aur ve din hokar pukarate the, phir bhi vanaro ne unhe nahi chhoda. Tab dooto ne pukarakar kaha – Jo hamare naak-kaan katega, use kosaladhish shriramachandraji ki saugandh hai.

Suni Lachhiman Sab Nikat BolaeDaya Lagi Hansi Turat Chhodaye।।

Ravan Kar Deejahu Yah PatiLachhiman Bachan Bachu Kulaghati ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraajajee kahate hai ki, yah sunakar lakshmanajee ne sabako nikat bulaaya. unhe badee daya lagee, unhone hansakar raakshaso ko turant hee chhudava diya. aur unase kaha – raavan ke haath mein yah chitthee dena aur kahana- he kulaghaatak! Lakshman ke sandesh ko padho.

Valvyas Sumanji Maharaj,

Mahatma Bhavan,

Shri Ram-Janaki Temple,

Ram Kot, Ayodhya. 8709142129.

: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button