News

व्यक्ति विशेष

भाग – 164.

संगीतकार वसंत देसाई

वसंत देसाई भारतीय सिनेमा के प्रमुख संगीतकारों में से एक थे. उनका जन्म 9 जून 1912 को हुआ था और वे विशेष रूप से मराठी और हिंदी फिल्मों में अपने उत्कृष्ट संगीत योगदान के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने 1930 और 1970 के दशकों के बीच कई महत्वपूर्ण फिल्मों में संगीत दिया.

 प्रमुख फ़िल्में: –

मंथन (1976) – यह फिल्म अमूल डेयरी को-ऑपरेटिव आंदोलन के बारे में थी.

गुड्डी (1971) – यह फिल्म एक किशोरी की कहानी थी जो फिल्म अभिनेता धर्मेंद्र की बड़ी प्रशंसक होती है.

आलम आरा (1931) – यह पहली भारतीय सवाक फिल्म थी जिसमें वसंत देसाई ने संगीत दिया.

वसंत देसाई का संगीत शैली में गहराई और संवेदनशीलता के लिए जाना जाता था, जिसमें भारतीय शास्त्रीय और लोक संगीत का सुंदर मिश्रण होता था. उनका योगदान भारतीय सिनेमा के संगीत में अतुलनीय है और उनकी धुनें आज भी श्रोताओं के दिलों में बसी हुई हैं.

==========  =========  ===========

पहली महिला आईपीएस अधिकारी किरण बेदी

किरण बेदी भारतीय पुलिस सेवा (IPS) की पहली महिला अधिकारी हैं. उनका जन्म 9 जून 1949 को अमृतसर, पंजाब में हुआ था. उन्होंने 1972 में भारतीय पुलिस सेवा (IPS) में शामिल होकर इतिहास रचा. उनके कैरियर और योगदान ने उन्हें एक प्रेरणास्रोत बना दिया है.

किरण बेदी  ने दिल्ली में ट्रैफिक की समस्याओं को सुलझाने के लिए कई सुधार किए, जिसमें ट्रैफिक नियमों के सख्त पालन और यातायात व्यवस्था में सुधार शामिल था. जब वे तिहाड़ जेल की महानिदेशक बनीं, उन्होंने जेल में कई सुधार किए. उन्होंने कैदियों के लिए शिक्षा, योग, और ध्यान जैसी गतिविधियों की शुरुआत की, जिससे जेल के वातावरण में सकारात्मक परिवर्तन आया.

 पुलिस सेवा से सेवानिवृत्ति के बाद, उन्होंने सामाजिक कार्यों में सक्रिय भाग लिया। वे ‘नवज्योति इंडिया फाउंडेशन’ और ‘इंडिया विजन फाउंडेशन’ जैसी संगठनों की संस्थापक हैं, जो शिक्षा और महिला सशक्तिकरण के लिए काम करते हैं. किरन बेदी ने कई किताबें लिखी हैं और वे एक प्रेरक वक्ता भी हैं, जो विभिन्न मंचों पर अपने अनुभवों और विचारों को साझा करती हैं.

वे भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हुईं और 2015 में दिल्ली के मुख्यमंत्री पद के लिए चुनाव लड़ीं. बाद में वे पुडुचेरी की उपराज्यपाल भी बनीं और इस पद पर 2016 से 2021 तक कार्य किया. किरण बेदी का जीवन और कार्य नई पीढ़ी के लिए प्रेरणा स्रोत हैं और वे महिलाओं के लिए एक रोल मॉडल मानी जाती हैं.

==========  =========  ===========

सितार वादक अनुष्का शंकर

अनुष्का शंकर एक विश्व-प्रसिद्ध सितार वादक और संगीतकार हैं. उनका जन्म 9 जून 1981 को लंदन, इंग्लैंड में हुआ था. वे प्रसिद्ध सितार वादक रवि शंकर की बेटी हैं और उन्होंने बहुत कम उम्र से ही सितार बजाना शुरू कर दिया था. अनुष्का शंकर ने अपनी प्रतिभा और संगीत में नवाचार के लिए अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त की है.

