News

व्यक्ति विशेष

भाग – 165.

स्वतंत्रता सेनानी गोपीनाथ बोरदोलोई

गोपीनाथ बोरदोलोई भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे, जिन्होंने असम राज्य के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. उनका जन्म 6 जून 1890 को असम के रहरिया में हुआ था. उन्होंने कोलकाता विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त की और असम के मुख्यमंत्री बने.

बोरदोलोई ने 1920 के दशक में असहयोग आंदोलन में भाग लिया और महात्मा गांधी के नेतृत्व में स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से शामिल हुए. वह असम कांग्रेस के महत्वपूर्ण नेता थे और उन्होंने असम के किसानों और श्रमिकों के अधिकारों के लिए संघर्ष किया.

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद, बोरदोलोई असम के मुख्यमंत्री बने और उन्होंने राज्य के विकास और समृद्धि के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए. उन्होंने असम की सांस्कृतिक धरोहर को संजोने और संरक्षण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

उनके योगदान के लिए, उन्हें भारत सरकार ने 1999 में मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया. गोपीनाथ बोरदोलोई का निधन 5 अगस्त 1950 को हुआ था. उनका जीवन और कार्य असम और भारत के इतिहास में हमेशा स्मरणीय रहेंगे.

==========  =========  ===========

क्रांतिकारी बलराज भल्ला

बलराज भल्ला एक भारतीय क्रांतिकारी थे, जिन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. उनका जन्म 10 जून 1888 को पंजाब में हुआ था और वह प्रारंभ से ही स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय हो गए थे.

बलराज भल्ला ने कई क्रांतिकारी संगठनों के साथ मिलकर ब्रिटिश शासन के खिलाफ विभिन्न अभियानों और आंदोलनों में हिस्सा लिया. उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ गुप्त क्रांतिकारी गतिविधियों का संचालन किया और ब्रिटिश प्रशासन को कठिनाई में डालने के लिए विभिन्न रणनीतियों का उपयोग किया.

बलराज भल्ला ने कई महत्वपूर्ण स्वतंत्रता संग्रामियों के साथ मिलकर काम किया और स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया. बलराज भल्ला अपने साहस, निष्ठा और देशभक्ति के लिए जाने जाते थे. उनका जीवन और कार्य भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं और उन्होंने अपने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया.

बलराज भल्ला जैसे क्रांतिकारी भारत की स्वतंत्रता के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं और उनका योगदान हमारे देश के इतिहास में हमेशा स्मरणीय रहेगा.

==========  =========  ===========

कवि शिवदीन राम जोशी

शिवदीन राम जोशी एक प्रसिद्ध हिंदी कवि थे, जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से हिंदी साहित्य को समृद्ध किया. उनके काव्य में देशप्रेम, सामाजिक जागरूकता और मानवीय भावनाओं की झलक मिलती है.

शिवदीन राम जोशी का जन्म 10 जून, 1921 ई. को राजस्थान के सीकर ज़िले में खंडेला नामक स्थान पर हुआ था और उनका निधन 27 जुलाई 2006 को हुआ. उनका अधिकांश जीवन हिंदी साहित्य की सेवा में व्यतीत हुआ. वे एक समर्पित साहित्यकार थे, जिन्होंने हिंदी कविता को नए आयाम दिए.

शिवदीन राम जोशी ने कई कविताएँ और गद्य रचनाएँ लिखीं. उनकी रचनाएँ समाज के विभिन्न पहलुओं को उजागर करती हैं और आम जनता के जीवन से गहराई से जुड़ी हुई हैं. उनके काव्य संग्रहों में प्रेम, समाजिक न्याय, और देशभक्ति की कविताएँ शामिल हैं.

जोशी के कई कविता संग्रह प्रकाशित हुए, जिनमें उन्होंने विविध विषयों पर लिखा. उनकी कविताएँ समाज में व्याप्त अन्याय और भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती हैं. स्वतंत्रता संग्राम के दौरान और उसके बाद, उनकी रचनाएँ देशप्रेम और राष्ट्रवाद की भावना से ओतप्रोत थीं.

