जूस के गुण… - Gyan Sagar Times
Life Style

जूस के गुण…

गर्मियों का मौसम शुरू हो गया है साथ ही पसीने से लथपथ होने के कारण शरीर से मिनिरल और विटामिन बाहर निकल जाते है. समय के साथ-साथ पटनाईटस के खाने-पीने के अंदाज भी बदलते जा रहे हैं बीते दिनों में लोग देसी उपायों के साथ गर्मी के मौसम का आनद उठाते थे. अब पटना में भी आसानी से फलों के स्वास्थवर्धक जूस उपलब्बध हो रहें हैं. आज हम बात कर रहें हैं कुछ फ्रूट जूस के बारे में जिनके गुण के कारण आप आश्चर्यचकित हो सकते हैं…

कीवी :-

कीवी फसल की शुरुआत आज से करीब 700 वर्ष पूर्व चीन में हुई थी. इसके अलावा इसकी खेती ब्राजील, न्यूजीलैंड, चिली और ईटली में की जाती है. इस पेड़ का वैज्ञानिक नाम एक्तीनिडिया डेलीसीसा (Actinidia Deliciosa) है. कीवी का फल अपने पोषक और औषधीय गुणों के कारण आकर्षित करता है. कीवी जूस में किसी भी फल के मुकाबले ज्यादा पोषक तत्व मोजूद होते हैं. इसके जूस का स्वाद खट्टा होता है साथ ही इसमें विटामिन और मिनिरल की मात्र अधिक होती है.

झुरियों को दूर करता है.

बाल लम्बे और चमकदार बनते हैं.

ह्रदय रोग से बचाता है.

तनाव को दूर करने में मदद करता है.

अनानास:- 

अनानास को आदिवासी पौधा भी कहा जाता है इसका वैज्ञानिक नाम आननास कॉमोजस(Ananas comosus) है. क्रिस्टोफर कोलंबस ने 1493 AD में कैरेबियन द्वीप समूह के ग्वाडेलोप नाम के द्वीप में इसे खोजा था और इसका नाम ‘पाइना दी इंडीज’ नाम दिया. भारत में अनानास की खेती की शुरुआत पुर्तगालीयों ने गोवा से की थी. इसके कच्चे फल का स्वाद खट्टा और पके फल का स्वाद मीठा हिता है. अनानास के फल में थाइमीन, राइबोफ्लेविन, सुक्रोस,ग्लूकोस, कैफीक अम्ल, सिट्रिक अम्ल, कार्बोहाईड्रेट तथा प्रोटीन पाया जाता है.

अनानास का जूस पीने से पसीने व गर्मी से राहत देता है.

अनानास का जूस पीने से मोटापा दूर होता है.

बदहजमी को दूर करता है साथ ही शरीर के प्रतिरोधक क्षमता को भी बढाता है.

ग्रीन एप्पल(हरा सेब):-   

सेब का पता लगाने का श्रेय सिकन्दर महान को जाता है वहीं दुसरे तरफ यूरोप और ग्रीक में इस फल को देवता का उपहार भी मानते हैं. इसका वैज्ञानिक नाम मलुस डोमेस्टिका (Malus domestica) है. भारत में यह हिमाचल प्रदेश में पैदा होता है. इनमे कई तरह के विटामिन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम फाइबर और अम्ल पाए जाते हैं. स्वास्थ की दृष्टि में हरा सेब ज्यादा बढिया माना जाता है.

कोलेस्ट्राल और रक्तचाप को कम करने में मदद करता है.

पाचन सम्बन्धी दोष को दूर करने में सहायक होता है.

त्वचा को कैंसर से बचाता है.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!