News

याद आते वो पल-80.

  1. कृष्णदेवराय:- आज ही के दिन वर्ष 1509 में कृष्णदेवराय विजयनगर साम्राज्य के सिंहासन पर आसीन हुए थे.
  2. स्वागत किया:- आज ही के दिन वर्ष 1614 में जहाँगीर ने मेवाड़ के राणा को अपनी दरबार में स्वागत किया था.
  3. शिक्षाविद् गुरुदास बनर्जी:- आज ही के दिन वर्ष 1844 में शिक्षाविद् गुरुदास बनर्जी का जन्म कलकत्ता में हुआ था. इन्होंने अपना जीवन बंगाल के एक कॉलेज में प्रोफ़ेसर के रूप में आरम्भ किया, किन्तु शीघ्र ही वह वकालत करने लगे और वर्ष 1876 ई. में डी. एल. की डिग्री प्राप्त कर ली. शिक्षा के विकास और प्रसार में उनकी तीव्र रुचि थी और कलकत्ता विश्वविद्यालय के दो कार्यवधि तक वे वाइस चांसलर रहे. वर्ष 1888 ई. में उन्हें कलकत्ता हाईकोर्ट का न्यायाधीश बनाया गया जहाँ से वे वर्ष 1904 ई. में सेवानिवृत्त हुए. बनर्जी ने हिन्दू धर्म पर कई पुस्तकें लिखीं हैं, जिनमें मुख्य हैं-बंगला में ‘ज्ञान ओ कर्म’ तथा अंग्रेज़ी में ‘फ़्यू थाट्स ओन एजुकेशन’.
  4. कवि रजनीकांता सेन:- आज ही के दिन वर्ष 1865 में कवि रजनीकांता सेन का जन्म पाबना जिले के सिराजगंज के भांगाबाड़ी गांव में एक वैद्य परिवार में हुआ था , जो वर्तमान में बांग्लादेश में स्थित है. उनके पिता का नाम गुरुप्रसाद सेन और माता का नाम मन मोहिनी देवी था. रजनीकांत ने अपनी स्कूली शिक्षा बोआलिया जिला स्कूल (अब राजशाही कॉलेजिएट स्कूल ) से शुरू की। उन्होंने स्कूल की छुट्टियों के दौरान अपने गांव भंगकुठी के पड़ोसी राजनाथ तारकरत्न से संस्कृत सीखी। उन्होंने गोपाल चंद्र लाहिड़ी को अपने अकादमिक गुरु के रूप में प्राप्त किया. वर्ष 1882 में उन्होंने कूचबिहार जेनकिंस स्कूल से प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की. उन्होंने वर्ष 1889 में बीए की डिग्री और वर्ष 1891 में कोलकाता सिटी कॉलेज से बीएल की डिग्री पूरी की.
  5. छत्रपति साहू महाराज:- आज ही के दिन वर्ष 1874 में छत्रपति साहू महाराज का जन्म हुआ था. उनके पिता का नाम श्रीमंत जयसिंह राव आबासाहब घाटगे था. छत्रपति साहू महाराज का बचपन का नाम ‘यशवंतराव’ था. छत्रपति शिवाजी महाराज (प्रथम) के दूसरे पुत्र के वंशज शिवाजी चतुर्थ कोल्हापुर में राज्य करते थे. ब्रिटिश षडयंत्र और अपने ब्राह्मण दीवान की गद्दारी की वजह से जब शिवाजी चतुर्थ का कत्ल हुआ तो उनकी विधवा आनंदीबाई ने अपने जागीरदार जयसिंह राव आबासाहेब घाटगे के पुत्र यशवंतराव को मार्च, 1884 ई. में गोद ले लिया. बाल्य-अवस्था में ही यशवंतराव को साहू महाराज की हैसियत से कोल्हापुर रियासत की राजगद्दी को सम्भालना पड़ा. वर्ष 1902 के मध्य में साहू महाराज इंग्लैण्ड गए हुए थे. उन्होंने वहीं से एक आदेश जारी कर कोल्हापुर के अंतर्गत शासन-प्रशासन के 50 प्रतिशत पद पिछड़ी जातियों के लिए आरक्षित कर दिये. महाराज के इस आदेश से कोल्हापुर के ब्राह्मणों पर जैसे गाज गिर गयी. छत्रपति साहू महाराज क्षत्रिय नहीं, शूद्र मानी गयी जातियों में आते थे। कोल्हापुर रियासत के शासन-प्रशासन में पिछड़ी जातियों का प्रतिनिधित्व नि:संदेह उनकी अभिनव पहल थी. जातियों के आधार पर स्कूल और छात्रावास असहज लग सकते हैं, किंतु नि:संदेह यह अनूठी पहल थी उन जातियों को शिक्षित करने के लिए, जो सदियों से उपेक्षित थीं. उन्होंने दलित-पिछड़ी जातियों के बच्चों की शिक्षा के लिए ख़ास प्रयास किये थे. बताते चलें कि, छत्रपति साहू महाराज ही थे, जिन्होंने ‘भारतीय संविधान’ के निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भीमराव अम्बेडकर को उच्च शिक्षा के लिए विलायत भेजने में अहम भूमिका अदा की थी.