शिवदीन राम जोशी की काव्य शैली सरल और प्रभावी थी. वे अपने विचारों को स्पष्ट और सशक्त भाषा में व्यक्त करते थे, जिससे उनकी कविताएँ पाठकों के हृदय में गहरी छाप छोड़ती थीं. उनकी कविताओं में सांस्कृतिक और परंपरागत तत्वों का समावेश भी देखने को मिलता है.

उनके साहित्यिक योगदान के लिए उन्हें कई पुरस्कारों और सम्मानों से नवाजा गया. उनके कार्यों ने हिंदी साहित्य में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त किया और वे आज भी प्रेरणा के स्रोत बने हुए हैं.

शिवदीन राम जोशी के योगदान को हिंदी साहित्य और समाज में हमेशा सराहा जाएगा. उनकी कविताएँ आज भी लोगों के दिलों में जीवित हैं और उनकी लेखनी का प्रभाव अद्वितीय है.

==========  =========  ===========

वायलिन वादक एम. एस. गोपालकृष्णन

एम. एस. गोपालकृष्णन (मणकुदी श्रीनिवास अय्यर गोपालकृष्णन) भारतीय कर्नाटक संगीत के प्रसिद्ध वायलिन वादक थे. उनका जन्म 10 जून 1931 को मद्रास (अब चेन्नई), तमिलनाडु में हुआ था. वे भारतीय शास्त्रीय संगीत के एक प्रमुख कलाकार थे और अपनी अद्वितीय वायलिन वादन शैली के लिए प्रसिद्ध थे.

एम. एस. गोपालकृष्णन ने संगीत की शिक्षा अपने पिता मणकुदी श्रीनिवास अय्यर से प्राप्त की, जो स्वयं एक उत्कृष्ट वायलिन वादक और संगीत शिक्षक थे. बचपन से ही संगीत के प्रति उनकी गहरी रुचि और समर्पण ने उन्हें एक महान कलाकार बना दिया.

 गोपालकृष्णन की वादन शैली कर्नाटक और हिंदुस्तानी संगीत का अनूठा मिश्रण थी. उन्होंने दोनों शैलियों में निपुणता हासिल की और अपने वादन में इन्हें उत्कृष्ट रूप से प्रस्तुत किया. उन्होंने भारत और विदेशों में कई प्रमुख संगीत समारोहों में प्रदर्शन किया और अपने वादन से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया. उनकी प्रस्तुतियों में तान, लयकारी और स्वरों का सुंदर संयोजन देखने को मिलता था.

गोपालकृष्णन ने अनेक छात्रों को संगीत की शिक्षा दी और कई प्रतिभाशाली वायलिन वादकों को प्रशिक्षित किया. उनके शिक्षण विधि और अनुशासन ने अनेक संगीत विद्यार्थियों को प्रेरित किया.

एम. एस. गोपालकृष्णन को उनके संगीत के क्षेत्र में अद्वितीय योगदान के लिए अनेक पुरस्कारों और सम्मानों से नवाजा गया. इनमें से कुछ प्रमुख सम्मान इस प्रकार हैं: – पद्म भूषण (1997), संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार (1979) और  कर्नाटक संगीत का शीर्ष सम्मान कचर शेषागिरि राव पुरस्कार.

एम. एस. गोपालकृष्णन का जीवन संगीत के प्रति समर्पित था. उनकी विनम्रता, अनुशासन और संगीत के प्रति उनकी प्रतिबद्धता ने उन्हें न केवल एक महान कलाकार बल्कि एक महान व्यक्ति भी बनाया. उनका निधन 3 जनवरी 2013 को हुआ, लेकिन उनके संगीत और योगदान की विरासत आज भी जीवित है.

एम. एस. गोपालकृष्णन की वायलिन वादन शैली और संगीत के प्रति उनकी निष्ठा ने उन्हें भारतीय शास्त्रीय संगीत के इतिहास में एक अमूल्य स्थान दिलाया है. उनकी संगीत यात्रा और योगदान को भारतीय संगीत प्रेमी सदैव याद रखेंगे.

