Apni Virasat

विश्व बालश्रम निषेध दिवस

विश्व बालश्रम निषेध दिवस (World Day Against Child Labour) हर वर्ष  12 जून को मनाया जाता है. इस दिवस का उद्देश्य बालश्रम के खिलाफ जागरूकता बढ़ाना और इसे समाप्त करने के लिए प्रयास करना है. यह दिवस अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) द्वारा 2002 में शुरू किया गया था और तब से हर साल इसे वैश्विक स्तर पर मनाया जाता है.

बालश्रम के मुद्दों के बारे में जागरूकता फैलाना और यह बताना कि बालश्रम बच्चों के शारीरिक, मानसिक और नैतिक विकास को कैसे प्रभावित करता है.बालश्रम को समाप्त करने के लिए आवश्यक नीतियों और कानूनों का समर्थन जुटाना. बालश्रम में फंसे बच्चों को शिक्षा और सुरक्षा प्रदान करना और उन्हें उनके अधिकारों के बारे में जागरूक करना.

बालश्रम के कारण और प्रभाव: – आर्थिक तंगी और गरीबी के कारण कई परिवार अपने बच्चों को काम पर भेजने के लिए मजबूर होते हैं. शिक्षा की कमी और स्कूलों की अनुपलब्धता भी बच्चों को काम पर जाने के लिए मजबूर करती है. कुछ स्थानों पर सामाजिक और सांस्कृतिक मान्यताओं के कारण भी बालश्रम को बढ़ावा मिलता है.

प्रभाव: –  शारीरिक और मानसिक विकास पर प्रभाव: बालश्रम बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास को बाधित करता है. बालश्रम के कारण बच्चे शिक्षा से वंचित रह जाते हैं, जिससे उनका भविष्य प्रभावित होता है. कठोर परिश्रम और अस्वास्थ्यकर कार्यस्थल पर काम करने से बच्चों के स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ता है.

उपाय और प्रयास: –  ILO के प्रयास: ILO ने बालश्रम को समाप्त करने के लिए कई कार्यक्रम और नीतियाँ बनाई हैं, जिनमें ‘International Programme on the Elimination of Child Labour (IPEC)’ प्रमुख है. संयुक्त राष्ट्र बाल अधिकार सम्मेलन (UNCRC) के माध्यम से भी बच्चों के अधिकारों की सुरक्षा और बालश्रम के खिलाफ कदम उठाए जा रहे हैं.

राष्ट्रीय प्रयास: – कई देशों ने बालश्रम को प्रतिबंधित करने के लिए सख्त कानून बनाए हैं और इन कानूनों का पालन सुनिश्चित करने के लिए तंत्र स्थापित किए हैं. बालश्रम को समाप्त करने के लिए शिक्षा का प्रावधान सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है. बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा प्रदान करना एक महत्वपूर्ण कदम है.

स्थानीय समुदायों में जागरूकता फैलाकर और बालश्रम के खिलाफ आवाज उठाकर समाज इस समस्या को समाप्त करने में योगदान दे सकता है. विभिन्न गैर-सरकारी संगठन (NGOs) बालश्रम को समाप्त करने के लिए कार्य कर रहे हैं. इन संगठनों के साथ मिलकर काम करना और उनके प्रयासों को समर्थन देना महत्वपूर्ण है.

विश्व बालश्रम निषेध दिवस पर हम सभी का यह कर्तव्य है कि हम बालश्रम को समाप्त करने के लिए हर संभव प्रयास करें और बच्चों को सुरक्षित और स्वस्थ बचपन प्रदान करें. बच्चों का भविष्य उनके हाथ में है, और हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे बिना किसी बाधा के अपने सपनों को पूरा कर सकें.

==========  =========  ==============

World Day against Child Labour

World Day against Child Labour is celebrated every year on 12 June. The purpose of this day is to raise awareness against child labour and make efforts to end it. This day was started by the International Labour Organization (ILO) in 2002 and since then it is celebrated globally every year.

To spread awareness about child labour issues and explains how child labour affects the physical, mental and moral development of children. To mobilize support for policies and laws necessary to end child labour. To provide education and protection to children trapped in child labour and make them aware of their rights.

Causes and effects of child labour: – Due to financial constraints and poverty, many families are forced to send their children to work. Lack of education and unavailability of schools also force children to go to work. In some places, child labour is also promoted due to social and cultural beliefs.

Effects: – Effects on physical and mental development: Child labour impedes the physical and mental development of children. Due to child labour, children are deprived of education, which affects their future. Working in hard labour and unhealthy workplace has a serious impact on the health of children.

Measures and efforts: – ILO efforts: ILO has created many programmes and policies to eliminate child labour, among which ‘International Programme on the Elimination of Child Labour (IPEC)’ is prominent. Steps are also being taken to protect the rights of children and against child labour through the United Nations Convention on the Rights of the Child (UNCRC).

National efforts: – Many countries have made strict laws to prohibit child labour and have established mechanisms to ensure compliance with these laws. Ensuring the provision of education is important to eliminate child labour. Providing free and compulsory education to children is an important step.

Society can contribute to ending this problem by spreading awareness in local communities and raising voice against child labour. Various non-governmental organizations (NGOs) are working to eliminate child labour. It is important to work together with these organizations and support their efforts.

On World Day against Child Labour, it is the duty of all of us to do everything possible to eliminate child labour and provide children with a safe and healthy childhood. The future of children is in their hands, and we must ensure that they can fulfill their dreams without any hindrance.

==========  =========  ===========

विश्व बालश्रम निषेध दिवस का मुख्य उद्देश्य बालश्रम के खिलाफ जागरूकता बढ़ाना और इसे समाप्त करने के लिए प्रयास करना है.

The main objective of World Day against Child Labour is to raise awareness against child labour and make efforts to end it.

Link:

 

 

5/5 - (1 vote)
:

Related Articles

Back to top button