  6. स्वतंत्रता सेनानी मालती चौधरी:- आज ही के दिन वर्ष 1904 में स्वतंत्रता सेनानी मालती चौधरी का जन्म पूर्वी बंगाल में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था. उनके पिता बैरिस्टर कुमुद नाथ सेन की मृत्यु तब हुई जब वह केवल ढाई साल कीं थीं जबकि, उनकी माँ स्नेहलता सेन एक अच्छी लेखिका थीं, जिन्होंने ‘जुगलंजलि’ लिखी और रवींद्रनाथ टैगोर की कुछ कृतियों का अनुवाद भी किया. करीब 16 साल की उम्र में मालती चौधरी को शांति निकेतन भेजा गया, जहां उन्हें टैगोर द्वारा स्थापित ‘विश्वभारती’ में भर्ती कराया गया. वह बहुत भाग्यशाली थीं कि उन्हें शांतिनिकेतन में रवींद्रनाथ टैगोर से सीधे ज्ञान प्राप्त करने का मौका मिला था. शांति निकेतन में मालती ने न केवल डिग्री प्राप्त की, बल्कि विभिन्न प्रकार की कला और संस्कृति में भी विशाल ज्ञान प्राप्त किया. मालती चौधरी टैगोर के सिद्धांतों, शिक्षा और विकास और देशभक्ति के विचारों से बेहद प्रभावित थीं. गुरुदेव ने प्यार से उन्हें ‘मीनू’ कहते थे. नमक सत्याग्रह के समय मालती चौधरी और उनके पति भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए. उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया. जेलों में उन्होंने साथी कैदियों को पढ़ाया और गांधीजी के विचारों और विचारों का प्रचार किया. वर्ष 1933 में उन्होंने अपने पति के साथ ‘उत्कल कांग्रेस समाजवादी कर्म संघ’ का गठन किया. इस संगठन को ‘अखिल भारतीय कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी’ की उड़ीसा प्रांतीय शाखा के रूप में जाना जाने लगा. वर्ष 1934 में मालती चौधरी उड़ीसा में अपनी प्रसिद्ध पदयात्रा में गांधीजी के साथ शामिल हुईं. वर्ष  1946 में मालती चौधरी को भारत की संविधान सभा के सदस्य के रूप में चुनी  गई.
  7. कवयित्री विद्यावती ‘कोकिल’: – आज ही के दिन वर्ष 1914 में कवयित्री विद्यावती ‘कोकिल’ का जन्म हसनपुर, मुरादाबाद (उत्तर प्रदेश) में हुआ था. वर्ष 1940 ई. में विद्यावती ‘कोकिल’ की प्रारम्भिक रचनाओं का प्रथम काव्य-संकलन प्रणय, प्रगति एवं जीवनानुभूति के हृदयग्राही गीतों के संग्रह-रूप में प्रकाशित हुआ था. विद्यावती के स्वर में अंतर के बोल की झंकार एवं वेदना की एक कोमल लहर होती है, जो पाठक श्रोता के मन को सिक्त कर अंतर्लोक के द्वार की झाँकी कराने लगती है.
