Dharm

सुन्दरकाण्ड-17-3

समुन्द्र पार करने के लिए विचार-03.

दोहा: –

कहेहु मुखागर मूढ़ सन मम संदेसु उदार।

सीता देइ मिलेहु न त आवा काल तुम्हार ।।

वाल्व्यास सुमन जी महाराज श्लोक का अर्थ बताते हुए कहते है कि, फिर उस मूर्ख से मुहँजबानी यह मेरा कृपा से भरा हुआ संदेश कहना कि सीता जी को देकर उनसे( श्रीरामचंद्रजी से  )मिलो  , नहीं तो तुम्हारा काल आ गया है समझो !

चौपाई: –

तुरत नाइ लछिमन पद माथा। चले दूत बरनत गुन गाथा।।

कहत राम जसु लंकाँ आए। रावन चरन सीस तिन्ह नाए ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराज जी कहते है कि, लक्ष्मणजी के चरणो में मस्तक नवाकर, श्रीरामचंद्रजी के गुणो की कथा का वर्णन करते हुए दूत तुरन्त ही चल दिए. श्रीरामचंद्रजी का यश कहते हुए वे लंका में आए और उन्होने रावण के चरणो में सिर नवाए.

बिहसि दसानन पूँछी बाता। कहसि न सुक आपनि कुसलाता।।

पुनि कहु खबरि बिभीषन केरी। जाहि मृत्यु आई अति नेरी ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराज जी कहते है कि , दशमुख रावण ने हँसकर बात पूछी – अरे शुक ! अपनी कुशल क्यो नही कहता? फिर उस विभीषण का समाचार सुना, मृत्यु जिसके अत्यंत निकट आ गई है.

करत राज लंका सठ त्यागी। होइहि जब कर कीट अभागी।।

पुनि कहु भालु कीस कटकाई। कठिन काल प्रेरित चलि आई ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराज जी कहते है कि, मूर्ख ने राज्य करते हुए लंका को त्याग दिया. अभागा अब जौ का कीड़ा बनेगा. जैसे जौ के साथ घुन भी पिस जाता है, वैसे ही नर-वानरो के साथ वह भी मारा जाएगा, फिर भालु और वानरो की सेना का हाल कह, जो कठिन काल की प्रेरणा से यहाँ चली आई है.

जिन्ह के जीवन कर रखवारा। भयउ मृदुल चित सिंधु बिचारा।।

कहु तपसिन्ह कै बात बहोरी। जिन्ह के हृदयँ त्रास अति मोरी ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराज जी कहते है कि, और जिनके जीवन का रक्षक कोमल चित्त वाला बेचारा समुन्द्र बन गया है या यूँ कहें कि उनके और राक्षसो के बीच में यदि समुन्द्र न होता तो अब तक राक्षस उन्हे मारकर खा गए होते. फिर उन तपस्वियो की बात बता, जिनके हृदय में  मेरा बड़ा डर है.

वाल व्यास सुमन जी महाराज,

महात्मा भवन, श्रीरामजानकी मंदिर,

राम कोट, अयोध्या. 8709142129.

==========  =========  ===========

Samundr Paar Karane Ke Lie Vichaar-03

Doha: –

Kahehu Mukhaagar Moodh San Mam Sandesu Udaar

Seeta Dei Milehu Na Ta Aava Kaal Tumhaar ।।

Vaal vyaas suman jee mahaaraaj shlok ka arth bataate hue kahate hai ki, phir us moorkh se muhanjabaanee yah mera kripa se bhara hua sandesh kahana ki seeta jee ko dekar unase (shreeraamachandrajee se) milo, nahin to tumhaara kaal aa gaya hai samajho!

Choupai: –

Turat Nai Lachhiman Pad MaathaChale Doot Baranat Gun Gaatha।।

Kahat Raam Jasu Lankaan aaeRaavan Charan Sees Tinh Nae ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraaj jee kahate hai ki, lakshmanajee ke charano mein mastak navaakar, shreeraamachandrajee ke guno kee katha ka varnan karate hue doot turant hee chal die. Shreeraamachandrajee ka yash kahate hue ve lanka mein aae aur unhone raavan ke charano mein sir navae.

Bihasee Dasaanan Poonchhee BaataKahasi Na Suk Aapani Kusalata।।

Puni Kahu Khabari Bibheeshan KereeJaahi Mrityu Aai Ati Neree।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraaj jee kahate hai ki, dashamukh raavan ne hansakar baat poochhee – are shuk! Apanee kushal kyo nahee kahata? Phir us vibheeshan ka samaachaar suna, mrityu jisake atyant nikat aa gaee hai.

Karat Raaj Lanka Sath TyaageeHoihi Jab Kar Keet Abhaagee।।

Puni Kahu Bhaalu Kees KatakaeeKathin Kaal Prerit Chali Aaee ।।

Shlok ka arth bataate huye mahaaraaj jee kahate hai ki, moorkh ne raajy karate hue lanka ko tyaag diya. abhaaga ab jau ka keeda banega. jaise jau ke saath ghun bhee pis jaata hai, vaise hee nar-vaanaro ke saath vah bhee maara jaega, phir bhaalu aur vaanaro kee sena ka haal kah, jo kathin kaal kee prerana se yahaan chalee aaee hai.

Jinh Ke Jeevan Kar RakhavaaraBhayu Mridul Chit Sindhu Bichaara।।

Kahu Tapasinh Kai Baat BahoreeJinh Ke Hridayan Traas Ati Moree ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraaj jee kahate hai ki, aur jinake jeevan ka rakshak komal chitt vaala bechaara samundr ban gaya hai ya yoon kahen ki unake aur raakshaso ke beech mein yadi samundr na hota to ab tak raakshas unhe maarakar kha gae hote. phir un tapasviyo kee baat bata, jinake hrday mein mera bada dar hai.

Valvyas Sumanji Maharaj,

Mahatma Bhavan,

Shri Ram-Janaki Temple,

Ram Kot, Ayodhya. 8709142129.

: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button