News

याद आते वो पल-18.

  1. मेहरून्निसा (नूरजहाँ) से निकाह:- आज ही के दिन वर्ष 1611 में मुगल शासक जहांगीर ने मेहरून्निसा से निकाह किया. निकाह के बाद मेहरून्निसा का नाम नूरजहां पड़ा. मेहरुन्निसा का जन्म 31 मई 1577 को कंधार, अफ़ग़ानिस्तान में हुआ था. मेहरुन्निसा असाधारण सुन्दरी होने के अतिरिक्त नूरजहाँ बुद्धिमती, शील और विवेकसम्पन्न भी थी. साथ ही साहित्य, कविता और ललित कलाओं में विशेष रुचि थी. मेहरुन्निसा का लक्ष्य भेद अचूक होता था. सत्रह वर्ष की उम्र में एक ईरानी युवक से मेहरुन्निसा का निकाह हुआ था. जिसे जहाँगीर के राज्य काल के प्रारम्भ में शेर अफ़ग़ान की उपाधि और बर्दवान की जागीर दी गई थी. वर्ष 1607 ई. में जहाँगीर के दूतों ने शेर अफ़ग़ान को एक युद्ध में मार डाला. मेहरुन्निसा को पकड़ कर दिल्ली लाया गया और उसे बादशाह के शाही हरम में भेज दिया गया जहाँ बादशाह अकबर की विधवा रानी ‘रुकईयाबेगम’ की परिचारिका बनी. सर्वप्रथम नौरोज़ त्यौहार के अवसर पर जहाँगीर ने मेहरुन्निसा को देखा और उसके सौन्दर्य पर मुग्ध होकर जहाँगीर ने 25 मई, 1611 ई. में उससे निकाह कर लिया. निकाह के पश्चात् जहाँगीर ने उसे ‘नूरमहल’ एवं ‘नूरजहाँ’ की उपाधि प्रदान की. मेहरुन्निसा की निकाह के बाद लोग उन्हें ‘नूरजहाँ’ के नाम जानते थे. वर्ष 1619 ई. में  ‘नूरजहाँ’ ने अपनी कला का प्रदर्शन करते हुए एक ही गोली से शेर को मार गिराया था. इन समस्त गुणों के कारण उसने अपने पति पर पूर्ण प्रभुत्व स्थापित कर लिया था. सिक्कों पर भी उसका नाम खोदा जाने लगा और वह महल में ही दरबार करने लगी। उसके पिता एत्मादुद्दोला और भाई आसफ़ ख़ाँ को मुग़ल दरबार में उच्च पद प्रदान किया गया था और उसकी भतीजी का विवाह, जो आगे चलकर मुमताज़ के नाम से प्रसिद्ध हुई. नूरजहाँ ने पहले पति से उत्पन्न अपनी पुत्री का विवाह जहाँगीर के सबसे छोटे पुत्र शहरयार से कर दिया और क्योंकि उसकी जहाँगीर से कोई संतान नहीं थी, अत: वह शहरयार को ही जहाँगीर के उपरांत राज सिंहासन पर बैठाना चाहती थी. जहाँगीर के जीवन काल में नूरजहाँ सर्वशक्ति सम्पन्न रही, किंतु 1627 ई. में जहाँगीर की मृत्यु के उपरांत उसकी राजनीतिक प्रभुता नष्ट हो गई.
  2. उर्दू शायर दाग़ देहलवी:- आज ही के दिन वर्ष 1831 में प्रसिद्ध उर्दू शायर दाग़ देहलवी का जन्म  दिल्ली में हुआ था. इनके पिता शम्सुद्दीन खाँ नवाब लोहारू के भाई थे और उनकी माता ने बहादुर शाह “ज़फर” के पुत्र मिर्जा फखरू से विवाह कर लिया, तब यह भी दिल्ली में लाल किले में रहने लगे. वर्ष 1890 ई. में दाग़ हैदराबाद गए और निज़ाम के कविता गुरु नियत हो गए.यहाँ धन तथा सम्मान दोनों मिला.
  3. उड़ीसा तट के पास डूबा:- आज ही के दिन वर्ष 1877 को 732 यात्रियों को लेकर जा रहा स्टीमर ‘सर जॉन लॉरेंस’ उड़ीसा तट के पास डूब गया था.