  8. योगाचार्य कृष्ण पट्टाभि जोइस:- आज ही के दिन वर्ष 1915 में योगाचार्य कृष्ण पट्टाभि जोइस का जन्म कर्नाटक के कोशिकवा नामक गांव में हुआ था. कृष्ण पट्टाभि की शिक्षा संस्कृत में हुई थी. शिक्षा प्रपात करने के बाद भारत के सर्वश्रेष्ठ योग गुरुओं में से एक बने और योग गुरु के तौर पर समाज में उभर कर सामने आए. कृष्ण पट्टाभि जोइस के शिक्षक रूपी जीवन की शुरुआत मसूरी से हुई थी. यहां उन्होंने एक संस्कृत महाविद्यालय से योग का ज्ञान दिया और योग कक्षाएं भी जारी रखीं। उन्होंने लगभग 36 साल तक इसी महाविद्यालय में शिक्षा प्रदान की. वर्ष 1948 के समीप इनके द्वारा ‘अष्टांग योगा शोध संस्थान’ खोला गया, जिसे लक्ष्मीपुरम नामक स्थान पर स्थापित किया गया था.
  9. क्रिकेटर गुलाबराई रामचंद्र:- आज ही के दिन वर्ष 1927 में क्रिकेटर गुलाबराई रामचंद्र का जन्म हुआ था.
  10. कवि इब्न-ए-सफ़ी:- आज ही के दिन वर्ष 1928 में कवि इब्न-ए-सफ़ी का जन्म इलाहाबाद जिले के ‘नारा’ शहर में हुआ था. उनके पिता का नाम सफीउल्लाह और माता का नाम नज़ीरन बीबी था. उन्होंने आगरा विश्वविद्यालय से कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की थी. वर्ष 1948 में, उन्होंने कविता विभाग में एक संपादक के रूप में ‘निकहत प्रकाशन’ में अपनी पहली नौकरी शुरू की थी. वर्ष 1947 में भारत और पाकिस्तान की स्वतंत्रता के बाद , उन्होंने 1950 के दशक की शुरुआत में एक माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक के रूप में काम करते हुए और अंशकालिक अध्ययन जारी रखते हुए उपन्यास लिखना शुरू किया.
  11. विद्वान वासुदेव शरण अग्रवाल:- आज ही के दिन वर्ष 1966 में विद्वान वासुदेव शरण अग्रवाल का निधन हुआ था.
  12. अभिनेता जुगल हंसराज:- आज ही के दिन वर्ष 1972 में अभिनेता जुगल हंसराज का जन्म मुम्‍बई में हुआ था. हंसराज एक भारतीय भारतीय फिल्‍म निर्देशक, अभिनेता, मॉडल, फिल्‍म प्रोड्यूसर, और लेखक है. उन्होंने कई बेहतरीन फिल्मों में अभिनेता के तौर पर काम किया है.
  13. राजनीतिज्ञ सत्य नारायण सिन्हा:- आज ही के दिन वर्ष 1983 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनेता तथा संसदीय मामलों के मंत्री सत्य नारायण सिन्हा का निधन हुआ था.
  14. अभिनेत्री मुग्धा गोड्स:- आज ही के दिन वर्ष 1983 में अभिनेत्री मुग्धा गोड्स का जन्म बेहद ही निम्न मध्यमवर्गीय परिवार में महाराष्‍ट्र के पुणे में हुआ था. मुग्धा का बचपन बेहद कठनाईयोँ से भरा था. उनकी प्रारम्भिक शिक्षा मराठी माध्यम के स्कूल नूतन मराठी विद्यालय सदाशिव पेठ, महाराष्ट्र से पूरी की थी. मुग्धा एक बेहद निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से होने के कारण मुग्धा को अपने जीवन में कड़ा संघर्ष करना पड़ा. उन्होंने मॉडलिंग कैरियर की शुरुआत वर्ष 2002 में ग्लैडरैग्स मेगा मॉडल हंट जीतकर की थी. जिसके बाद मुग्धा को कई मॉडलिंग के ऑफर आने लगे. वर्ष 2004 में मुग्धा ने मिस इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा लिया लेकिन, इस प्रतियोगिता को मुग्धा सेमीफाइनल तक पहुंचने में कामयाब रहीं और उन्हें मिस परफेक्ट 10 के ताज से नवाजा गया था. मुग्धा ने अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत वर्ष 2008 में फिल्म फैशन से की थी. बताते चलें कि, इस फिल्म के लिए मुग्धा को फिल्म फेयर में बेस्ट फीमेल डेब्यू का नॉमिनेशन भी मिला था. मुग्धा ने अपने टीवी कैरियर की शुरुआत वर्ष 2011 में ज़ी मराठी के रियलिटी शो मराठी पाउल पड़ते पुढे से की थी.
