Article

पुराने दिन…

एक बुढ़ि मां ने हाथ आटा चक्की टांचने वाले कारीगर को बुलाया. देख भाई चक्की टांचना जानता तो है ना ये पड़ी चक्की इसे ठीक कर दे, बस आज लायक दलिया बचा है, वो चूल्हे पर चढ़ा दिया है, तू इसे ठीक कर,  मैं तब तक कुए से मटकी भर लाती हूँ. ठीक है अम्मा चिंता मत कर मेरी कारीगरी के 7 गाँवों में चर्चे हैं, चक्की ऐसी टांचूंगा कि आटा पीसेगी और मैदा निकलेगी. चूल्हे पर चढ़ा तेरा दलिया भी सम्भाल लूंगा.

बुढ़िया आश्वस्त हो कुंए की तरफ पानी भरने निकल ली, और कारीगर चक्की की टंचाई करने लगा. हत्थे से निकल कर हथौड़ी उछल चूल्हे के ऊपर लटकी घी की बिलौनी पर लगी, घी सहित बिलौनी चूल्हे पर चढ़ी दलिये की हांडी पर गिरी. कारीगर हड़बड़ा गया और हड़बड़ाहट में चक्की का पाट भी टूट गया। कुछ समझ में आता, उससे पहले चूल्हे पर बिखर गए घी से लपटें उछली और फूस की छान/छत ने आग पकड़ ली और झोंपड़ी धू-धू कर जलने लगी.

कारीगर उलटे पाँव भागा और रास्ते में आती बुढ़िया से टकरा गया, जिससे उसकी मटकी गिर गयी. अरे रोऊँ तुझे,  ऐसी क्या जल्दी थी, अब रात को क्या प्यासी सोऊंगी, एक ही मटकी थी, वो भी तूने फोड़ दी. कारीगर बोला अम्मा किस- किस को रोयेगी। पानी की मटकी को रोयेगी, घी की बिलौनी को रोयेगी, दलिये की हांड़ी को रोयेगी,  टूटी चक्की को रोयेगी या जल गई अपनी झोंपड़ी को रोयेगी और कारीगर झोला उठा कर भाग छूटा. देश भी कुछ ऐसे ही हालातों में पड़ा है हिन्दुत्व के गद्दारों से लड़ोगे, घुसपैठियों से लड़ोगे, राष्ट्रद्रोहियों से लड़ोगे, टुकड़े टुकड़े गैंग से लड़ोगे, अवार्ड वापसी गैंग से लड़ोगे, बाहरी दुश्मनों से लड़ोगे या देश के अन्दर बैठे दुश्मनों से लड़ोगे.

प्रभाकर कुमार.

========== ========== ===========

Old days…

An old mother called the artisan who used to make flour mills. See, brother, he knows how to operate a mill, fix this lying mill, only porridge worth today is left, he has put it on the stove, you fix it, till then I will bring a pot full of water from the well. Okay, Amma, don’t worry, there are discussions about my workmanship in 7 villages, I will grind the mill in such a way that flour will be ground and flour will come out. I will also take care of your porridge on the stove.

The old woman got convinced and went to the well to fill the water, and the artisan started grinding the mill. Coming out of the handle, the hammer bounced and hit the ghee ball hanging on the stove, the ball with ghee fell on the porridge pot mounted on the stove. The artisan was in a panic and in the panic, the millstone also broke. Before anything could be understood, flames sprung from the ghee scattered on the stove and the thatched roof caught fire and the hut started burning in flames.

The artisan ran backward and collided with the old woman coming on the way, due to which her pot fell. Hey, should I cry for you, what was the hurry, now why will I sleep thirsty at night, there was only one pot, and you broke that too. The craftsman said Amma will cry for whom? Will cry for the pot of water, will cry for the pot of ghee, will cry for the pot of porridge, will cry for the broken mill, or will cry for the burnt hut and the artisan ran away carrying the bag. The country is also in a similar situation. Will you fight against the traitors of Hindutva, will you fight with infiltrators, will you fight with anti-nationals, will you fight with Tukde Tukde gang, will you fight with award return gang, will you fight with external enemies or will you fight with enemies sitting inside the country.

Prabhakar Kumar.

: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button