News

व्यक्ति विशेष

भाग - 14.

कवि श्रीधर पाठक

कवि श्रीधर पाठक एक प्रसिद्ध हिंदी कवि और साहित्यकार थे। उन्होंने भारतीय साहित्य के कई प्रमुख काव्य और निबंध रचनाओं का निर्माण किया और उनका योगदान हिंदी साहित्य में महत्वपूर्ण माना जाता है।

कवि श्रीधर पाठक का जन्म 11 जनवरी, 1860 को उत्तर प्रदेश के आगरा में हुआ था। उन्होंने अपनी शिक्षा गोरखपुर और वाराणसी के विभिन्न कॉलेजों से प्राप्त की और फिर दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स डिग्री प्राप्त की। कवि श्रीधर पाठक की कविताएं और लेखने उनके भावनाओं, भारतीय संस्कृति और समाज के विभिन्न पहलुओं को सुंदरता के साथ व्यक्त करती थीं। उनकी कविताओं में प्राकृतिक सौंदर्य, मानवता, और दर्शनिक विचार प्रकट होते थे।

कवि श्रीधर पाठक की कुछ प्रमुख कृतियाँ निम्नलिखित हैं: –

किरणों का उदय” – इस काव्य कृति में वे प्रकृति की सुंदरता और उसके निरंतर बदलने वाले स्वरूप को चित्रित करते हैं।

अरुण यात्रा” – यह काव्य कृति भारतीय संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं को दर्शाती है और भारतीय दर्शन के अद्भुत प्रतिष्ठानों का वर्णन करती है।

सरोवर पर” – इस काव्य में कवि ने प्राकृतिक सौंदर्य को और भी महत्वपूर्ण रूप से प्रस्तुत किया है।

कवि श्रीधर पाठक का काव्य और निबंध साहित्य में महत्वपूर्ण हैं और उनकी रचनाएँ भारतीय साहित्य के स्वर्णिम अंश में शामिल होती हैं। उन्होंने अपने लेखन के माध्यम से समाज को सामाजिक और मानविक मुद्दों के प्रति जागरूक किया और भारतीय साहित्य को एक नए दिशा में ले जाने में मदद की।

==========  =========  ===========

महिला जासूस सरस्वती राजामणि

महिला जासूस सरस्वती राजामणि एक भारतीय जासूस थीं जिन्होंने भारतीय गुप्तचर एजेंसी के लिए काम किया था। उनका जन्म 1927 में हुआ था और उनकी मौत 13 जनवरी 2018  को  हुई थी। सरस्वती राजामणि को भारतीय गुप्तचर एजेंसी (RAW) की पहली महिला जासूस के रूप में जाना जाता है।

सरस्वती राजामणि ने अपने जीवन के दौरान कई महत्वपूर्ण जासूसी मिशन्स पर काम किया और विभिन्न देशों में गुप्तचर के काम की जिम्मेदारी संभाली। उन्होंने अपने जीवन के दौरान कई बड़े खतरनाक काम किए और देश की सुरक्षा में अपना योगदान दिया। सरस्वती राजामणि की कहानी उनके साहसी और समर्पित जीवन का प्रतीक है, जिन्होंने अपने देश के लिए सेवा करने का निरंतर संकल्प बनाया और जासूसी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान किया। उनकी कड़ी मेहनत, ब्रेवरी और संकल्प की कहानी एक प्रेरणास्पद है और उन्हें भारतीय गुप्तचर एजेंसी की एक महत्वपूर्ण और महत्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में याद किया जाता है।

==========  =========  ===========

राजनीतिज्ञ शिबु सोरेन

राजनीतिज्ञ शिबु सोरेन एक भारतीय राजनेता हैं जो भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं और झारखंड राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भी रहे हैं। उनका पूरा नाम शिबु सोरेन है, और वे झारखंड के पोरहट जिले के एक छोटे से गांव से हैं, जो अब पश्चिमी सिंहभूम जिले में आता है।

शिबु सोरेन का राजनीतिक सफर काफी लम्बा और समृद्ध है। वे झारखंड के जनसंघ और आदिवासी मुख्यमंत्री के रूप में कई बार कार्यभार संभाल चुके हैं। उन्होंने झारखंड के आदिवासी समुदायों के लिए सामाजिक और आर्थिक सुधार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता का प्रमुख हिस्सा बनाया है। शिबु सोरेन ने झारखंड मुख्यमंत्री के तौर पर छह बार कार्यभार संभाला है, और उन्होंने झारखंड के सियासी मानचित्र को काफी प्रमुख रूप से परिवर्तित किया है। वे झारखंड मुख्यमंत्री के तौर पर अपनी सेवाएँ देने के साथ-साथ, राष्ट्रीय स्तर पर भी भारतीय राजनीति में अपनी उपस्थिति बनाए रखे हैं। शिबु सोरेन को झारखंड की जनसंघ और आदिवासी समुदायों के बीच एक महत्वपूर्ण और प्रमुख नेता के रूप में जाना जाता है, और उनका योगदान झारखंड राज्य के विकास और उसके लोगों की सामाजिक सुधार में महत्वपूर्ण रहा है।