  15. अभिनेत्री दीपिका सिंह:- आज ही के दिन वर्ष 1989 में अभिनेत्री दीपिका सिंह का जन्म दिल्ली के एक राजपूत परिवार में हुआ था. उन्होंने पंजाब तकनीकी विश्वविद्यालय से विपणन में विशेषज्ञता के साथ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेटर में पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद अपने पिताजी के साथ कपड़ों के व्यापार में शामिल हो गई. दीपिका को बचपन से ही एक्टिंग और मॉडलिंग का काफी शौक था. उन्होंने मुंबई आकर एक्टिंग क्लास ज्वाइन किया. दीपिका ने अपने कैरियर की शुरुआत टेलीविजन से की थी. उनकी पहली सीरियल दिया और बाती हम में संध्या राठी किरदार करने का मौका मिला था. वर्ष 2012 में टीवी सीरियल दीया और बाती हम के लिए इंडियन टेली अवॉर्ड्स में बेस्ट एक्ट्रेस पापुलर का अवार्ड मिला था.
  16. कारगिल विजय दिवस:- आज ही के दिन वर्ष 1999 में भारत और पाकिस्तान के बीच करगिल युद्ध में भारत ने विजय पाई थी. ये युद्ध 3 मई 1999 की घुसपैठ से लेकर 26 जुलाई 1999 को भारत के विजय दिवस तक करीब 84 दिन चला था. पाकिस्तान सेना और घुसपैठियों को करगिल से खदेड़ते हुए भारतीय सेना ने इसमें जीत हासिल की थी. इस विजय को प्राप्त करने में भारतीय सेना के कई जवान शहीद हुए थे. इसलिए भारत सरकार ने फैसला किया कि 26 जुलाई को हर साल भारतीय सेना के शौर्य दिवस के रूप में करगिल विजय दिवस मनाया जाएगा.
  17. निशानेबाज़ी चैम्पियनशिप:- आज ही के दिन वर्ष 2002 में प्रथम छत्तीसगढ़ राज्य निशानेबाज़ी चैम्पियनशिप प्रारम्भ हुई थी.
  18. गैस पाइप लाइन के प्रस्ताव पर वार्ता:- आज ही के दिन वर्ष 2004 में ईरान के विदेश मंत्री कमल करजई ने भारतीय प्रधानमंत्री के साथ गैस पाइप लाइन के प्रस्ताव पर वार्ता की थी.
  19. अतिवृष्टि:- आज ही के दिन वर्ष 2005 में मुंबई में 24 घंटों में 5 से.मी. बारिश हुई परिणाम स्वरूप बाढ़ में 5000 लोगों को जान गवानी पड़ी थी.
  20. बम धमाके:- आज ही के दिन वर्ष 2008 में अहमदाबाद में एक के बाद एक 21 जगह हुए बम धमाकों में 56 लोग मारे गए थे और 200 से अधिक घायल हो गए थे. स्पेशल कोर्ट ने धमाकों के 38 दोषियों को मौत की सजा सुनाई है, वहीं 11 दोषियों को आजीवन कारावास की सजा दी गई.
  21. उबैद सिद्दिकी:- आज ही के दिन वर्ष 2013 में भारतीय राष्ट्रीय अनुसंधान प्रोफेसर और टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च के संस्थापक-निदेशक उबैद सिद्दिकी का निधन हुआ था.
