Apni Baat

तलाश…

जीवन की गतिशीलता उम्र के साथ दिखने लगती है. मानव जीवन का आरम्भ और अंत के बीच में चार पड़ाव आते हैं जो उम्र के साथ दीखने भी लगते हैं . उम्र के इस पड़ाव पे व्यक्ति अपने परिवार या स्वजन को ढूंढता / खोजता है. 

ऐसे में देश के पीएम भी उम्र के इस पडाव पे अपनों की तलाश में बच्चों व युवाओं से मिलकर ख़ुशी तलाश रहें हैं. 75 वर्षों की आजादी में देश के वर्तमान पीएम ने बोर्ड की परीक्षा देने वाले बच्चों से मिलकर एक नई ऊर्जा व जोश दे रहें हैं . अभी हाल ही में पीएम ने कई वर्ग के युवाओं से मिलकर सनातन परम्परा की एक मिसाल पेश कर रहें हैं. देश के इन युवाओं को एक नई ऊर्जा व अपने अनुभव साझा कर रहें हैं.

वर्तमान समय के भारत में अभी चुनाव का मौसम चल रहा है. वहीँ पछुआ के थपेड़ो से आवाम परेशान हैं. चुनावी मौसम के बयार में युवाओं की भागीदारी सीमित की सीमित ही है. आज भी देश की बागडोर चौथी पीढी के पास ही है.

हम सभी बात करते हैं देश के युवा शक्ति की … लेकिन, जब परीक्षा की घडी आती है तो युवा शक्ति पर बिस्वास ही नहीं होता और उसे प्राय: नगण्य ही देखा जाता है. कुछ युवा तो परीक्षा की तैयारी में लगें है वो पास भी हो सकते हैं लेकिन, पिछले दरवाजे से..  ऐसे में देश के पीएम भी उम्र के इस पडाव पे अपनों की तलाश में बच्चों व युवाओं से मिलकर ख़ुशी तलाश रहें हैं.

==========  =========  ===========

Talaash…

The dynamics of life become visible with age. There are four stages between the beginning and end of human life which become visible with age. At this stage of age, a person searches for his family or relatives.

In such a situation, the PM of the country is also looking for his loved ones at this stage of his age and is finding happiness by meeting children and youth. After 75 years of independence, the current PM of the country is giving a new energy and enthusiasm by meeting the children appearing for the board exams. Recently, the PM met youth from various sections and is presenting an example of Sanatan tradition. These youth of the country are sharing their new energy and experiences.

Election season is currently going on in India. The people are troubled by the blows of the west wind. The participation of youth in the election season is limited. Even today the reins of the country are still with the fourth generation.

We all talk about the youth power of the country… but, when the hour of testing comes, there is no trust in the youth power and it is often seen as insignificant. Some youth are busy preparing for the examination, they may also pass, but through the back door.. In such a situation, the PM of the country is also looking for his near and dear ones and finding happiness by meeting the children and youth.

Rate this post
:

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!