==========  =========  ===========

राजनीतिज्ञ बाबूलाल मरांडी

बाबूलाल मरांडी एक भारतीय राजनेता हैं और झारखंड राज्य के प्रमुख राजनीतिज्ञ में से एक हैं। वह झारखंड विकास मोर्चा के संस्थापक हैं और इस पार्टी के नेता के रूप में कार्यरत हैं।

बाबूलाल मरांडी का जन्म 11 जनवरी 1958 को झारखंड के सहिबगंज जिले के एक छोटे से गांव में हुआ था। उन्होंने अपनी पढ़ाई के बाद डॉक्टरी की डिग्री प्राप्त की और फिर राजनीतिक करियर की ओर बढ़ते हुए भारतीय बीजेपी के सदस्य बने। उन्होंने झारखंड राज्य के विकास और आदिवासी समुदायों के हित में कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। उन्होंने झारखंड के प्रमुख मुद्दों पर काम किया है, जैसे कि आदिवासी समुदायों के अधिकार, जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का सामना, और राज्य के विकास में सही दिशा में योगदान करने के लिए कई योजनाएँ बनाई हैं। बाबूलाल मरांडी को झारखंड राज्य की राजनीतिक स्कीम में एक महत्वपूर्ण और प्रमुख नेता के रूप में जाना जाता है।

==========  =========  ===========

क्रिकेट खिलाड़ी राहुल द्रविड़

राहुल द्रविड़ एक पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं और भारतीय क्रिकेट के एक बड़े और प्रमुख नामों में से एक हैं। वह 11 जनवरी 1973 को इंदौर, मध्य प्रदेश, भारत में पैदा हुए थे। राहुल द्रविड़ का उपनाम “द्रविड़” है, और उन्हें “द्रविड़ दीवान” के नाम से भी जाना जाता है।

राहुल द्रविड़ ने अपने क्रिकेट कैरियर के दौरान भारतीय क्रिकेट को कई महत्वपूर्ण जीतें दिलाई और वे भारतीय क्रिकेट के सबसे सफल बैट्समैनों में से एक हैं। वे एक प्रमुख बैट्समैन के रूप में तीन विश्व कप टूर्नामेंट्स (1999, 2003, और 2007) में भाग लिए और भारत को अपने बैटिंग के माध्यम से कई बड़े मैच जीतने में मदद की।  राहुल द्रविड़ का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कैरियर 1996 में शुरू हुआ था और 2012 में वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 164 मैच खेले और वनडे इंटरनेशनल मैचों में 344 मैच खेले।

राहुल द्रविड़ को उनकी बैटिंग की श्रेष्ठता, ताकतवर बैट्समैनशिप, और अद्वितीय समर्पण के लिए प्रसिद्ध किया जाता है। उन्होंने भारतीय क्रिकेट के लिए बहुत अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और उन्होंने भारत को कई बड़े जीतों में ले जाया। उन्हें भारतीय क्रिकेट के इतिहास में एक लगंगे समय के सर्वश्रेष्ठ बैट्समैनों में गिना जाता है। क्रिकेट के अलावा, राहुल द्रविड़ ने भारतीय क्रिकेट के प्रशासनिक और प्रशासनिक कार्यों में भी अपना योगदान दिया है।

==========  =========  ===========

 लाल बहादुर शास्त्री

लाल बहादुर शास्त्री भारतीय गणराज्य के दूसरे प्रधानमंत्री थे। उनका जन्म 2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगालसराय जिले के बबरु परिवार में हुआ था। वे भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख नेताओं में से एक थे और महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा बने।

लाल बहादुर शास्त्री 1964 में भारतीय प्रधानमंत्री बने थे। उनके प्रधानमंत्री बनने के समय, भारत-पाकिस्तान युद्ध (1965 भारत-पाक युद्ध) का समय था और उन्होंने युद्ध के दौरान भारतीय सेना को सशक्त करने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए। उनका उपनाम “जय जवान जय किसान” था, जिसे वे भारतीय समृद्धि और अपादकी की दिशा में अपने नीतियों के प्रतीक के रूप में प्रस्तुत करते थे।