अनुष्का ने अपने पिता, रवि शंकर से सितार बजाना सीखा। उन्होंने आठ साल की उम्र में सितार सीखना शुरू किया और 13 साल की उम्र में पहली बार मंच पर प्रदर्शन किया. अनुष्का शंकर ने कई एल्बम जारी किए हैं जिनमें “Anoushka” (1998), “Rise” (2005), “Traveller” (2011), और “Land of Gold” (2016) शामिल हैं. उनके संगीत में भारतीय शास्त्रीय संगीत के साथ-साथ पश्चिमी और अन्य संगीत शैलियों का मिश्रण होता है.

अनुष्का को उनके संगीत के लिए कई पुरस्कार मिले हैं. उन्हें ग्रैमी पुरस्कार के लिए भी नामांकित किया गया है, जो उनकी संगीत क्षमता और अंतरराष्ट्रीय पहचान का प्रमाण है. अनुष्का शंकर ने कई प्रसिद्ध संगीतकारों और कलाकारों के साथ सहयोग किया है, जिनमें नॉरा जोन्स, स्टिंग, हर्बी हैनकॉक और अन्य शामिल हैं. उन्होंने दुनिया भर में विभिन्न प्रतिष्ठित मंचों पर प्रदर्शन किया है.

अनुष्का शंकर सामाजिक और मानवाधिकार मुद्दों के प्रति भी जागरूक हैं और उन्होंने अपने संगीत के माध्यम से इन मुद्दों पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया है. अनुष्का ने न केवल भारतीय शास्त्रीय संगीत को एक नई पहचान दी है बल्कि उन्होंने विभिन्न सांस्कृतिक और संगीत शैलियों को एक साथ मिलाकर एक नई धारा भी स्थापित की है. उनका काम और योगदान संगीत की दुनिया में अत्यधिक सराहा जाता है.

==========  =========  ===========

अभिनेत्री अमीषा पटेल

अमीषा पटेल एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री और मॉडल हैं, जिन्होंने हिंदी फिल्म उद्योग में अपने अभिनय के लिए ख्याति प्राप्त की है. उनका जन्म 9 जून 1976 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था. उन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत 2000 में की और कई सफल फिल्मों में अभिनय किया।

अमीषा पटेल का जन्म एक गुजराती परिवार में हुआ था. उनके पिता का नाम अमित पटेल और माता का नाम आशा पटेल है. उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मुंबई के कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल से पूरी की और बाद में अमेरिका की टफ्ट्स यूनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री प्राप्त की.

अमीषा पटेल ने अपने कैरियर की शुरुआत 2000 में राकेश रोशन की फिल्म “कहो ना… प्यार है” से की, जिसमें उन्होंने ऋतिक रोशन के साथ मुख्य भूमिका निभाई. यह फिल्म बहुत बड़ी हिट साबित हुई और अमीषा को रातोंरात स्टार बना दिया.

प्रमुख फिल्में: –  गदर एक प्रेम कथा (2001) ,  हमराज (2002),  आप मुझे अच्छे लगने लगे (2002)…

अमीषा पटेल ने अपने कैरियर में कई पुरस्कार जीते हैं, जिनमें “कहो ना… प्यार है” और “गदर: एक प्रेम कथा” के लिए सर्वश्रेष्ठ नवोदित अभिनेत्री और सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के पुरस्कार शामिल हैं.

अमीषा ने थिएटर में भी काम किया है और उन्होंने कुछ सामाजिक और धर्मार्थ संगठनों के साथ भी काम किया है. उन्होंने प्रोडक्शन हाउस “अमीषा पटेल प्रोडक्शंस” भी शुरू किया. अमीषा का फिल्मी कैरियर के अलावा निजी जीवन भी सुर्खियों में रहा है. उन्होंने फिल्म उद्योग में अपने लंबे कैरियर के दौरान कई ऊंचाइयों और निचाइयों का सामना किया है.

अमीषा पटेल ने अपने अभिनय और कड़ी मेहनत से भारतीय फिल्म उद्योग में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है उनका योगदान और उनकी फिल्में दर्शकों के दिलों में हमेशा बनी रहेंगी.

