News

व्यक्ति विशेष

भाग – 163.

अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया

डिंपल कपाड़िया एक भारतीय अभिनेत्री हैं जो मुख्य रूप से हिंदी फिल्मों में काम करती हैं. उनका जन्म 8 जून 1957 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था. डिंपल ने अपने अभिनय कैरियर की शुरुआत 1973 में राज कपूर की फिल्म “बॉबी” से की थी. इस फिल्म में उनके प्रदर्शन के लिए उन्हें बहुत सराहा गया और वह रातों-रात एक स्टार बन गईं.

प्रमुख फिल्में: – बॉबी (1973), सागर (1985), राम लखन (1989), दिल चाहता है (2001), लीला (2002) और  दसविहं (2022).

डिंपल कपाड़िया ने न केवल व्यावसायिक फिल्मों में काम किया है, बल्कि कई आर्ट फिल्मों में भी अभिनय किया है. उनकी अभिनय प्रतिभा और खूबसूरती ने उन्हें बॉलीवुड की प्रमुख अभिनेत्रियों में से एक बनाया. उन्होंने अपने कैरियर में कई पुरस्कार जीते हैं और उन्हें हमेशा एक प्रभावशाली और बहुमुखी अभिनेत्री के रूप में याद किया जाएगा.

==========  =========  ===========

अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी

शिल्पा शेट्टी एक जानी-मानी भारतीय अभिनेत्री और मॉडल हैं. उन्होंने मुख्य रूप से हिंदी फिल्मों में काम किया है, लेकिन वह कन्नड़, तेलुगू, और तमिल फिल्मों में भी नजर आई हैं. शिल्पा शेट्टी का जन्म 8 जून 1975 को मैंगलोर, कर्नाटक में हुआ था. शिल्पा शेट्टी ने 2009 में राज कुंद्रा से शादी की, जो एक बिजनेसमैन हैं. उनके दो बच्चे हैं.

शिल्पा शेट्टी ने अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत 1993 में फिल्म “बाज़ीगर” से की थी. इसके बाद उन्होंने “मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी”, “धड़कन”, “फिर मिलेंगे”, और “लाइफ इन अ… मेट्रो” जैसी कई हिट फिल्मों में काम किया. शिल्पा ने 2007 में ब्रिटिश रियलिटी शो “बिग ब्रदर” जीता, जिससे उनकी अंतर्राष्ट्रीय पहचान बढ़ी.

शिल्पा शेट्टी योगा और फिटनेस के क्षेत्र में भी सक्रिय हैं. उन्होंने कई योगा डीवीडी रिलीज़ की हैं और फिटनेस पर किताबें भी लिखी हैं. शिल्पा ने कई सामाजिक कार्यों में भी योगदान दिया है, जैसे कि एड्स जागरूकता और पशु अधिकारों के लिए अभियान.

==========  =========  ===========

पटकथा लेखक, नाट्य निर्देशक, कवि और अभिनेता हबीब तनवीर

हबीब तनवीर एक प्रमुख भारतीय पटकथा लेखक, नाट्य निर्देशक, कवि और अभिनेता थे. उन्हें भारतीय रंगमंच में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है. उन्होंने थिएटर के माध्यम से सामाजिक और सांस्कृतिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया और ग्रामीण और पारंपरिक भारतीय थिएटर को आधुनिक थिएटर के साथ जोड़ा.

हबीब तनवीर का जन्म 1 सितंबर 1923 को रायपुर, छत्तीसगढ़ में हुआ था. उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा रायपुर और नागपुर में प्राप्त की. बाद में, उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी उच्च शिक्षा प्राप्त की.

हबीब तनवीर ने 1959 में “नया थिएटर” की स्थापना की. इस समूह ने छत्तीसगढ़ी लोक कलाकारों और पारंपरिक कला रूपों का उपयोग करके नए और सशक्त नाटकों का निर्माण किया. उनकी सबसे प्रसिद्ध रचनाओं में से एक “चरणदास चोर” (1975) है, जिसने अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त की और कई पुरस्कार जीते. उनके नाटकों में सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों का प्रमुखता से चित्रण होता था.

हबीब तनवीर एक प्रतिष्ठित कवि भी थे. उनकी कविताएँ गहरे सामाजिक और सांस्कृतिक विषयों पर आधारित होती थीं. उन्होंने उर्दू और हिंदी में कई कविताएँ लिखीं और अपने नाटकों के माध्यम से उनकी कविताओं को जीवंत किया.

हबीब तनवीर ने कुछ हिंदी फिल्मों में भी अभिनय किया और पटकथा लेखन में भी हाथ आजमाया. उनकी अभिनय कला को भी सराहा गया. हबीब तनवीर को उनके योगदान के लिए कई प्रतिष्ठित पुरस्कार मिले, जिनमें “पद्म श्री” (1983) और “पद्म भूषण” (2002) शामिल हैं. उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और कालिदास सम्मान भी प्राप्त हुआ.

हबीब तनवीर का निधन 8 जून 2009 को हुआ. उनकी विरासत आज भी जीवित है और उनके नाटकों और कविताओं के माध्यम से लोग प्रेरित होते रहते हैं. हबीब तनवीर ने भारतीय रंगमंच और साहित्य को एक नई दिशा दी और उनकी कृतियाँ आज भी प्रासंगिक हैं.

5/5 - (3 votes)
:

Related Articles

Back to top button