  22. रेमन मैग्से पुरस्कार:- आज ही के दिन वर्ष 2018 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार की सूची में दो भारतीयों ,डॉ भरत वाटवाणी और सोनम वांगचुक को अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए चुना गया था.
  23. इनोवेट इंडिया प्लेटफॉर्म:- आज ही के दिन वर्ष 2018 में भारत सरकार ने इनोवेट इंडिया प्लेटफॉर्म शुरू किया था. यह पोर्टल देश में हो रही नई गतिविधियों की जानकारी देने में सहयोग करेगा.
  24. नेशनल स्टाक एक्सचेंज:- आज ही के दिन वर्ष 2018 में मुंबई शेयर बाजार 36 हजार 985 की नयी ऊंचाई पर बंद हुआ. साथ ही नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी ११ हजार १६७ की रिकार्ड उंचाई पर पहुंच गया.
  25. मानव तस्करी निषेध और पुनर्वास विधेयक:- आज ही के दिन वर्ष 2018 में लोकसभा ने मानव तस्करी निषेध और पुनर्वास विधेयक 2028 और संसद ने निगोशिएबल इन्ट्रून मेन्ट्से विधेयक 2018 पारित कर दिया.
  26. अस्पताल राष्ट्र को समर्पित:- आज ही के दिन वर्ष 2018 में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में नवनिर्मित मेडिकल कॉलेज और अस्प्ताल राष्ट्र को समर्पित किया था.

========== ========== ===========

Remember those moments- 80.

  1. Krishnadevaraya:- On this day in the year 1509, Krishnadevaraya ascended the throne of the Vijayanagara Empire.
  2. Welcomed: – On this day in the year 1614, Jahangir welcomed the Rana of Mewar in his court.
  3. Educationist Gurudas Banerjee:- On this day in the year 1844, educationist Gurudas Banerjee was born in Calcutta. He started his life as a professor in a college in Bengal, but soon he started practicing law and in the year 1876 D.L. obtained the degree. He had a keen interest in the development and spread of education and was Vice Chancellor of Calcutta University for two terms. In the year 1888 AD, he was made the judge of the Calcutta High Court from where he retired in the year 1904 AD. Banerjee has written many books on Hinduism, the main ones being ‘Gyan O Karma’ in Bengali and ‘Few That’s Own Education’ in English.
  4. Poet Rajnikanta Sen:- On this day in the year 1865, poet Rajnikanta Sen was born in a Vaidya family in the Bhangabadi village of Sirajganj in Pabna district, which is currently located in Bangladesh. His father’s name was Guruprasad Sen and his mother’s name was Man Mohini Devi. Rajinikanth started his schooling at Boaliya Zilla School (now Rajshahi Collegiate School). He learned Sanskrit from Rajnath Tarakaratna, a neighbor of his village Bhangkuthi, during school holidays. He received Gopal Chandra Lahiri as his academic mentor. In the year 1882, he passed the entrance examination from Cooch Behar Jenkins School. He completed a BA degree in the year 1889 and a BL degree in the year 1891 from Calcutta City College.
  5. Chhatrapati Sahu Maharaj: – On this day in the year 1874, Chhatrapati Sahu Maharaj was born. His father’s name was Shrimant Jaisingh Rao Abasaheb Ghatge. Chhatrapati Shahu Maharaj’s childhood name was ‘Yashwantrao’. Shivaji IV, the descendant of the second son of Chhatrapati Shivaji Maharaj (I), ruled in Kolhapur. When Shivaji IV was killed due to British conspiracy and betrayal of his Brahmin Diwan, his widow Anandibai adopted Yashwantrao, son of her vassal Jaisingh Rao Aabasaheb Ghatge in March 1884 AD. In his childhood, Yashwantrao had to take care of the throne of Kolhapur princely state in the capacity of Shahu Maharaj. Shahu Maharaj had gone to England in the middle of the year 1902. He issued an order from there and reserved 50 percent of posts of administration under Kolhapur for backward castes. Due to this order of the Maharaj, the Brahmins of Kolhapur were in a state of shock. Chhatrapati Shahu Maharaj was not a Kshatriya but belonged to the castes considered Shudra. The representation of backward castes in the administration of Kolhapur princely state was undoubtedly his innovative initiative. Schools and hostels on the basis of castes may seem uncomfortable, but no doubt it was a unique initiative to educate those castes which were neglected for centuries. He had made special efforts for the education of the children of Dalit-backward castes. Let us tell that it was Chhatrapati Shahu Maharaj who played an important role in sending Bhimrao Ambedkar, who played an important role in the making of the ‘Indian Constitution’, to England for higher education.
