Article

काची माटी…

बदलना नही चाहती हम औरतें ,फिर भी बदल जाती हैं हम ,काची माटी की थी कभी ,पर मजबूत सुराही बन जाती हैं हम. बेटा – बेटी एक समान सुनती हैं कभी ,पर यौवन आते ही ,एक अपरिचित के साथ ,

पराई हो कहकर ,ब्याह दी जाती हैं हम. लाड-प्यार पाती थी जहाँ कभी ,मेहमान की तरह ही बुलायी जाती हैं. छूटा था घर जो , क्या वह था अपना

या ,पाया है घर जो अब , क्या वह है अपना

इस सवाल में ही ,प्रतिपल उलझायी जाती हैं.

मधुर स्नेह का पान कराती दोनों ओर ,फिर भी ,

परायेपन का आभास दिलाकर ,क्यों हर क्षण रूलाई जाती हैं हम माटी का काम है मिटना ,सुराही का काम है तृप्त करना, यही सोचकर ,बदलना नही चाहती हम औरतें ,फिर भी बदल जाती हैं हम, काची माटी की थी कभी ,पर मजबूत सुराही बन जाती हैं हम.

 प्रभाकर कुमार

============= ============ =============

Kachi Mitti…

We women do not want to change, yet we change, we were once made of clay, but we become a strong pot. Son and daughter listen alike sometimes, but as soon as youth comes, with a stranger,

Saying we are strangers, we are married. Used to get pampered where ever, are called like guests. The house that was left, was it ours

Or have you found a home that is now yours

In this question itself, Pratipal gets confused.

Drinking sweet affection on both sides, still,

Why are we made to cry every moment by giving a sense of alienation, it is the job of the soil to erase, and the job of the jug is to satisfy, thinking this, we women do not want to change, yet we change, once made of raw clay, but a strong jug We become

  Prabhakar Kumar.

: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button