News

याद आते वो पल-74.

  1. महान विजेता सिकंदर:- आज ही के दिन वर्ष 356: ईसा पूर्व महान विजेता सिकंदर का जन्म प्राचीन ग्रीस के पेला में हुआ था. सिकंदर 20 वर्ष की उम्र में अपने पिता राजा फिलिप द्वितीय के सिंहासन पर बैठा था. अगले 10 वर्षों में सिकंदर ने पश्चिम एशिया और उत्तरी अफ्रीका के बड़े हिस्सों में अभियानों का नेतृत्व किया था.
  2. अलाउद्दीन खिलजी:- आज ही के दिन वर्ष 1296 में अलाउद्दीन खिलजी ने स्वयं को दिल्ली का सुल्तान घोषित किया था. अलाउद्दीन खिलजी का मूल नाम अली गुर्शप्प था. उसने अपने चाचा और ओहदे में ससुर जलाल-उद-दीन फिरोज खिलजी की हत्या करने के बाद दिल्ली सल्तनत की गद्दी पर बैठा था.
  3. गणेश वासुदेव जोशी:- आज ही के दिन वर्ष 1820 में गणेश वासुदेव जोशी का जन्म सतारा, महाराष्ट्र में हुआ था. गणेश के पिता ईस्ट इंडिया कंपनी के कर्मचारी थे. किंतु उनका असमय ही निधन हो गया था. जिसके कारण  गणेश की औपचारिक शिक्षा केवल मराठी भाषा में ही हो पाई थी. बाद में उन्होंने अंग्रेजी की भी पढ़ाई की. उन्होंने सार्वजनिक क्षेत्र में भी काम करना आरंभ किया और इसी उद्देश्य से वर्ष 1870 ई. में ‘पुणे सार्वजनिक सभा’ की भी स्थापना की थी. इस सभा का उद्देश्य जनता की कठिनाइयों की ओर अंग्रेज़ अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट करके उनके निवारण का प्रयत्न करना था.
  4. साहित्यकार बालकृष्ण भट्ट:- आज ही के दिन वर्ष 1914 में, साहित्यकार बालकृष्ण भट्ट का जन्म प्रयाग (आधुनिक इलाहाबाद) में हुआ था. इनके पिता का नाम पंडित वेणी प्रसाद था. बालकृष्ण की शिक्षा पर बाल्यकाल से ही विशेष ध्यान दिया गया. बालकृष्ण की प्राथमिक शिक्षा संस्कृत में उनके घर पर ही दी गई. करीब 16 वर्ष की अवस्था में बालकृष्ण की माता के आदेशानुसार स्थानीय मिशन के स्कूल में अंग्रेज़ी पढना प्रारंभ किया और दसवीं कक्षा तक अध्ययन किया. मिशन स्कूल छोड़ने के उपरान्त यह पुनः संस्कृत, व्याकरण और साहित्य का अध्ययन करने लगे. बालकृष्ण कुछ समय तक जमुना मिशन स्कूल’ में संस्कृत के अध्यापक भी रहे लेकिन, उन्हें अपने धार्मिक विचारों के कारण नौकरी छोड़नी पड़ी. बालकृष्ण भट्ट का हिन्दी के निबन्धकारों में महत्त्वपूर्ण स्थान है. निबन्धों के प्रारंभिक युग को निःसंकोच भाव से भट्ट युग के नाम से अभिहित किया जा सकता है.
  5. शारदा देवी:- आज ही के दिन वर्ष 1920 में रामकृष्ण परमहंस की जीवन संगिनी शारदा देवी का निधन हुआ था.
  6. तबला वादक सामता प्रसाद:- आज ही के दिन वर्ष 1921 में, तबला वादक सामता प्रसाद का जन्म वाराणसी में हुआ था. सामता प्रसाद भारतीय शास्त्रीय संगीतकार तथा तबला वादक थे जिन्हें हम सभी ‘गुदई महाराज’ के नाम से भी जानते हैं. गुदई महाराज बनारस घराने के संगीतकार थे. गुदई महाराज ने अनको हिन्दी फिल्मों में तबला वादन किया था. बताते चलें कि, फ़िल्मों के प्रसिद्ध संगीतकार राहुल देव बर्मन भी सामता प्रसाद के ही शिष्य थे. सामता प्रसाद को भारत सरकार ने वर्ष 1972 में ‘पद्मश्री से सम्मानित किया गया था.