  4. क्रांतिकारी रास बिहारी बोस:- आज ही के दिन वर्ष 1886 में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के अग्रणी क्रांतिकारी रास बिहारी बोस का जन्म बंगाल में बर्धमान जिले के सुबालदह गाँव में हुआ था. इनकी आरम्भिक शिक्षा चन्दननगर में हुई, जहाँ उनके पिता विनोद बिहारी बोस नियुक्त थे. रासबिहारी बोस बचपन से ही देश की स्वतन्त्रता के स्वप्न देखा करते थे और क्रान्तिकारी गतिविधियों में उनकी गहरी दिलचस्पी थी. प्रारम्भ में रासबिहारी बोस ने देहरादून के वन अनुसंधान संस्थान में कुछ समय तक हेड क्लर्क के रूप में काम किया. उसी दौरान उनका क्रान्तिकारी जतिन मुखर्जी की अगुआई वाले युगान्तर नामक क्रान्तिकारी संगठन के अमरेन्द्र चटर्जी से परिचय हुआ और वह बंगाल के क्रान्तिकारियों के साथ जुड़ गए. वर्ष 1911 को दिल्ली में जार्ज पंचम के होने वाले दिल्ली दरबार के बाद जब वायसराय लॉर्ड हार्डिंग की दिल्ली में सवारी निकाली जा रही थी तो उसकी शोभायात्रा पर वायसराय लार्ड हार्डिंग पर बम फेंकने की योजना बनाने में रासबिहारी की प्रमुख भूमिका रही थी. वर्ष 1913 में बंगाल में बाढ़ राहत कार्य के दौरान रासबिहारी बोस जतिन मुखर्जी के सम्पर्क में आये, जिन्होंने उनमें नया जोश भरने का काम किया. भारत को स्वतन्त्र कराने के लिये उन्होंने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान गदर की योजना बनायी गई. फरवरी 1915 में अनेक भरोसेमंद क्रान्तिकारियों की सेना में घुसपैठ कराने की कोशिश की गयी लेकिन, दुर्भाग्य से उनका यह प्रयास भी असफल रहा और कई क्रान्तिकारियों को गिरफ्तार कर लिए गए. ब्रिटिश खुफिया पुलिस ने रासबिहारी बोस को भी पकड़ने की कोशिश की लेकिन वह उनके हत्थे नहीं चढ़े और भागकर विदेश से हथियारों की आपूर्ति के लिये जून 1915 में राजा पी० एन० टैगोर के छद्म नाम से जापान के शहर शंघाई में पहुँचे और वहाँ रहकर भारत देश की आजादी के लिये काम करने लगे. वर्ष 1916 में जापान में ही रासबिहारी बोस ने प्रसिद्ध पैन एशियाई समर्थक सोमा आइजो और सोमा कोत्सुको की पुत्री से विवाह कर लिया और वर्ष 1923 में वहाँ की नागरिकता ले ली. वर्ष 1942 को रासबिहारी बोस ने बैंकाक में लीग का दूसरा सम्मेलन बुलाया, जिसमें सुभाष चंद्र बोस को लीग में शामिल होने और उसका अध्यक्ष बनने के लिए आमन्त्रित करने का प्रस्ताव पारित किया गया. आई०एन०ए० का गठन रासबिहारी बोस की इण्डियन नेशनल लीग की सैन्य शाखा के रूप में वर्ष 1942 को किया. बोस ने एक झण्डे का भी चयन करते हुए ‘आजाद. नाम दिया और इस झण्डे को उन्होंने सुभाष चंद्र बोस के हवाले कर दिया.
  5. कुलपति आशुतोष मुखर्जी:- आज ही के दिन वर्ष 1924 में जाने-माने शिक्षाविद् और कलकत्ता विश्वविद्यालय के कुलपति आशुतोष मुखर्जी का निधन हुआ.
  6. अभिनेता, निर्देशक, निर्माता, और पटकथा लेखक करण जौहर:- आज ही के दिन वर्ष 1972 में भारतीय अभिनेता, निर्देशक, निर्माता, और पटकथा लेखक करण जौहर का जन्म मुम्बई में हुआ था.उनके पिता का नाम यश जौहर है जो कि बॉलीवुड फिल्मों के निर्माता और धर्मा प्रोडक्शेन्स. के संस्थापक थे. उनकी मां का नाम हीरू जौहर है. करण ने मुंबई के ग्रीनलान्सं हाई स्कूल और एच.आर. कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकनॉमिक्स से पढ़ाई की. उन्होंने फ्रेंच में मास्टर्स की डिग्री हासिल की है.करण जौहर ने फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ से सहायक निर्देशक के तौर पर फिल्म इंडस्ट्री में शुरूआत की जो कि हिन्दी सिनेमा की लैंडमार्क फिल्मों में से एक मानी जाती है.