==========  =========  ===========

अभिनेत्री सोनम कपूर

सोनम कपूर एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री और फैशन आइकन हैं, जिन्हें हिंदी फिल्म उद्योग में उनके काम के लिए जाना जाता है. उनका जन्म 9 जून 1985 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था. वह प्रसिद्ध अभिनेता अनिल कपूर और सुनीता कपूर की बेटी हैं.

सोनम कपूर का जन्म मुंबई में हुआ था और उनका पालन-पोषण भी वहीं हुआ. उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा आर्य विद्या मंदिर स्कूल, जुहू से प्राप्त की और बाद में सिंगापुर के यूनाइटेड वर्ल्ड कॉलेज ऑफ साउथ ईस्ट एशिया से इंटरनेशनल बैकलेरियेट की पढ़ाई की. उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट लंदन से राजनीतिक विज्ञान और अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री प्राप्त की.

सोनम कपूर ने 2007 में संजय लीला भंसाली की फिल्म “सांवरिया” से बॉलीवुड में अपने कैरियर की शुरुआत की, जिसमें उनके साथ रणबीर कपूर ने भी अभिनय किया। हालांकि यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर असफल रही, लेकिन सोनम के अभिनय को सराहा गया.

प्रमुख फिल्में:-

दिल्ली-6 (2009): इस फिल्म में उनके अभिनय को समीक्षकों ने काफी सराहा

आयशा (2010): यह फिल्म जेन ऑस्टेन के उपन्यास ‘एमा’ पर आधारित थी और इसमें सोनम ने मुख्य भूमिका निभाई.

रांझणा (2013): इस फिल्म में उनके अभिनय को व्यापक प्रशंसा मिली और यह उनके करियर की एक महत्वपूर्ण फिल्म मानी जाती है.

भाग मिल्खा भाग (2013): इस फिल्म में उन्होंने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बड़ी हिट साबित हुई.

नीरजा (2016): इस बायोपिक फिल्म में उन्होंने नीरजा भनोट की भूमिका निभाई, जिसके लिए उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार सहित कई पुरस्कार मिले.

सोनम कपूर को उनके उत्कृष्ट अभिनय के लिए कई पुरस्कार मिले हैं, जिनमें “नीरजा” के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और फिल्मफेयर पुरस्कार शामिल हैं. सोनम कपूर अपने फैशन सेंस के लिए भी जानी जाती हैं और वे अक्सर विभिन्न फैशन शोज और इवेंट्स में शामिल होती हैं. उन्हें कई बार ‘बॉलीवुड की फैशन क्वीन’ कहा गया है.

सोनम कपूर ने 2018 में व्यवसायी आनंद आहूजा से शादी की. वे अक्सर सोशल मीडिया पर अपने व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन की झलकियां साझा करती हैं. सोनम ने अपनी प्रतिभा और फैशन सेंस से फिल्म उद्योग में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है. वे युवा पीढ़ी के लिए एक प्रेरणा स्रोत हैं और उनके योगदान को हमेशा सराहा जाएगा.

==========  =========  ===========

गीतकार असद भोपाली

असद भोपाली भारतीय सिनेमा के एक प्रसिद्ध गीतकार थे, जिन्होंने कई लोकप्रिय हिंदी फिल्मों के लिए गीत लिखे. उनका असली नाम असदुल्लाह ख़ान था और उनका जन्म 10 जुलाई 1921 को भोपाल, मध्य प्रदेश में हुआ था. असद भोपाली ने अपनी कविताओं और गीतों के माध्यम से भारतीय फिल्म उद्योग में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया.

असद भोपाली का जन्म एक शिक्षित परिवार में हुआ था. उनके पिता मोहम्मद ख़ान एक कवि थे, जिनसे असद को साहित्य और कविता का संस्कार मिला.असद भोपाली ने 1949 में फिल्म “डोली” के लिए गीत लिखकर अपने कैरियर की शुरुआत की. इसके बाद उन्होंने कई फिल्मों में गीत लिखे और अपनी अलग पहचान बनाई.