  7. राजनीतिज्ञ चन्द्रनाथ शर्मा:- आज ही के दिन वर्ष 1922 में असम राज्य के प्रथम असहयोगी और असम में कांग्रेस के संस्थापकों में से एक चन्द्रनाथ शर्मा का निधन हुआ था.
  8. अभिनेता राजेंद्र कुमार:- आज ही के दिन वर्ष 1929 में अभिनेता राजेंद्र कुमार का जन्म पश्चिम पंजाब के सियालकोट में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था. बचपन से ही राजेंद्र कुमार को अभिनेता बनने का शौक था. उन्होंने अपने सपने को पूरा करने के लिए अपने पिता द्वारा दी गई घड़ी को बेचकर किस्मत आजमाने मुंबई पहुंचे. दिखने में बेहद ही आकर्षक थे राजेंद्र कुमार। उन्होंने ने अपने फ़िल्मी कैरियर की शुरुआत फ़िल्म “जोगन” से की थी. बताते चलें कि, भारतीय फ़िल्म इतिहास में सत्तर के दशक में राजेन्द्र कुमार सबसे सफल अभिनेता साबित हुए थे. राजेंद्र कुमार को फ़िल्मफेयर पुरस्कार के सर्वश्रेष्ठ अभिनेता की श्रेणी में तीन बार नामांकन मिला, लेकिन उन्हें यह पुरस्कार ना मिला सका. वर्ष  1969 में उन्हें ‘पद्म श्री’ से सम्मानित किया गया था.
  9. अभिनेता नसीरुद्दीन शाह:- आज ही के दिन वर्ष 1950 में अभिनेता नसीरुद्दीन शाह का जन्म उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में हुआ था. शाह ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी की उसके बाद उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में दाखिला लिया. नसीरूद्दीन शाह ने अपने कैरियर की शुरुआत आर्ट फ़िल्म निशांत से की थी. जिसमें उनके साथ स्मिता पाटिल और शबाना आजमी जैसी अभिनेत्रियां थीं. नसीरूद्दीन की फ़िल्मों की सूची में समानांतर और मुख्य धारा की फ़िल्मों का अनूठा संगम देखने को मिलता है. नसीरूद्दीन शाह को वर्ष 1987 में पद्म श्री और वर्ष 2003 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया है.
  10. क्रांतिकारी बटुकेश्वर दत्त:- आज ही के दिन वर्ष 1965 में क्रांतिकारी बटुकेश्वर दत्त का निधन हुआ था.
  11. पहली महिला न्यायाधीश अन्ना चांडी:- आज ही के दिन वर्ष 1966 में भारत की पहली महिला न्यायाधीश अन्ना चांडी का निधन हुआ था.
  12. मुख्यमंत्री कलिखो:- आज ही के दिन वर्ष 1969 में अरुणाचल प्रदेश के भूतपूर्व मुख्यमंत्री कलिखो पुल का जन्म हुआ था.
  13. पा‌र्श्वगायिका गीता दत्त:- आज ही के दिन वर्ष 1972 में पा‌र्श्वगायिका गीता दत्त का निधन हुआ था.
  14. मीरा बेन:- आज ही के दिन वर्ष 1982 में ब्रिटिश सैन्य अधिकारी की पुत्री मीरा बेन का निधन हुआ था. बताते चलें कि, ‘भारतीय स्वतंत्रता संग्राम’ में महात्मा गाँधी के सिद्धांतों से प्रभावित होकर मीरा बेन ने खादी का प्रचार किया था.
  15. 14वें राष्ट्रपति निर्वाचित हुए:- आज ही के दिन वर्ष 2017 में भारत के 14वें राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद निर्वाचित हुए थे.