  7. अभिनेता कुणाल खेमू :- आज ही के दिन वर्ष 1983 में अभिनेता कुणाल खेमू जन्म हुआ.
  8. संगीतकार लक्ष्मीकांत:- आज ही के दिन वर्ष 1998 में हिन्दी सिनेमा के प्रसिद्ध संगीतकार लक्ष्मीकांत का निधन हुआ था.
  9. प्रतिबंध न लगाने:- आज ही के दिन वर्ष 1998 को परमाणु परीक्षणों के कारण भारत पर प्रतिबंध न लगाने के लिए 25 मई 1998 को यूरोपीय संघ के सभी 15 सदस्य देश सहमत हुए.
  10. अभिनेता, निर्देशक, निर्माता, और राजनेता:- आज ही के दिन वर्ष 2005 में भारतीय अभिनेता, निर्देशक, निर्माता, और राजनेता सुनील दत्त का निधन हृदय गति बन्द रुक जाने के कारण हुआ था.
  11. फिल्म निर्माता और निर्देशक इस्माइल मर्चेंट:- आज ही के दिन वर्ष 2005 में भारतीय फिल्म निर्माता और निर्देशक इस्माइल मर्चेंट का निधन हुआ था.
  12. दक्षिण के किसी राज्य में पहली बार सरकार बनाने में सफल: – आज ही के दिन वर्ष 2008 में कर्नाटक विधान सभा के 224 सीटों में से 110 सीट जीत कर भाजपा दक्षिण के किसी राज्य में पहली बार सरकार बनाने में सफल रही थी.
  13. कमला प्रसाद बिसेसर:- आज ही के दिन वर्ष 2010 में भारतीय मूल के 59 वर्षीय कमला प्रसाद बिसेसर निवर्तमान प्रधानमंत्री पैट्रिक मैनिंग को पराजित कर त्रिनिदाद और टोबेगो की पहली महिला प्रधानमंत्री निर्वाचित हुईं थी.
  14. कवि एवं निबंधकार भगवत रावत:- आज ही के दिन वर्ष 2012 में कवि एवं निबंधकार भगवत रावत का निधन हुआ था.

=============  ================ ========

Remember those moments-18.

  1. Marriage with Mehrunnisa:- On this day in the year 1611, Mughal ruler Jahangir married Mehrunnisa. Mehrunnisa’s name was Noorjehan after marriage. Mehrunnisa was born on 31 May 1577 in Kandahar, Afghanistan. In addition to Mehrunnisa being exceptionally beautiful, Nur Jahan was also intelligent, modest, and prudent. Also had a special interest in literature, poetry, and fine arts. Mehrunnisa’s target discrimination was accurate. At the age of seventeen, Mehrunnisa was married to an Iranian youth. Who was given the title of Sher Afgan and the jagir of Burdwan at the beginning of Jahangir’s reign? In the year 1607 AD, the messengers of Jahangir killed Sher Afgan in a battle. Mehrunnisa was captured and brought to Delhi and sent to the emperor’s royal harem, where she became the mistress of Ruqaiya Begum, the widow of Emperor Akbar. First of all, Jahangir saw Mehrunnisa on the occasion of the Nowruz festival, and being fascinated by her beauty, Jahangir married her on May 25, 1611 AD. After marriage, Jahangir gave her the title of ‘Nur Mahal’ and ‘Noor Jahan’. After Mehrunnisa’s marriage, people knew her by the name of ‘Noorjahan’. In the year 1619 AD, ‘Noor Jahan’ killed a lion with a single bullet while demonstrating his art. Due to all these qualities, she had established complete dominance over her husband. Her name was also engraved on the coins and she started courting in the palace itself. His father Etmaduddola and brother Asaf Khan were given high positions in the Mughal court and the marriage of his niece, who later became known as Mumtaz. Nur Jahan married her daughter born from her first husband to Jahangir’s youngest son Shahryar and because she had no child from Jahangir, she wanted Shahryar to sit on the throne after Jahangir. Noorjahan remained omnipotent during Jahangir’s lifetime, but after Jahangir’s death in 1627 AD, her political dominance was destroyed.