  6. Freedom fighter Malti Chowdhary:- On this day in the year 1904, freedom fighter Malti Chowdhary was born in a Brahmin family in East Bengal. Her father, barrister Kumud Nath Sen, died when she was only two-and-a-half years old while her mother, Snehlata Sen, was a prolific writer who wrote Jugalanjali and translated some of Rabindranath Tagore’s works. At the age of 16, Malati Chowdhary was sent to Santiniketan, where she was admitted to ‘Vishwabharati’ founded by Tagore. She was very fortunate to have had the opportunity to receive direct instruction from Rabindranath Tagore at Santiniketan. In Santiniketan, Malati not only obtained a degree but also acquired vast knowledge in various types of art and culture. Malti Chowdhary was highly influenced by Tagore’s principles, ideas of education and development, and patriotism. Gurudev lovingly called him ‘Meenu’. Malti Chowdhary and her husband joined the Indian National Congress during the Salt Satyagraha. He was arrested and sent to jail. In prisons, he taught fellow prisoners and propagated Gandhiji’s ideas and thoughts. In the year 1933, she along with her husband formed ‘Utkal Congress Samajwadi Karma Sangh’. This organization came to be known as the Orissa Provincial Branch of the ‘All India Congress Socialist Party’. In the year 1934, Malati Chowdhary joined Gandhiji in his famous padayatra in Orissa. In the year 1946, Malati Chowdhary was elected as a member of the Constituent Assembly of India.
  7. Poetess Vidyavati ‘Kokil’: – On this day in the year 1914, poetess Vidyavati ‘Kokil’ was born in Hasanpur, Moradabad (Uttar Pradesh). In the year 1940 AD, the first poetry collection of the initial compositions of Vidyavati ‘Kokil’ was published in the form of a collection of heartfelt songs of love, progress, and life experience. In the voice of Vidyavati, there is a gentle wave of pain and the jingle of the words of difference, which moistens the mind of the reader and listener and starts making a glimpse of the door of the inner world.
  8. Yogacharya Krishna Pattabhi Jois:- On this day in the year 1915, Yogacharya Krishna Pattabhi Jois was born in a village named Koshikwa in Karnataka. Krishna Pattabhi was educated in Sanskrit. After completing his education, he became one of the best yoga gurus in India and emerged as a yoga guru in society. Krishna Pattabhi Jois’s life as a teacher started in Mussoorie. Here he gave knowledge of yoga from a Sanskrit college and also continued yoga classes. He taught in this college for almost 36 years. Near the year 1948, ‘Ashtanga Yoga Research Institute’ was opened by him, which was established at a place named Lakshmipuram.
  9. Cricketer Gulabrai Ramchandra:- On this day in the year 1927, cricketer Gulabrai Ramchandra was born.
  10. Poet Ibn-e-Safi:- On this day in the year 1928, poet Ibn-e-Safi was born in the ‘Nara’ city of Allahabad district. His father’s name was Safiullah and his mother’s name was Nazeeran Bibi. He obtained the degree of Bachelor of Arts from Agra University. In the year 1948, he started his first job in ‘Nikhat Prakashan’ as an editor in the poetry department. After the independence of India and Pakistan in 1947, he began writing novels in the early 1950s while working as a secondary school teacher and continuing his part-time studies.
  11. Scholar Vasudev Sharan Agarwal: – On this day in the year 1966, scholar Vasudev Sharan Agarwal passed away.
  12. Actor Jugal Hansraj:- On this day in the year 1972, actor Jugal Hansraj was born in Mumbai. Hansraj is an Indian Indian film director, actor, model, film producer, and writer. He has worked as an actor in many best films.
