ArticleNews

व्यक्ति विशेष

भाग - 04.

क्रांतिकारी महादेव देसाई

महादेव देसाई भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारी थे और उन्हें ‘क्रांतिकारी महादेव देसाई’ के नाम से जाना जाता है। उनका जन्म 1892 में महाराष्ट्र के सोलापुर जिले के माडगाँव में हुआ था। महादेव देसाई ने अपनी शिक्षा को पूरा करने के बाद स्वतंत्रता संग्राम में जुट जाने का निर्णय किया।

उन्होंने गांधीवादी विचारधारा को अपनाया और गांधीजी के साथ मिलकर सत्याग्रह और अनशन में भाग लिया। महादेव देसाई को गांधीजी की विशेष अनुशासन सेना (सत्याग्रही सेना) के सदस्य के रूप में भी योगदान देने का भी अवसर मिला। महादेव देसाई ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अपनी पूरी शक्ति और साहस से योगदान दिया और वे एक सच्चे और समर्पित क्रांतिकारी थे। उन्होंने गांधीजी के साथ मिलकर अनेक आंदोलनों में भाग लिया और ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ आवाज बुलंद की।

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद, महादेव देसाई ने सामाजिक और आर्थिक न्याय की दिशा में काम किया और गांधीवादी आदर्शों को बनाए रखने का प्रयास किया। उनका योगदान भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में और स्वतंत्रता के बाद के समय में समर्पित रहा। महादेव देसाई को समाजसेवा, आदिवासी-दलित कल्याण, और गांधीवादी विचारधारा के प्रति उनके समर्पण के लिए सम्मानित किया गया है।

=========== ============ ============

राजनीतिज्ञ ओम प्रकाश चौटाला

ओम प्रकाश चौटाला एक भारतीय राजनेता है जो भारतीय जनता पार्टी (भा.ज.पा.) के सदस्य हैं। वह भारतीय राजनीति में लंबे समय से सक्रिय रूप से शामिल हैं और हरियाणा राज्य के नेताओं में से एक हैं।

ओम प्रकाश चौटाला का जन्म 01  जनवरी 1935  को हरियाणा के सिरसा जनपद में हुआ था। उनके पिता का नाम देवी लाल चौटाला था, जो भी एक प्रमुख हरियाणा के नेता रहे हैं। उनका परिवार भारतीय राजनीति में एक प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री के परिवार के रूप में मशहूर है।

ओम प्रकाश चौटाला ने हरियाणा राज्य के विभिन्न पदों पर सेवा की है, जैसे कि विधायक, मंत्री, और मुख्यमंत्री। उन्होंने अपने सामरिक और सामाजिक क्षेत्र में कार्यों के लिए भी पहचान बनाई है। चौटाला परिवार हरियाणा में चौटाला नाम से प्रसिद्ध है और इस परिवार के सदस्यों ने राजनीति में अच्छी प्रदर्शन की है।

=========== ============ ============

 गीतकार राहत इंदौरी

राहत इंदौरी एक मान्यता प्राप्त उर्दू कवि और गीतकार थे, जो भारतीय साहित्य और संगीत के क्षेत्र में अपने योगदान के लिए प्रसिद्ध थे। उनका जन्म 1 जनवरी 1950 को इंदौर, मध्यप्रदेश, भारत में हुआ था और उनका निधन 11 अगस्त 2020 को हुआ था। उनका उर्दू और हिंदी साहित्य में महत्वपूर्ण स्थान था।

राहत इंदौरी ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज, प्रेम, और राष्ट्रीय विषयों पर अपने दृष्टिकोण को व्यक्त किया। उनकी शैली उदार और जीवंत थी, और उन्होंने अपने शब्दों से लोगों के दिलों को छूने की कोशिस की।

राहत इंदौरी ने बॉलीवुड फिल्मों के लिए भी कई गीत लिखे, जिनमें “मेरे देश की धरती” (कई सोने चांदी की रातें), “नींद छुराई मेरे ख्वाब ने” (दिल) और “चोधवे बींदवे” (गर्दिश) शामिल हैं।

राहत इंदौरी की कविताओं और गीतों का आदान-प्रदान भारतीय साहित्य और संगीत के क्षेत्र में अद्भुत माना जाता है, और उनकी रचनाएँ लोगों के बीच आज भी प्रशंसा प्राप्त कर रही हैं।

=========== ============ ============

निर्माता निर्देशक दीपा मेहता

भारतीय सिनेमा के महत्वपूर्ण नामों में से एक हैं दीपा मेहता, जो एक प्रमुख निर्माता, निर्देशक, और पटकथा लेखक हैं।

दीपा मेहता ने अनेक उदारिता और साहस के साथ अनेक उत्कृष्ट फिल्मों को निर्मित किया है। उनकी फिल्मों में से कई ने समाज के मुद्दों पर चिन्ह रखा है और उन्होंने नए और साहसिक कथा-रूपांतरणों का सामना किया है। उन्होंने ‘रंग दे बसंती’, ‘बारीली की बर्फी’, और ‘आर्शी’ फिल्मों का निर्देशन कर चर्चा में रहीं। दीपा मेहता ने कई फिल्मों के लिए खुद ही पटकथा लिखी है जो दर्शकों को सोचने के लिए मजबूर करती हैं।

महत्वपूर्ण फिल्में:

रंग दे बसंती‘: – इस फिल्म ने बहुत सारे पुरस्कार जीते और दर्शकों को एक सामाजिक संदेश देने में सफल रही।

बारीली की बर्फी‘: – यह फिल्म एक रोमांटिक कॉमेडी है और इसने अच्छी प्रतिक्रिया प्राप्त की है।

दीपा मेहता ने अपने कैरियर में सिनेमा को विभिन्न दृष्टिकोण से देखा है और उनका योगदान सिनेमा में नई राहें खोलने में महत्वपूर्ण रहा है।

=========== ============ ============

अभिनेता नाना पाटेकर

नाना पाटेकर एक प्रमुख भारतीय अभिनेता है जो बॉलीवुड और मराठी सिनेमा में अपनी प्रशिक्षण और प्रदर्शनी कला के लिए पहचान बनाई है। उनका जन्म 1 जनवरी 1951 को महाराष्ट्र के मुरुबाड में हुआ था।

नाना पाटेकर की कुछ महत्वपूर्ण फिल्में:

परिंदा‘, ‘अग्निसाक्षी‘, कृष्णा‘, ‘वसायचे दप्पर

नाना पाटेकर के कला से भरपूर किरदारों ने उन्हें सिनेमा जगत में एक प्रमुख अभिनेता बना दिया है, और उन्होंने अपनी विशेष आवृत्ति और गहराई के लिए पहचान बनाई है।

=========== ============ ============

ठुमरी गायिका शुभा मुद्गल

शुभा मुद्गल, भारतीय संगीत में एक प्रमुख गायिका हैं। उन्होंने ख्याल, ठुमरी, और भजन आदि कई विभिन्न शैलियों में अपना प्रदर्शन किया है। उनका संगीत शैली में गहराई और भावनात्मकता का अद्वितीय संगम होता है। उन्होंने भारतीय संगीत के कई पहलुओं को छूने का प्रयास किया है और उनके गायन में संगीत की ऊँची गुणवत्ता को महसूस किया जा सकता है।

शुभा मुद्गल का जन्म 1959 में हुआ था और उनका संगीतिक कैरियर बहुत समृद्धि से भरा हुआ है। उन्होंने अपने अद्वितीय संगीत से भारतीय संगीत की विभिन्न परंपराओं को समर्पित किया है और उन्हें इस क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण स्थान मिला है।

=========== ============ ============

अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे

सोनाली बेंद्रे, भारतीय फिल्म इंडस्ट्री की एक प्रमुख अभिनेत्री हैं। उनका जन्म 1 जनवरी 1975 को महाराष्ट्र के मुंबई शहर में हुआ था। सोनाली बेंद्रे ने अपने कैरियर की शुरुआत मॉडलिंग से की थी और फिर बॉलीवुड में एक्टिंग करना शुरू किया।

उनका पहला फिल्मी देव्यभूमि था, जो 1994 में रिलीज हुई थी, और उसके बाद उन्होंने कई हिट फिल्मों में काम किया। कुछ प्रमुख फिल्में जिनमें सोनाली ने अच्छे प्रदर्शन किए हैं, उनमें से कुछ :-

सरकार (1997)

हम साथ-साथ हैं (1999)

सरफारोश (1999)

हेरा फेरी (2007)

दिल जो भी कहे (2005)

सोनाली बेंद्रे ने अपने कैरियर में अपने अभिनय के लिए कई पुरस्कारों को जीता है और उनका योगदान बॉलीवुड में महत्वपूर्ण माना जाता है।

इसके अलावा, सोनाली बेंद्रे ने अपने जीवन में कैंसर से जूझने के बाद भी आत्म-समर्पण और साहस का परिचय किया है और उन्होंने इस मुश्किल समय से बाहर आने के लिए सकारात्मक रूप से लोगों को प्रेरित किया है।

=========== ============ ============

अभिनेत्री  विद्या बालन

विद्या बालन, एक प्रमुख भारतीय फिल्म अभिनेत्री हैं, जिन्होंने अपने अभिनय के लिए कई पुरस्कार और सम्मान जीते हैं। उनका जन्म 1 जनवरी 1979 को मुंबई, महाराष्ट्र, भारत में हुआ था।

विद्या बालन का फिल्मी कैरियर 2003 में हिन्दी फिल्म “परिनीति” के साथ शुरू हुआ था, जिसमें उन्होंने अपने पहले फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए बेस्ट डेब्यू अभिनेत्री का पुरस्कार जीता। उनका अभिनय इस फिल्म के लिए सराहनीय था और वह तुरंत फिल्म इंडस्ट्री की एक नई चेहरा बन गईं।

विद्या बालन ने फिर से कई महत्वपूर्ण फिल्मों में काम किया, जैसे कि: –

भूल भुलैया” (2007)

परिणीती” (2005)

कहानी” (2012)

त्यारी जना है” (2017)

शेरनी” (2021)

उन्होंने अपने अभिनय के लिए कई पुरस्कार भी जीते हैं, जैसे कि एक नेशनल फिल्म अवॉर्ड, एक फिल्मफेयर पुरस्कार। विद्या बालन एक सुशिक्षित और प्रतिबद्ध अभिनेत्री हैं, जिन्होंने अपने योगदान से बॉलीवुड में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाया है।

: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button