Dharm

सुन्दरकाण्ड-15-2.

रावण को विभीषण का समझाना और विभीषण का अपमान-02

दोहा:

बार बार पद लागउँ बिनय करउँ दससीस।

परिहरि मान मोह मद भजहु कोसलाधीस ।।

वाल व्यास सुमनजी महाराज,श्लोक का अर्थ बताते हुए कहते है कि, हे दशशीश ! मै बार-बार आपके चरण लगता हूँ और विनती करता हूँ कि मान, मोह और मद को त्यागकर आप कोसलपति श्रीरामजी का भजन कीजिए.

मुनि पुलस्ति निज सिष्य सन कहि पठई यह बात।

तुरत सो मैं प्रभु सन कही पाइ सुअवसरु तात ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, मुनि पुलस्त्यजी ने अपने शिष्य के हाथ यह बात कहला भेजी है. हे तात अवसर बहुत ही अच्छा है इसीलिए मैंने जल्दी ही आकर आपको यह बात आपसे बता दी. 

चौपाई:

माल्यवंत अति सचिव सयाना। तासु बचन सुनि अति सुख माना ।।

तात अनुज तव नीति बिभूषन। सो उर धरहु जो कहत बिभीषन ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, माल्यवान् नाम का एक बहुत ही बुद्धिमान मंत्री था. उसने विभीषण के वचन को सराहते हुए कहा–  हे तात ! आपके छोटे भाई की नीति को भूषण रूप मे धारण करने वाले अर्थात् नीतिमान है. विभूषण जो कुछ कह रहे है उसे हृदय मे धारण कर लीजिए.

रिपु उतकरष कहत सठ दोऊ। दूरि न करहु इहाँ हइ कोऊ ।।

माल्यवंत गृह गयउ बहोरी। कहइ बिभीषनु पुनि कर जोरी ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, तब रावन ने कहा – ये दोनो मूर्ख शत्रु की महिमा बखान रहे है. यहाँ कोई है? इन्हे दूर करो ना ! तब माल्यबान तो घर लौट गए! और बिभीषणजी हाथन जोड़कर फिर से कहने लगे.

सुमति कुमति सब कें उर रहहीं। नाथ पुरान निगम अस कहहीं ।।

जहाँ सुमति तहँ संपति नाना। जहाँ कुमति तहँ बिपति निदाना ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि,हे नाथ ! पुराण और वेद ऐसा कहते है कि सुबुद्धि और कुबुद्धि सबके हृदय मे रहती है, जहाँ सुबुद्धि है, वहाँ नाना प्रकार की संपदाएँ रहती है और जहाँ कुबुद्धि है वहाँ परिणाम मे विपत्ति यानी दुःख रहती है.

तव उर कुमति बसी बिपरीता। हित अनहित मानहु रिपु प्रीता ।।

कालराति निसिचर कुल केरी। तेहि सीता पर प्रीति घनेरी ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, आपके हृदय मे उलटी बुद्धि आ बसी है. इसी से आप हित को अहित और शत्रु को मित्र मान रहे है. जो राक्षस कुल के लिए कालरात्रि के समान  है, उन सीता पर आपकी बड़ी प्रीति है.

वाल व्यास सुमनजीमहाराज,

महात्मा भवन,

श्रीराम-जानकी मंदिर,

राम कोट, अयोध्या.

Mob: – 8709142129.

========== ========== ===========

Vibhushan’s explanation to Ravana and Vibhushan’s insult- 02.

Doha: –

Baar Baar Pad Lagaun Binay Karaun Dasasis

Parihari Man Moh Mad Bhajahu Kosaladhis।।

Wal wyas sumanaji mahaaraj, shlok ka arth bataate hue kahate hai ki, he dashasheesh ! mai baar-baar aapake charan lagata hoon aur vinatee karata hoon ki maan, moh aur mad ko tyaagakar aap kosalapati shreeraamajee ka bhajan keejie.

Muni Pulasty Nij Sishy San Kahi Pathee Yah Baat

Turat So Main Prabhu San Kahee Pai SuavasaruTaat।।

Shlok ka arth batate hue mahaaraj jee kahate hai ki, muni pulasty ji ne apane shishy ke hath yah baat kahala bheji hai. He taat avasar bahut hi achchha hai iseelie mainne jaldi hi aakar aapako yah baat aapase bata di.

Choupai: –

Maalyaavant Ati Sachiv SayaanaTaasu Bachan Suni Ati Sukh Maana।।

Taat Anuj Tav Neeti VibhooshanSo Ur Dharahu Jo Kahat Bibheeshan।।

Shlok ka arth batate huye mahaaraj ji kahate hai ki, Malyavan nam ka ek bahut hi buddhiman mantri tha. usane vibheeshan ke vachan ko saraahate hue kaha– he tat ! aapake chhote bhai ki niti ko bhooshan roop me dharan karane wale arthat nitiman hai. vibhooshan jo kuchh kah rahe hai use hriday me dhaaran kar lijiye.

Ripu Utkarsh Kahat Sath DouDoori Na Karahu Ihaan Hai Kooo।।

Maalyavant Ggrh Gayau BahoreeKahi Bibheeshnu Puni Kar Jori।।

Shloak ka arth batate huye Mahaaraj ji kahate hain ki, tab Raavan ne kaha– ye dono moorkh shatru kee mahima bakhaan rahe hai. yahan koi hai? Inhe door karo na! Tab Malyavan to ghar laut gae! aur bibheeshanajee haathan jodakar phir se kahane lage.

Sumati Kumati Sab Ken Ur RahahinNaath Puraan Nigam As Kahahin।।

Jahaan Sumati Tahan Sampati NaanaJahaan Kumati Tahaan Bipati Nidaana।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraj ji kahate hai ki, he naath! Puran aur ved aisa kahate hai ki subuddhi aur kubuddhi sabake hriday me rahatee hai, jahaan subuddhi hai, vahaan naana prakaar kee sampadaen rahatee hai aur jahaan kubuddhi hai vahaan parinaam me vipatti yaanee duhkh rahatee Hai.

Tav Ur Kumati Basi BiparitaHit Anaahit Manahu Ripu Preeta।।

Kaalarati Nisichar Kul KereeTehi Seeta Par Preeti Ghaneri।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraajaji kahate hai ki, aapake hriday me ulatee buddhi aa basee hai. isee se aap hit ko ahit aur shatru ko mitr maan rahe hai. jo raakshas kul ke lie kaalaraatri ke samaan hai, un sita par aapakee badee preeti hai.

Wal wyas sumanaji mahaaraj,

Mahatma Bhawan,

Shriram-janaki Temple,

Ram Kot, Ayodhya.

Mob: – 8709142129.

:

Related Articles

Check Also
Close
Back to top button