Dharm

सुन्दरकाण्ड-16-5

विभीषण का भगवान् श्रीरामजी की शरण के लिए प्रस्थान और शरण प्राप्ति-05

दोहा: –

अहोभाग्य मम अमित अति राम कृपा सुख पुंज।

देखेउँ नयन बिरंचि सिब सेब्य जुगल पद कंज ।।

वाल व्यास सुमनजी महाराज श्लोक का अर्थ बताते हुए कहते है कि, हे कृपा और सुख के पुंज श्रीरामचंद्रजी ! मेरा अत्यंत और असीम सौभाग्य है, जो मैंने ब्रह्मा और शिवजी के द्वारा सेवित युगल चरण कमलो को अपने आँखों से देखा.

चौपाई: –  

सुनहु सखा निज कहउँ सुभाऊ। जान भुसुंडि संभु गिरिजाऊ ।।

जौं नर होइ चराचर द्रोही। आवे सभय सरन तकि मोही ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, श्री राम जी ने कहा – हे सखा ! सुनो, मै तुम्हे अपना स्वभाव कहता हूँ , जिसे काकभुशुण्डि, शिवजी और पार्वती जी भी जानती है. कोई मनुष्य संपूर्ण ज़ड़ –चेतन जगत् का द्रोही हो , यदि वह भी भयभीत होकर मेरी शरण में आ जाए.

तजि मद मोह कपट छल नाना। करउँ सद्य तेहि साधु समाना।।

जननी जनक बंधु सुत दारा। तनु धनु भवन सुह्रद परिवारा ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, और मद, मोह तथा नाना प्रकार के छल-कपट त्याद दे, तो मैं उसे बहुत शीघ्र साधु के समान कर देता हूँ. माता-पिता, भाई,पुत्र, स्त्री, शरीर, धन, घर, मित्र और परिवार…

सब कै ममता ताग बटोरी। मम पद मनहि बाँध बरि डोरी।।

समदरसी इच्छा कछु नाहीं। हरष सोक भय नहिं मन माहीं ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, इस सबको ममत्व रूपी धागों को बटोरकर और उन सबकी एक डोरी बनाकर उसके द्वारा जो अपने मन को मेरे चरणो में बाँध देता है. सारे सांसारिक संबंधो का केन्द्र मुझे बना लेता है, जो समद्रशी है, जिसे कुछ की भी इच्छा नही है और जिसके मन में हर्ष, शोक और भय नहीं है…

अस सज्जन मम उर बस कैसें। लोभी हृदयँ बसइ धनु जैसें।।

तुम्ह सारिखे संत प्रिय मोरें। धरउँ देह नहिं आन निहोरें ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, ऐसा सज्जन मेरे हृदय में बसता है, जैसे लोभी के हृदय में धन का बास होता है. तुम जैसे सरीखे संत ही मुझे प्रिय है. मैं किसी और के देह को धारण नहीं करता हूँ.

वालव्यास सुमनजी महाराज

महात्मा भवन,श्रीरामजानकी मंदिर

राम कोट, अयोध्या. 8709142129.

==========  =========  ===========

Sunderkand-16 – 5

Vibheeshan Ka Bhagavan ShriRama ji ki Sharan ke liye Prasthan Aur Sharan Prapti- 05

Doha: –

Ahobhaagy Mam Amit Ati Raam Kripa Sukh Punj

Dekheun Nayan Biranchi Sib Seby Jugal Pad Kanj।।

Vaal vyaas sumanajee mahaaraaj shlok ka arth bataate hue kahate hai ki, he krpa aur sukh ke punj shreeraamachandrajee ! mera atyant aur aseem saubhaagy hai, jo mainne brahma aur shivajee ke dvaara sevit yugal charan kamalo ko apane aankhon se dekha.

Choupai: –

Sunahu Sakha Nij Kahun SubhaooJaan Bhusundi Sambhu Girijaoo ।।

Jaun Nar Hoi Charaachar DroheeAave Sabhay Saran Taki Mohee ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraajajee kahate hai ki, shree raam jee ne kaha – he sakha ! suno, mai tumhe apana svabhaav kahata hoon , jise kaakabhushundi, shivajee aur paarvatee jee bhee jaanatee hai. koee manushy sampoorn zad –chetan jagat ka drohee ho , yadi vah bhee bhayabheet hokar meree sharan mein aa jae.

Taji Mad Moh Kapat Chhal NaanaKarun Sady Tehi Saadhu Samaana।।

Jananee Janak Bandhu Sut daaraTanu Dhanu Bhavan Suhrad Parivaara ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraajajee kahate hai ki, aur mad, moh tatha naana prakaar ke chhal-kapat tyaad de, to main use bahut sheeghr saadhu ke samaan kar deta hoon. mata-pita, bhaee,putr, stree, shareer, dhan, ghar, mitr aur parivaar…

Sab Kai Mamata Taag BatoreeMam Pad Manahi Baandh Bari Doree।।

Samadarasee Ichchha Kachhu NaaheenHarash Sok Bhay Nahin Man Maaheen ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraajajee kahate hai ki, is sabako mamatv roopee dhaagon ko batorakar aur un sabakee ek doree banaakar usake dvaara jo apane man ko mere charano mein baandh deta hai. saare saansaarik sambandho ka kendr mujhe bana leta hai, jo samadrashee hai, jise kuchh kee bhee ichchha nahee hai aur jisake man mein harsh, shok aur bhay nahin hai…

As Sajjan Mam Ur Bas KaisenLobhee Hrdayan Basi Dhanu Jaisen।।

Tumh Saarikhe Sant Priy MorenDharun Deh Nahin Aan Nihoren ।।

Shlok ka arth bataate hue mahaaraajajee kahate hai ki, aisa sajjan mere hriday mein basata hai, jaise lobhee ke hriday mein dhan ka baas hota hai. tum jaise sareekhe sant hee mujhe priy hai. main kisee aur ke deh ko dhaaran nahin karata hoon.

Valvyas Sumanji Maharaj,

Mahatma Bhavan,

Shri Ram-Janaki Temple,

Ram Kot, Ayodhya. 8709142129.

Rate this post
:

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!