  13. Politician Satya Narayan Sinha: – On this day in the year 1983, Indian National Congress politician and Parliamentary Affairs Minister Satya Narayan Sinha passed away.
  14. Actress Mugdha Godes: – On this day in the year 1983, actress Mugdha Godes was born in Pune, Maharashtra in a very low middle-class family. Mugdha’s childhood was full of hardships. His early education was completed at the Marathi medium school Nutan Marathi Vidyalaya Sadashiv Peth, Maharashtra. Being from a very lower middle-class family, Mugdha had to struggle hard in her life. She started her modeling career in the year 2002 by winning the Gladrags Mega Model Hunt. After which Mugdha started getting many modeling offers. In the year 2004, Mugdha participated in the Miss India contest, but in this competition, Mugdha managed to reach the semi-finals and was crowned Miss Perfect 10. Mugdha started her film career in the year 2008 with the film Fashion. Let us tell that, for this film, Mugdha also got the nomination for Best Female Debut in Filmfare. Mugdha started her TV career in the year 2011 with Zee Marathi’s reality show Marathi Paul Padte Aadhi.
  15. Actress Deepika Singh:- On this day in the year 1989, actress Deepika Singh was born in a Rajput family in Delhi. She joined her father in the clothing business after doing her post-graduation in Business Administration with a specialization in Marketing from Punjab Technical University. Deepika was very fond of acting and modeling since childhood. He came to Mumbai and joined the acting class. Deepika started her career with television. She got a chance to play Sandhya Rathi in her first serial Diya Aur Baati Hum. In the year 2012, she won the Best Actress Popular Award at the Indian Telly Awards for the TV serial Diya Aur Baati Hum.
  16. Kargil Victory Day: – On this day in the year 1999, India won the Kargil war between India and Pakistan. This war lasted for about 84 days from the infiltration of 3 May 1999 till the Victory Day of India on 26 July 1999. The Indian Army had won this by driving out the Pakistan Army and the intruders from Kargil. Many soldiers of the Indian Army were martyred in achieving this victory. That’s why the Government of India decided that Kargil Vijay Diwas will be celebrated every year on 26 July as the Bravery Day of the Indian Army.
  17. Shooting Championship:- On this day in the year 2002, the first Chhattisgarh State Shooting Championship was started.
  18. Talks on the proposal of gas pipeline: – On this day in the year 2004, Iran’s Foreign Minister Kamal Karzai held talks with the Indian Prime Minister on the proposal of a gas pipeline.
  19. Heavy rains:- On this day in the year 2005, Mumbai received 99.5 cm in 24 hours. As a result of the rains, 5000 people lost their lives in the flood.
  20. Bomb blasts:- On this day in the year 2008, 56 people were killed and more than 200 were injured in 21 bomb blasts one after the other in Ahmedabad. The special court has sentenced 38 blasts convicts to death, while 11 convicts were given life imprisonment.
  21. Obaid Siddiqui:- On this day in the year 2013, Indian National Research Professor and Founder-Director of Tata Institute of Fundamental Research Obaid Siddiqui passed away.
  22. Ramon Magsaysay Award:- On this day in the year 2018, two Indians, Dr. Bharat Vatwani and Sonam Wangchuk were selected in the list of Ramon Magsaysay Awards for their remarkable work in their field.
  23. Innovate India Platform: – On this day in the year 2018, the Government of India started the Innovate India platform. This portal will help in giving information about new activities happening in the country.
  24. National Stock Exchange:- On this day in the year 2018, the Mumbai stock market closed at a new height of 36 thousand 985. Also, the National Stock Exchange’s Nifty reached a record high of 11 thousand 167.
  25. Prohibition of Human Trafficking and Rehabilitation Bill:- On this day in the year 2018, the Lok Sabha passed the Prohibition of Human Trafficking and Rehabilitation Bill 2028 and the Parliament passed the Negotiable Introvert Mentse Bill 2018.
  26. Hospital dedicated to the nation:- On this day in the year 2018, President Ramnath Kovind dedicated the newly constructed Medical College and Hospital in Jagdalpur, Chhattisgarh to the nation.
: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button