News

व्यक्ति विशेष

भाग - 16.

पूर्व राज्यपाल मर्री चेन्ना रेड्डी

पूर्व राज्यपाल मर्री चेन्ना रेड्डी का नाम आंध्र प्रदेश और तेलंगाना क्षेत्र के राज्यपाल के रूप में प्रमुख हैं. मर्री चेन्ना रेड्डी ने 26 अगस्त 2007 से 23 सितंबर 2011 तक आंध्र प्रदेश के राज्यपाल के रूप में कार्यभार संभाला था. इसके बाद, उन्होंने तेलंगाना राज्य के राज्यपाल के रूप में भी कार्यभार संभाला. मर्री चेन्ना रेड्डी ने राज्यपाल के पदों पर अपने कार्यकाल के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में सामाजिक और राजनीतिक विकास के लिए कई पहल किए थे.

==========  =========  ===========

राजनीतिज्ञ आर.एन. माधोलकर

राजनीतिज्ञ आर. एन. माधोलकर एक भारतीय राजनीतिक व्यक्ति थे, जिन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान भारतीय संघ के उप-संचालक के रूप में काम किया था. वह भारतीय संघ के संचालन के साथ-साथ भारतीय राजनीति में भी अपने महत्वपूर्ण योगदान के लिए प्रसिद्ध थे.

माधोलकर ने भारतीय संघ के साथ मिलकर अनेक सामाजिक और आर्थिक मुद्दों पर काम किया और उन्होंने अपनी नेतृत्व के दौरान संघ की व्यापक उपस्थिति को बढ़ाया. उन्होंने अपने कार्यकाल में भारतीय संघ को एक सशक्त संगठन बनाने का काम किया और उन्होंने अपनी योजनाओं के माध्यम से भारतीय समाज में सामाजिक और आर्थिक उत्थान को प्रोत्साहित किया.

==========  =========  ===========

राकेश शर्मा

राकेश शर्मा एक प्रमुख भारतीय उपग्रह यातायाती और भारतीय वायुसेना के पूर्व पायलट हैं. उन्होंने भारत की ओर से अंतरिक्ष में यात्रा की और वह पहले भारतीय कोस्मोनॉट बने. राकेश शर्मा का जन्म 13 जनवरी 1949 को पटियाला, पंजाब, भारत में हुआ था. उन्होंने भारतीय वायुसेना में अधिकारी के रूप में सेवा की और 1982 में सोवियत संघ के स्पेस स्टेशन सोयुज़ 11 के मिशन के हिस्से के रूप में चयनित हुए.

राकेश शर्मा का इतिहासिक मोमेंट 2 अप्रैल 1984 को आया, जब वह सोयुज़ 11 मिशन के अंतरिक्ष यात्री के रूप में अंतरिक्ष में गए और भारतीय अंतरिक्ष में पहले व्यक्ति बने. उन्होंने अंतरिक्ष से भूमि की तस्वीरें लीं और भारत का झंडा फहराया, जब उनसे पूछा गया कि कैसा महसूस होता है जब वह अंतरिक्ष में होते हैं, तो उन्होंने उस इतिहासिक क्षण का यादगार उत्तर दिया, “सारे जहाँ से अच्छा”. राकेश शर्मा को इस मिशन के लिए भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया.

==========  =========  ===========

शमशेर बहादुर सिंह

शमशेर बहादुर सिंह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख योद्धा और ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ने वाले महान सिपाही थे. शमशेर बहादुर सिंह का जन्म 13 जनवरी 1911 को देहरादून में में हुआ था. उन्होंने महात्मा गांधी के नेतृत्व में चली गांधीवादी आंदोलन में भाग लिया और ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ संघर्ष किया. वे खिलाफत आंदोलन और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख आंदोलनकारी थे.

शमशेर बहादुर सिंह का सबसे प्रसिद्ध कार्य उनकी भारतीय रेलवे के कर्मचारियों के साथ हुई चौरी-चौरा घटना था, जिसमें वे भारतीय रेलवे के कर्मचारियों के साथ ब्रिटिश साम्राज्य की संपत्ति विरोध में शामिल हुए और अच्छूत समुदाय के लोगों की हत्या के आरोप में गिरफ्तार हुए.  इसके बाद, उन्हें फांसी की सजा सुनाई गई, लेकिन उन्हें 1942 में महात्मा गांधी के आदर्शों के अनुसरण करने के बाद रिहा कर दिया गया.

==========  =========  ===========

एम. चेन्ना रेड्डी

एम. चेन्ना रेड्डी जो आंध्र प्रदेश के भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे। उनका पूरा नाम मर्याद पुरुषोत्तम माल्लाजुवु चेन्ना रेड्डी था. रेड्डी का जन्म 13 जनवरी 1919 को आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के कुप्पम गाँव में हुआ था. वे एक प्रमिनेंट किसान नेता थे और कृषि क्षेत्र के मुद्दों पर अपनी गुज़री जीवन में जूझते रहे.