  2. Urdu poet Daag Dehlvi:- On this day in the year 1831, the famous Urdu poet Daag Dehlavi was born in Delhi. His father Shamsuddin Khan was the brother of Nawab Loharu and his mother married Mirza Fakhru, son of Bahadur Shah “Zafar”, then he also started living in Red Fort in Delhi. In the year 1890 AD, Dagh went to Hyderabad and became Nizam’s poetry guru. Here he got both money and respect.
  3. Drowned near Orissa coast: – On this day in the year 1877, the steamer ‘Sir John Lawrence carrying 732 passengers sank near Orissa coast.
  4. Revolutionary Ras Bihari Bose:- On this day in the year 1886, Rash Bihari Bose, the leading revolutionary of the Indian independence movement, was born in Subaldah village of Bardhaman district in Bengal. His early education took place in Chandannagar, where his father Vinod Bihari Bose was appointed. Rasbihari Bose used to dream of the independence of the country since childhood and was deeply interested in revolutionary activities. Initially, Rasbihari Bose worked for some time as Head Clerk at Forest Research Institute, Dehradun. During the same time, he was introduced to Amarendra Chatterjee of a revolutionary organization named Yugantar led by revolutionary Jatin Mukherjee and he joined the revolutionaries of Bengal. After the Delhi Durbar of George V in Delhi in the year 1911, when Viceroy Lord Hardinge was being taken out in Delhi, Rasbihari had a major role in planning to throw a bomb on Viceroy Lord Hardinge on his procession. In the year 1913 During the flood relief work in Bengal, Rasbihari Bose came in contact with Jatin Mukherjee, who instilled new enthusiasm in him. He planned a mutiny during the First World War to liberate India. In February 1915, an attempt was made to infiltrate many reliable revolutionaries into the army, but unfortunately, this attempt also failed and many revolutionaries were arrested. In June 1915, under the pseudonym of King P.N. Tagore, he reached the Japanese city of Shanghai and stayed there to work for the independence of India. In the year 1916, in Japan itself, Rash Behari Bose married the daughter of famous Pan-Asian supporters Soma Aizo and Soma Kotsuko and took citizenship there in the year 1923. In the year 1942, Rasbihari Bose called the second conference of the League in Bangkok, in which a resolution was passed inviting Subhash Chandra Bose to join the League and become its President. INA was formed in the year 1942 as the military wing of Rasbihari Bose’s Indian National League. Bose also selected a flag ‘Azad. Gave the name and handed over this flag to Subhash Chandra Bose.
  5. Vice Chancellor Ashutosh Mukherjee:- On this day in the year 1924, renowned educationist and Vice Chancellor of Calcutta University Ashutosh Mukherjee passed away.
  6. Actor, director, producer, and screenwriter Karan Johar: – On this day in the year 1972, Indian actor, director, producer, and screenwriter Karan Johar was born in Mumbai. His father’s name is Yash Johar. Producer of Bollywood films and Dharma Productions. was the founder of. His mother’s name is Hiroo Johar. Karan graduated from Greenland High School in Mumbai and H.R. Studied at the College of Commerce and Economics. He holds a Masters degree in French. Karan Johar made his debut in the film industry as an assistant director with the film ‘Dilwale Dulhania Le Jayenge’, which is considered one of the landmark films of Hindi cinema.
  7. Actor Kunal Khemu:- On this day in the year 1983, actor Kunal Khemu was born.
  8. Composer Laxmikant:- On this day in the year 1998, the famous composer of Hindi cinema Laxmikant passed away.
  9. Not to impose sanctions: – On this day in the year 1998, all 15 member countries of the European Union agreed not to impose sanctions on India due to nuclear tests.
  10. Actor, director, producer, and politician: – On this day in the year 2005, Indian actor, director, producer, and politician Sunil Dutt passed away due to cardiac arrest.
  11. Film producer and director Ismail Merchant: – On this day in the year 2005, Indian film producer and director Ismail Merchant passed away.
  12. Successful in forming a government for the first time in a southern state: On this day in the year 2008, BJP was successful in forming a government for the first time in a southern state by winning 110 out of 224 seats in the Karnataka Legislative Assembly.
  13. Kamla Prasad Bissessar: – On this day in the year 2010, 59-year-old Indian-origin Kamala Prasad Bissessar was elected the first woman Prime Minister of Trinidad and Tobago by defeating the outgoing Prime Minister Patrick Manning.
  14. Poet and essayist Bhagwat Rawat:- On this day in the year 2012, poet and essayist Bhagwat Rawat passed away.
Rate this post
:

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!