==========  =========  ===========

उद्योगपति राहुल बजाज

राहुल बजाज एक प्रमुख भारतीय उद्योगपति और बिजनेस टाइकून थे, जिन्हें बजाज ग्रुप के अध्यक्ष और मैनेजिंग डायरेक्टर के रूप में उनकी भूमिका के लिए व्यापक रूप से जाना जाता है. उनका जन्म 10 जून 1938 को बंगाल प्रेसीडेंसी में हुआ था. वे स्वतंत्रता सेनानी जमनालाल बजाज के पोते थे.

राहुल बजाज ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल, मुंबई से पूरी की. इसके बाद उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री प्राप्त की और फिर हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से एमबीए किया.

राहुल बजाज ने अपने नेतृत्व में बजाज ऑटो को एक छोटे स्कूटर निर्माण कंपनी से एक विशाल ऑटोमोबाइल कंपनी में बदल दिया. उनके नेतृत्व में कंपनी ने भारतीय बाजार में बड़े हिस्से पर कब्जा किया और बजाज स्कूटर्स भारतीय घरों में एक आम नाम बन गया.

वर्ष 1991 के आर्थिक सुधारों के बाद, उन्होंने भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास और वैश्वीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उनकी कंपनियों ने नए उद्योग स्थापित किए और भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में योगदान दिया. उन्होंने शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में भी योगदान दिया. बजाज ग्रुप ने कई परोपकारी परियोजनाओं का समर्थन किया, जिसमें स्कूल, अस्पताल और अन्य सामाजिक कल्याण योजनाएँ शामिल हैं.

राहुल बजाज को उनके उद्योग और समाज के प्रति योगदान के लिए कई पुरस्कारों और सम्मानों से नवाजा गया. इनमें शामिल हैं:-पद्म भूषण (2001), CII के अध्यक्ष और FICCI के अध्यक्ष.

राहुल बजाज अपने साधारण और व्यावहारिक जीवनशैली के लिए भी जाने जाते थे. उन्होंने भारतीय उद्योग जगत में अपने व्यावसायिक नैतिकता और स्पष्टवादिता के लिए एक अलग पहचान बनाई. राहुल बजाज का निधन 12 फरवरी 2022 को हुआ. उनके निधन से भारतीय उद्योग जगत में एक बड़ी क्षति हुई, लेकिन उनका योगदान और विरासत हमेशा याद की जाएगी.

राहुल बजाज की नेतृत्व क्षमता, उद्योग के प्रति समर्पण और सामाजिक उत्तरदायित्व ने उन्हें भारतीय उद्योग जगत में एक प्रेरणादायक व्यक्तित्व बनाया. उनका जीवन और कार्य आज भी अनेक युवा उद्यमियों के लिए प्रेरणा का स्रोत है.

==========  =========  ===========

बैडमिंटन खिलाड़ी प्रकाश पादुकोण

प्रकाश पादुकोण एक भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का नाम रोशन किया। उनका जन्म 10 जून 1955 को कर्नाटक के कूर्ग जिले में हुआ था. वे भारतीय बैडमिंटन के इतिहास में सबसे सफल खिलाड़ियों में से एक माने जाते हैं.

प्रकाश पादुकोण ने बहुत ही कम उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था. उनके पिता रमेश पादुकोण भी एक अच्छे बैडमिंटन खिलाड़ी और कोच थे, जिन्होंने प्रकाश को इस खेल में मार्गदर्शन दिया। प्रकाश ने अपनी शिक्षा और खेल को एक साथ संतुलित किया और अपने खेल को ऊंचाइयों तक पहुंचाया.  ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप (1980): प्रकाश पादुकोण ने 1980 में इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट को जीतकर इतिहास रच दिया . यह जीत भारतीय बैडमिंटन के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर थी.

उन्होंने अपने करियर के दौरान कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खिताब जीते. इनमें 1978 और 1980 में कॉमनवेल्थ गेम्स का स्वर्ण पदक, 1979 में डेनिश ओपन और स्वीडिश ओपन शामिल हैं. प्रकाश पादुकोण 1980 में विश्व बैडमिंटन रैंकिंग में नंबर 1 पर पहुंचे, जो एक भारतीय खिलाड़ी के लिए एक बड़ा उपलब्धि थी.