प्रमुख गीत और फिल्में: –

फिल्म “तुमसा नहीं देखा” (1957): इस फिल्म के गीत “सर पर टोपी लाल” और “देख कसम से” बहुत लोकप्रिय हुए.

फिल्म “दिल देके देखो” (1959): इस फिल्म में उन्होंने “दिल देके देखो दिल देगा धोखा” जैसे मशहूर गीत लिखे.

फिल्म “कटी पतंग” (1971): इस फिल्म का गीत “ये शाम मस्तानी” असद भोपाली का लिखा हुआ है, जो आज भी बहुत लोकप्रिय है.

फिल्म “रात और दिन” (1967): इस फिल्म के गीत “दिल की गिरह खोल दो” ने भी काफी प्रसिद्धि पाई.

असद भोपाली के गीतों में सादगी, गहराई और भावनात्मकता होती थी. वे अपने गीतों में सरल शब्दों का उपयोग करते हुए गहरी भावनाओं को व्यक्त करने में माहिर थे. असद भोपाली ने अपने कैरियर के दौरान कई पुरस्कार जीते, जिसमें फिल्मफेयर पुरस्कार भी शामिल हैं.

असद भोपाली का व्यक्तिगत जीवन भी उनके गीतों की तरह ही सादगीपूर्ण था. उन्होंने अपने जीवन में साहित्य और कविता के प्रति गहरा प्रेम बनाए रखा और अपनी कला को समर्पित रहे. असद भोपाली का निधन 9 जून 1990 को हुआ, लेकिन उनके गीत आज भी लोगों के दिलों में बसे हुए हैं और उन्हें एक महान गीतकार के रूप में याद किया जाता है.

असद भोपाली ने भारतीय सिनेमा में अपने योगदान से एक अमिट छाप छोड़ी है और उनके गीत सदाबहार रहेंगे. उनकी कविताएँ और गीत आज भी संगीत प्रेमियों के बीच अत्यधिक प्रिय हैं.

==========  =========  ===========

निर्देशक राज खोसला

राज खोसला भारतीय सिनेमा के एक प्रमुख निर्देशक और निर्माता थे, जिन्होंने 1950 से 1980 के दशक के बीच कई सफल और यादगार फिल्में बनाईं. उनका जन्म 31 मई 1925 को पंजाब, ब्रिटिश भारत (अब पाकिस्तान में) में हुआ था. राज खोसला अपनी विशिष्ट फिल्म निर्माण शैली और विभिन्न फिल्म शैलियों में काम करने के लिए जाने जाते हैं.

राज खोसला का प्रारंभिक जीवन पंजाब में बीता. उन्होंने अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत गुरुदत्त के सहायक निर्देशक के रूप में की. राज खोसला ने अपने निर्देशन कैरियर की शुरुआत 1955 में फिल्म “मिलाप” से की. इसके बाद उन्होंने कई हिट फिल्में दीं जो आज भी दर्शकों के दिलों में बसी हुई हैं.

प्रमुख फिल्में: –

सी.आई.डी. (1956): इस फिल्म ने उन्हें निर्देशकीय रूप से स्थापित किया फिल्म में देव आनंद और शकीला ने प्रमुख भूमिकाएं निभाईं

वो कौन थी? (1964): यह एक सस्पेंस थ्रिलर थी जिसमें साधना और मनोज कुमार ने अभिनय किया। इसके गाने “लग जा गले” और “नैना बरसे” आज भी लोकप्रिय हैं.

मेरा साया (1966): इस फिल्म में सुनील दत्त और साधना ने अभिनय किया और इसका गाना “झुमका गिरा रे” बेहद मशहूर हुआ.

दो रास्ते (1969): यह एक पारिवारिक ड्रामा फिल्म थी जिसमें राजेश खन्ना और मुमताज ने मुख्य भूमिकाएं निभाईं.

दो बदन (1966): इस रोमांटिक ड्रामा फिल्म में आशा पारेख और मनोज कुमार ने अभिनय किया.

मेरा गांव मेरा देश (1971): इस फिल्म में धर्मेंद्र और आशा पारेख ने मुख्य भूमिकाएं निभाईं और फिल्म का गाना “हाए शरमाएं” लोकप्रिय हुआ.