    ========== ========== ===========

Remember those moments- 74.

  1. The great conqueror Alexander: – On this day in the year 356 BC, the great conqueror Alexander was born in Pella, ancient Greece. Alexander succeeded his father, King Philip II, to the throne at the age of 20. Over the next 10 years, Alexander led campaigns across large parts of West Asia and North Africa.
  2. Alauddin Khilji: – On this day in the year 1296, Alauddin Khilji declared himself the Sultan of Delhi. The original name of Alauddin Khilji was Ali Gurshapp. He ascended the throne of the Delhi Sultanate after killing his uncle and father-in-law Jalal-ud-din Firoz Khilji.
  3. Ganesh Vasudev Joshi:- On this day in the year 1820, Ganesh Vasudev Joshi was born in Satara, Maharashtra. Ganesh’s father was an employee of the East India Company. But he had died untimely. Because of this Ganesh’s formal education was done only in the Marathi language. Later he also studied English. He also started working in the public sector and for this purpose in the year 1870 AD, ‘Pune Sarvajanik Sabha’ was also established. The aim of this meeting was to attract the attention of British officials to the difficulties of the public and try to solve them.
  4. Writer Balkrishna Bhatt: – On this day in the year 1914, Writer Balkrishna Bhatt was born in Prayag (modern Allahabad). His father’s name was Pandit Veni Prasad. Special attention was paid to the education of Balkrishna from his childhood. Balkrishna’s primary education was given in Sanskrit at his home. At the age of about 16, as per the orders of Balakrishna’s mother, he started studying English in the local mission school and studied till class X. After leaving the mission school, he again started studying Sanskrit, grammar, and literature. Balakrishna was also a Sanskrit teacher at Jamuna Mission School for some time, but he had to leave the job due to his religious views. Balkrishna Bhatt has an important place among Hindi essayists. The initial era of essays can be designated as the Bhatt era without any hesitation.
  5. Sharda Devi: – On this day in the year 1920, the life partner of Ramakrishna Paramhans, Sharda Devi passed away.
  6. Tabla player Samta Prasad:- On this day in the year 1921, Tabla player Samta Prasad was born in Varanasi. Samta Prasad was an Indian classical musician and tabla player whom we all also know by the name of ‘Gudai Maharaj’. Gudai Maharaj was a musician of Banaras Gharana. Gudai Maharaj played tabla in many Hindi films. Let us tell that Rahul Dev Burman, the famous music composer of the films, was also a disciple of Samta Prasad. Samta Prasad was awarded the ‘Padma Shri’ by the Government of India in the year 1972.
  7. Politician Chandranath Sharma:- On this day in the year 1922, Chandranath Sharma, the first non-cooperative of Assam state and one of the founders of Congress in Assam, passed away.
  8. Actor Rajendra Kumar: – On this day in the year 1929, Actor Rajendra Kumar was born in a middle-class family in Sialkot, West Punjab. Since childhood, Rajendra Kumar was fond of becoming an actor. To fulfill his dream, he reached Mumbai to try his luck by selling the watch given by his father. Rajendra Kumar was very attractive in appearance. He started his film career with the film “Jogan”. Let us tell that Rajendra Kumar proved to be the most successful actor in Indian film history in the seventies. Rajendra Kumar received three nominations in the Best Actor category for the Filmfare Awards, but could not get the award. In the year 1969, he was awarded ‘Padma Shri’.
  9. Actor Naseeruddin Shah: – On this day in the year 1950, Actor Naseeruddin Shah was born in Barabanki, Uttar Pradesh. Shah completed his graduation from Aligarh Muslim University, after which he joined the National School of Drama. Naseeruddin Shah started his career with the art film Nishant. In which he was accompanied by actresses like Smita Patil and Shabana Azmi. A unique confluence of parallel and mainstream films is seen in Naseeruddin’s list of films. Naseeruddin Shah has been awarded the Padma Shri in the year 1987 and the Padma Bhushan in the year 2003.
  10. Revolutionary Batukeshwar Dutt:- On this day in the year 1965, revolutionary Batukeshwar Dutt passed away.
  11. First woman judge Anna Chandy: – On this day in the year 1966, India’s first woman judge Anna Chandy passed away.
  12. Chief Minister Kalikho:- On this day in the year 1969, former Chief Minister of Arunachal Pradesh Kalikho Pul was born.
  13. Playback singer Geeta Dutt:- On this day in the year 1972, playback singer Geeta Dutt passed away.
  14. Meera Ben:- On this day in the year 1982, Meera Ben, the daughter of a British military officer, passed away. Let us tell that Meera Ben promoted Khadi after being influenced by the principles of Mahatma Gandhi in the ‘Indian Freedom Struggle’.
  15. Elected 14th President: – On this day in the year 2017, the 14th President of India Ram Nath Kovind was elected.
Rate this post
:

Related Articles

Back to top button