अपने कैरियर के बाद, उन्होंने भारतीय बैडमिंटन कोचिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उन्होंने बेंगलुरु में प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन अकादमी की स्थापना की, जहां उन्होंने कई युवा खिलाड़ियों को प्रशिक्षित किया. उन्हें 1982 में अर्जुन पुरस्कार और 1991 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया.

प्रकाश पादुकोण की बेटी, दीपिका पादुकोण, एक प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेत्री हैं. उनके परिवार ने हमेशा खेल और कला के क्षेत्र में उत्कृष्टता प्राप्त की है. प्रकाश पादुकोण का योगदान भारतीय बैडमिंटन में अमूल्य है. उनके नेतृत्व और कोचिंग के तहत कई युवा खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सफलता हासिल की है. उनके अद्वितीय खेल शैली और समर्पण ने उन्हें एक महान खिलाड़ी और प्रेरणादायक व्यक्ति बना दिया है.

प्रकाश पादुकोण की यात्रा एक प्रेरणा है कि कैसे एक व्यक्ति अपने सपनों को पूरा कर सकता है और अपने देश का गौरव बढ़ा सकता है. उनकी उपलब्धियाँ और योगदान भारतीय खेल इतिहास में हमेशा याद किए जाएंगे.

==========  =========  ===========

पार्श्व गायक रूपकुमार राठौर

रूपकुमार राठौर एक भारतीय पार्श्व गायक और संगीतकार हैं, जिन्होंने अपनी मधुर आवाज और विविधतापूर्ण संगीत के माध्यम से भारतीय संगीत जगत में महत्वपूर्ण स्थान बनाया है. उनका जन्म 10 जून 1966 को हुआ था और वे एक संगीत परिवार से ताल्लुक रखते हैं. उनके पिता, पंडित चित्रसेन राठौर, एक प्रख्यात शास्त्रीय गायक थे.

रूपकुमार राठौर का बचपन संगीत के माहौल में बीता. उन्होंने अपने पिता से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली और बचपन से ही संगीत के प्रति गहरी रुचि दिखाई. उन्होंने हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में प्रशिक्षण प्राप्त किया और तबला वादन में भी निपुणता हासिल की.

रूपकुमार राठौर ने अपने कैरियर की शुरुआत एक तबला वादक के रूप में की, लेकिन बाद में वे गायन की ओर अग्रसर हुए. उन्होंने विभिन्न संगीत कार्यक्रमों में अपनी आवाज का जादू बिखेरा और धीरे-धीरे फिल्मी दुनिया में प्रवेश किया.

रूपकुमार राठौर ने कई हिंदी फिल्मों में अपनी आवाज दी है. उनके कुछ प्रसिद्ध गाने हैं: “संध्या झलकें” (फ़िल्म: सरफ़रोश), “तुम जो मिले” (फ़िल्म: हथियार) और “मौला मेरे मौला” (फ़िल्म: अंजानां अनजानां).

रूपकुमार राठौर ग़ज़ल गायकी में भी बहुत प्रसिद्ध हैं. उन्होंने कई प्रसिद्ध ग़ज़लें गाईं हैं और उनके ग़ज़ल एल्बमों ने भी काफी लोकप्रियता हासिल की है. उन्होंने संगीतकार के रूप में भी काम किया और कई एल्बमों का निर्माण किया. उनकी संगीत की समझ और गायकी की प्रतिभा ने उन्हें एक सफल संगीतकार भी बनाया है.

रूपकुमार राठौर को उनके संगीत के क्षेत्र में योगदान के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है. इनमें से कुछ प्रमुख पुरस्कार हैं: – ज़ी सिने अवार्ड, आइफ़ा अवार्ड और  स्क्रीन अवार्ड.