मैं तुलसी तेरे आंगन की (1978): यह एक पारिवारिक ड्रामा फिल्म थी जिसमें नूतन और विनोद खन्ना ने मुख्य भूमिकाएं निभाईं.

राज खोसला अपनी फिल्मों में सस्पेंस, थ्रिलर और म्यूजिकल रोमांस के अनूठे मिश्रण के लिए जाने जाते थे. उनकी फिल्मों में कहानी की गहराई और संगीत की महत्वपूर्ण भूमिका होती थी. वे अपने निर्देशन में विभिन्न शैलियों का उपयोग करने में निपुण थे, चाहे वह सस्पेंस थ्रिलर हो, म्यूजिकल रोमांस हो या पारिवारिक ड्रामा हो.

राज खोसला को उनके उत्कृष्ट निर्देशन के लिए कई पुरस्कार मिले. उन्हें फिल्मफेयर पुरस्कार भी प्राप्त हुए और भारतीय सिनेमा में उनके योगदान को व्यापक रूप से सराहा गया.

राज खोसला का निधन 9 जून 1991 को हुआ. उनकी फिल्मों ने उन्हें भारतीय सिनेमा में एक महत्वपूर्ण स्थान दिलाया और उनके निर्देशन का अंदाज आज भी नई पीढ़ी के निर्देशकों के लिए प्रेरणा स्रोत बना हुआ है. राज खोसला ने भारतीय सिनेमा को कई उत्कृष्ट फिल्में दीं और उनकी विशिष्ट शैली ने उन्हें एक महान निर्देशक के रूप में स्थापित किया. उनकी फिल्मों की धुनें, कहानियाँ और निर्देशन आज भी दर्शकों के बीच प्रिय हैं.

==========  =========  ===========

फ़िल्म निर्देशक सत्येन बोस

सत्येन बोस भारतीय फिल्म उद्योग के एक प्रसिद्ध निर्देशक थे, जिन्होंने हिंदी और बांग्ला सिनेमा में अपनी विशेष छाप छोड़ी. उनका जन्म 22 जनवरी 1916 को हुआ था. वे अपने संवेदनशील निर्देशन, समाजिक मुद्दों पर आधारित फिल्मों और मनोरंजक सिनेमा के लिए जाने जाते हैं.

सत्येन बोस का जन्म और पालन-पोषण भारत में हुआ. उनकी प्रारंभिक शिक्षा और फिल्म निर्माण में रुचि ने उन्हें फिल्म उद्योग की ओर आकर्षित किया. सत्येन ने अपने निर्देशन कैरियर की शुरुआत बांग्ला फिल्मों से की. उनकी पहली उल्लेखनीय फिल्म “परिवर्तन” (1949) थी, जो बांग्ला सिनेमा में सफल रही. बाद में उन्होंने हिंदी फिल्मों में भी काम करना शुरू किया.

प्रमुख फिल्में:

जागृति (1954): यह फिल्म भारतीय शिक्षा प्रणाली और स्वतंत्रता संग्राम पर आधारित थी. फिल्म ने सर्वश्रेष्ठ फिल्म का फिल्मफेयर पुरस्कार जीता और इसका गीत “आओ बच्चों तुम्हें दिखाएँ” आज भी प्रसिद्ध है.

चलती का नाम गाड़ी (1958): यह कॉमेडी फिल्म किशोर कुमार, अशोक कुमार और अनुप कुमार के अभिनय से सजी थी. यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल रही और आज भी एक क्लासिक मानी जाती है.

दूर गगन की छांव में (1964): इस फिल्म में किशोर कुमार ने निर्देशन, अभिनय और संगीत दिया.

आराधना (1969): यह फिल्म शर्मिला टैगोर और राजेश खन्ना के अभिनय से सजी थी. सत्येन बोस की देखरेख में यह फिल्म बनी और यह बॉक्स ऑफिस पर बड़ी हिट साबित हुई.

दास्तान (1972): इस फिल्म में दिलीप कुमार और शर्मिला टैगोर ने मुख्य भूमिकाएं निभाईं.