एम.चेन्ना रेड्डी ने भारतीय जनसंघ के सदस्य के रूप में भागीदारी की और उन्होंने आंध्र प्रदेश में किसानों के अधिकारों की रक्षा के लिए कई महत्वपूर्ण आंदोलनों का नेतृत्व किया. उन्होंने किसानों के अधिकारों की रक्षा के लिए उपवास पर बैठने जैसे आंदोलनों में भाग लिया और किसानों के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए.

एम. चेन्ना रेड्डी के राजनीतिक कैरियर का उद्गम 1969 में हुआ, जब उन्होंने तेलंगाना राष्ट्रीय सभा के लिए चुनाव लड़ा और जीत हासिल की. उन्होंने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में कई बार कार्यभार संभाला और अपने कृषि नीतियों और कृषि क्षेत्र में सुधारों के लिए प्रसिद्ध रहे.एम. चेन्ना रेड्डी का निधन 2 दिसम्बर 1996 को हुआ, लेकिन उनकी योगदान को याद रखा जाता है, खासकर किसानों के हकों की रक्षा के क्षेत्र में.

==========  =========  ===========

अभिनेता मदन पुरी

मदन पुरी एक प्रमुख भारतीय फ़िल्म अभिनेता थे. मदन पुरी का जन्म  वर्ष 1915 को  पठाणकोट में हुआ था और उन्होंने अपनी अभिनय कैरियर की शुरुआत 1947-48 में सबसे पहले हीरो के रूप में आये थे लेकिन वह पिक्चरें बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से पिट गई जिसके बाद किसी निर्माता ने हीरो का किरदार नहीं मिला था.  उसके बाद उन्होंने विलेन के रोल स्वीकार करने शुरू कर दिये और इसमें उन्हें सफलता भी मिली और करीब 150 फ़िल्मों में काम किया था.

मदन पुरी ने कई महत्वपूर्ण फ़िल्मों में अभिनय किया, जैसे : – ‘हाथी मेरे साथी’, ‘अपना देश’, ‘बीस साल बाद’, ‘बहारों के सपने’, ‘आई मिलन की बेला’, ‘चायना टाउन’, ‘काला बाज़ार’. मदन पुरी की यादगार अभिनय ‘उपकार’ में भाई भाई के बीच आग लगाकर खुश होने वाले खलनायक ‘चरणदास’ को भी कोई कैसे भूल सकता है. मदन पुरी का निधन 13 जनवरी, 1985 को हुआ था, लेकिन उनका अभिनय और कार्य भारतीय सिनेमा में हमेशा याद रहेगा.

==========  =========  ===========

अभिनेता इमरान खान

इमरान खान एक फ़िल्म अभिनेता हैं जिनका  जन्म 13 जनवरी 1983 को मैडिसन, विस्कॉन्सिन, संयुक्त राज्य अमेरिका में हुआ था. वे प्रमुख फ़िल्म निर्माता और निर्देशक मांसूर अली के भतीजे हैं.

इमरान खान का अभिनय कैरियर 2008 में हिन्दी फ़िल्म “जाने तू या जाने ना” के साथ शुरू हुआ था, जिसमें उन्होंने मुख्य भूमिका में काम किया था और उनका अभिनय बड़ा प्रशंसा प्राप्त किया. उन्होंने इसके बाद कई अन्य फ़िल्मों में भी काम किया, जैसे कि “इक मैं और इक तू” (2011), “मेरी ब्रदर की दुल्हन” (2011), “मटर” (2013), और “कटिए ना कटिए” (2014) जैसी.

इमरान खान ने अपने अभिनय के लिए कई पुरस्कार भी जीते हैं और उन्होंने बॉलीवुड में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है.  वे फ़िल्मों के साथ-साथ समाज में अच्छे अदर्श और सामाजिक मुद्दों को उजागर करने के लिए भी जाने जाते हैं.

==========  =========  ===========

संतूर वादक पं. शिवकुमार शर्मा

पं. शिवकुमार शर्मा एक प्रमुख भारतीय संगीतकार और संगीतीय वादक हैं, जिन्होंने संस्कृत संगीत की दुनिया में महत्वपूर्ण योगदान किया है.  वे संतूर नामक संगीतीय वाद्य उपकरण के प्रमुख वादक हैं और इस वाद्य उपकरण को भारतीय शास्त्रीय संगीत में पॉपुलर किया. शिवकुमार शर्मा का जन्म 13 जनवरी 1938 को जम्मू, भारत में हुआ था. उन्होंने भारतीय संगीत में संस्कृत संगीत के प्रमुख परंपरागत रागों के साथ संस्कृत संगीत को आधुनिकीकृत किया और नए धुनीय अलंकरणों को जोड़कर इसका प्रसार किया.

उन्होंने अपने संगीतीय कैरियर के दौरान कई अल्बम और संगीत प्रस्तुतियाँ दी हैं और विशेष रूप से संतूर पर अपने उद्घाटन संगीतीय रिकॉर्ड “कॉमिन्ग इन” के लिए प्रसिद्ध हैं. पं. शिवकुमार शर्मा को भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया है और उन्होंने भारतीय संगीत के क्षेत्र में अपने महत्वपूर्ण योगदान के लिए कई पुरस्कार भी प्राप्त किए हैं.

: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button