रूपकुमार राठौर का विवाह सनाली राठौर से हुआ है, जो स्वयं एक प्रसिद्ध गायिका हैं. उनकी बेटी, रेवती राठौर, भी संगीत के क्षेत्र में सक्रिय हैं. रूपकुमार राठौर का संगीत का सफर अनेक आयामों से भरा हुआ है. वे न केवल एक पार्श्व गायक हैं बल्कि एक उत्कृष्ट ग़ज़ल गायक और संगीतकार भी हैं. उनका संगीत आज भी लोगों के दिलों को छूता है और उनकी आवाज़ का जादू समय की सीमाओं को पार कर जाता है.

रूपकुमार राठौर की संगीत यात्रा प्रेरणादायक है और उनकी आवाज़ ने भारतीय संगीत को समृद्ध किया है. उनका योगदान और समर्पण भारतीय संगीत प्रेमियों के दिलों में हमेशा जिंदा रहेगा.

==========  =========  ===========

अभिनेता जीवन

जीवन जिनका पूरा नाम ओंकार नाथ धर था, एक प्रसिद्ध भारतीय फिल्म अभिनेता थे, जिन्होंने बॉलीवुड में खलनायक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनाई. उनका जन्म 24 अक्टूबर 1915 को श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर में हुआ था. वे भारतीय सिनेमा के एक प्रमुख अभिनेता थे, जिन्होंने अपने अद्वितीय अभिनय शैली और खलनायकी के लिए व्यापक रूप से प्रशंसा प्राप्त की.

जीवन का जन्म एक कश्मीरी पंडित परिवार में हुआ था. उनके पिता का निधन तब हो गया था जब वे बहुत छोटे थे, जिससे उनका बचपन काफी संघर्षपूर्ण रहा. जीवन ने अपना कैरियर मुंबई में शुरू किया, जहाँ वे फिल्म उद्योग में अपनी पहचान बनाने के लिए संघर्षरत थे.

जीवन ने 1935 में अपनी पहली फिल्म ‘फैशनेबल इंडिया’ से अभिनय कैरियर की शुरुआत की. इसके बाद उन्होंने कई फिल्मों में छोटे-मोटे रोल किए, लेकिन उन्हें असली पहचान 1940 -50 के दशक में मिली जब उन्होंने कई फिल्मों में खलनायक की भूमिकाएं निभाईं.

जीवन ने अपने कैरियर में लगभग 300 फिल्मों में काम किया. उनकी कुछ प्रमुख फिल्में और भूमिकाएं इस प्रकार हैं: –

अमर अकबर एंथनी (1977): – इस फिल्म में जीवन ने ‘रॉबर्ट’ का यादगार किरदार निभाया था.

धरम वीर (1977): – इस फिल्म में भी उनकी खलनायकी की अदाकारी को खूब सराहा गया.

जॉनी मेरा नाम (1970): – इसमें उन्होंने ‘हीरा’ की भूमिका निभाई थी.

नगीना (1986): – इस फिल्म में उन्होंने ‘भैरवनाथ’ का महत्वपूर्ण किरदार निभाया.

जीवन की अभिनय शैली बेहद प्रभावशाली थी. उनकी आवाज, चेहरे के भाव और संवाद अदायगी ने उन्हें बॉलीवुड का एक प्रमुख खलनायक बना दिया. वे खलनायकी के साथ-साथ हास्य भूमिकाओं में भी नजर आए और दर्शकों को प्रभावित किया.

जीवन को उनके योगदान के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया. उनके अभिनय को सराहा गया और वे भारतीय सिनेमा के महान खलनायकों में से एक माने जाते हैं. जीवन का विवाह कंवल कौर से हुआ था और उनके तीन बेटे और एक बेटी थे. उनके बेटे कर्ण जीवन ने भी फिल्म उद्योग में अपने पैर जमाए.

जीवन का निधन 10 जून 1987 को हुआ. उनके निधन के बाद भी उनकी अदाकारी और फिल्मों का जादू दर्शकों के बीच कायम है. जीवन का योगदान भारतीय सिनेमा में अद्वितीय है. वे अपने खलनायक किरदारों के लिए हमेशा याद किए जाएंगे और उनका नाम भारतीय फिल्म उद्योग के इतिहास में हमेशा सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा.