सत्येन बोस सामाजिक मुद्दों पर आधारित फिल्मों के लिए जाने जाते थे. उनकी फिल्मों में कहानी की गहराई और मानवीय भावनाओं का सुंदर चित्रण होता था. वे कॉमेडी, ड्रामा, और समाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाने में निपुण थे. सत्येन बोस को उनके उत्कृष्ट निर्देशन के लिए कई पुरस्कार मिले. उनकी फिल्म “जागृति” ने उन्हें फिल्मफेयर पुरस्कार दिलाया और अन्य फिल्मों ने भी उन्हें व्यापक प्रशंसा दिलाई.

सत्येन बोस ने अपने जीवन में सादगी और विनम्रता को महत्व दिया. वे अपने कार्य में पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ जुड़े रहे. सत्येन बोस का निधन 9 जून 1993 को हुआ. उनकी फिल्मों ने उन्हें भारतीय सिनेमा में एक महत्वपूर्ण स्थान दिलाया और उनके योगदान को आज भी सराहा जाता है.

सत्येन बोस ने अपने संवेदनशील निर्देशन और समाजिक मुद्दों पर आधारित फिल्मों के माध्यम से भारतीय सिनेमा में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उनकी फिल्मों की कहानियाँ और निर्देशन शैली आज भी दर्शकों के बीच लोकप्रिय हैं.

==========  =========  ===========

राजनीतिज्ञ ललितेश्वर प्रसाद शाही

ललितेश्वर प्रसाद शाही एक भारतीय राजनेता थे, जिन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य के रूप में भारतीय राजनीति में महत्वपूर्ण योगदान दिया. उनका जन्म 1 अक्टूबर 1920 को हुआ था. शाही ने कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया और अपने राजनीतिक कैरियर के दौरान विभिन्न सामाजिक और विकासात्मक मुद्दों पर काम किया.

ललितेश्वर प्रसाद शाही का जन्म एक शिक्षित और प्रतिष्ठित परिवार में हुआ था. उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा और उच्च शिक्षा प्राप्त करने के बाद राजनीति में कदम रखा. ललितेश्वर प्रसाद शाही भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए और अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की. उन्होंने पार्टी के विभिन्न पदों पर कार्य किया और अपनी निष्ठा और समर्पण से पार्टी में महत्वपूर्ण स्थान बनाया.

शाही कई बार भारतीय संसद के सदस्य रहे. वे लोकसभा और राज्यसभा दोनों में चुने गए और विभिन्न संसदीय समितियों में अपनी सेवाएं दीं. उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्रों के विकास के लिए महत्वपूर्ण कार्य किए.

ललितेश्वर प्रसाद शाही ने विभिन्न समय पर केंद्रीय मंत्रिमंडल में मंत्री पद भी संभाला. वे शिक्षा, संस्कृति और सामाजिक कल्याण जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालयों में मंत्री रहे. उनके कार्यकाल के दौरान, उन्होंने शिक्षा और सांस्कृतिक विकास के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण पहल कीं. शाही ने अपने राजनीतिक कैरियर के अलावा समाज सेवा में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया. उन्होंने ग्रामीण विकास, शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्रों में कई सामाजिक परियोजनाओं का समर्थन किया और उन्हें सफलतापूर्वक लागू किया.

 शाही ने अपने विचारों और अनुभवों को लेखन के माध्यम से भी साझा किया. उन्होंने विभिन्न सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर लेख और पुस्तकें लिखीं, जो उनके गहरे विचारशीलता और ज्ञान का परिचायक हैं. ललितेश्वर प्रसाद शाही का निधन 9 जून 2018 को हुआ. उनके निधन से भारतीय राजनीति और समाज सेवा में एक महत्वपूर्ण युग का अंत हो गया.

ललितेश्वर प्रसाद शाही ने अपने जीवन के माध्यम से भारतीय राजनीति और समाज सेवा में महत्वपूर्ण योगदान दिया. उनका जीवन और कार्य आज भी कई लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत हैं और उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा.

5/5 - (5 votes)
:

Related Articles

Back to top button