==========  =========  ===========

कहानी लेखक, नाटककार, फ़िल्म निर्देशक और फ़िल्म अभिनेता गिरीश कर्नाड

गिरीश कर्नाड एक बहुमुखी भारतीय साहित्यकार, नाटककार, फिल्म निर्देशक और अभिनेता थे, जिन्होंने भारतीय साहित्य और सिनेमा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है. उनका जन्म 19 मई 1938 को माथेरान, महाराष्ट्र में हुआ था और उनका निधन 10 जून 2019 को बेंगलुरु, कर्नाटक में हुआ. कर्नाड ने कन्नड़ और हिंदी सहित कई भाषाओं में काम किया और वे आधुनिक भारतीय थियेटर और सिनेमा के प्रमुख व्यक्तित्वों में से एक थे.

गिरीश कर्नाड का जन्म महाराष्ट्र के माथेरान में हुआ था और उनका बचपन कर्नाटक में बीता. उन्होंने धारवाड़ के कर्नाटक विश्वविद्यालय से गणित और सांख्यिकी में स्नातक की डिग्री प्राप्त की. इसके बाद उन्होंने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से दर्शनशास्त्र, राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में मास्टर्स किया.

गिरीश कर्नाड ने 1960 के दशक में अपने नाटकों से प्रसिद्धि पाई. उनके नाटक पारंपरिक भारतीय मिथकों और लोककथाओं पर आधारित होते थे, जिनमें आधुनिक समाज के जटिल प्रश्नों और मुद्दों को समाहित किया जाता था.

प्रमुख नाटक: –

‘ययाति’ (1961): यह उनका पहला नाटक था, जो महाभारत के ययाति चरित्र पर आधारित था.

‘तुघलक’ (1964): यह नाटक दिल्ली के सुलतान मोहम्मद बिन तुघलक की कहानी कहता है और इसे कर्नाड के सर्वश्रेष्ठ नाटकों में से एक माना जाता है.

‘हयवदन’ (1971): यह नाटक एक प्राचीन कन्नड़ लोककथा पर आधारित है और पहचान और अस्तित्व के मुद्दों को संबोधित करता है.

गिरीश कर्नाड ने फिल्म उद्योग में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया. वे न केवल एक उत्कृष्ट अभिनेता थे, बल्कि एक सफल फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक भी थे.

अभिनय:-

‘मंथन’ (1976): श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित इस फिल्म में कर्नाड ने मुख्य भूमिका निभाई.

‘स्वामी’ (1977): यह फिल्म उनकी बेहतरीन अदाकारी के लिए जानी जाती है.

‘निशांत’ (1975): इस फिल्म में भी उन्होंने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

निर्देशन:-

‘वामशवृक्ष’ (1971): इस कन्नड़ फिल्म के लिए कर्नाड को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला.

‘उत्सव’ (1984): यह हिंदी फिल्म उनकी निर्देशन प्रतिभा का उत्कृष्ट उदाहरण है.

गिरीश कर्नाड को उनके साहित्यिक और फिल्मी योगदान के लिए कई प्रतिष्ठित पुरस्कार और सम्मान मिले: – ज्ञानपीठ पुरस्कार (1998): यह भारतीय साहित्य का सर्वोच्च सम्मान है. पद्म श्री (1974) और पद्म भूषण (1992): भारतीय सरकार द्वारा दिए गए ये सम्मान उनके योगदान को मान्यता देते हैं. उन्हें फिल्म निर्देशन और पटकथा लेखन के लिए कई बार सम्मानित किया गया.

गिरीश कर्नाड का जीवन और कैरियर अद्वितीय और प्रेरणादायक था. वे अपने समाजिक और राजनीतिक दृष्टिकोण के लिए भी जाने जाते थे और कई सामाजिक मुद्दों पर खुलकर बोलते थे. गिरीश कर्नाड का योगदान भारतीय साहित्य, थियेटर और सिनेमा में अविस्मरणीय है. उनकी रचनाएँ और उनके द्वारा बनाए गए चरित्र भारतीय सांस्कृतिक धरोहर का हिस्सा हैं और आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का स्रोत रहेंगे.

5/5 - (3 votes)
:

Related Articles

Back to top button