लाल बहादुर शास्त्री 11 जनवरी 1966 को ताशकंद में अपने निवास स्थल पर अचानक निधन हो गए। उनकी मृत्यु एक ही दिन में उनके पदक्षेप द्वारा पाकिस्तान के साथ ताशकंद में आयोजित शिमला समझौते के परिणामस्वरूप हुई थी। उनकी मृत्यु एक महत्वपूर्ण कारक बनी और उन्हें भारतीय इतिहास के महान नेता में शामिल किया गया।

==========  =========  ===========

अभिनेत्री रेखा कामत

रेखा कामत जिन्हें अक्षय कुमार और अनुपम खेर के साथ 1986 में रिलीज़ हुई हिंदी फिल्म “आपने क्या किया” के लिए जाना जाता है, एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री हैं। उन्होंने कई हिंदी फिल्मों में काम किया है।

कुछ उनकी प्रमुख फिल्में इस प्रकार हैं: –

आपने क्या किया (1986)

सौगंध (1991)

क्या खोया क्या पाया (1999)

दिल है तुम्हारे (2000)

मैं अपनी सवाली हूँ (2004)

रेखा कामत ने भारतीय सिनेमा में अपनी अद्वितीय अभिनय कला के लिए जानी जाती हैं ।

==========  =========  ===========

अभिनेत्री अंजू महेन्द्रू

 अंजू महेन्द्रू जिनका जन्म 11 जनवरी, 1946 को हुआ था, एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री हैं। वह भारतीय सिनेमा के दौरान 1980 और 1990 के दशक में अपनी कैरियर की शुरुआत की थी और कई हिंदी फिल्मों में अभिनय किया।

कुछ उनकी प्रमुख फिल्में इस प्रकार हैं: –

सिलसिला” (1981) – इस फिल्म में वह अमिताभ बच्चन और रिंकी ख़ान्ना के साथ मुख्य भूमिका में नजर आई थी।

चांदनी” (1989) – इस फिल्म में उन्होंने चांदनी के किरदार में अपने प्रशंसा के लिए प्रसिद्ध हुई थी और उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड में बेस्ट अक्ट्रेस का पुरस्कार मिला था।

विदाई” (1989) – यह फिल्म भी उनके कैरियर में महत्वपूर्ण रोल में थी और उन्हें प्रशंसा मिली थी।

अंजू महेन्द्रू ने अपने अभिनय के लिए प्रशंसा प्राप्त की साथ ही उन्होंने अपनी अद्वितीय प्रस्तुति के लिए भी जानी जाती  हैं।

==========  =========  ===========

कैलाश सत्याशर्थी

 कैलाश सत्याशर्थी एक प्रमुख भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता हैं, जिन्होंने बचपन बचाओ आंदोलन के लिए अपना जीवन समर्पित किया है। उन्होंने बचपन में अधिकांश समय गरीब और उपेक्षित बच्चों के साथ बिताया और उनके अधिकारों की सुरक्षा के लिए लड़ा।

कैलाश सत्यार्थी को 2014 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, जिसका सम्मान उन्हें उनके सतत और संघर्षपूर्ण काम के लिए मिला। उन्होंने भारतीय बच्चों की जीवन और शिक्षा के लिए महत्वपूर्ण प्रयास किए हैं और उनके काम ने विश्वभर में बच्चों के अधिकारों के प्रति जागरूकता फैलाई है। कैलाश सत्यार्थी ने बच्चों के शोषण और श्रमिकता के खिलाफ आवाज़ बुलंद की है।

==========  =========  ===========

अभिनेत्री अनु अग्रवाल

अनु अग्रवाल एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री हैं, जो अपने कैरियर की शुरुआत 1990 के दशक में की थी। वे बॉलीवुड की फिल्मों में काम करती थीं और उन्होंने कुछ प्रमुख फिल्मों में अभिनय किया।

कुछ उनकी प्रमुख फिल्में इस प्रकार हैं: –

आशिकी” (1990) – यह फिल्म उनके करियर की सबसे प्रमुख फिल्म थी, जिसमें वे मुख्य भूमिका में थीं और उन्होंने एक पॉप सिंगर की भूमिका निभाई थी।

किंग उंगली चाली जाएंगे” (1993) – इस फिल्म में भी उन्होंने मुख्य भूमिका में अभिनय किया था।

अनु अग्रवाल के बाद उन्होंने फिल्मों में काम करना बंद कर दिया और अब वे योग और स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपने दृष्टिकोण को समर्थित कर रही हैं।

==========  =========  ===========

अभिनेत्री तारा शर्मा

तारा शर्मा एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री हैं, जो प्रमुख रूप से हिंदी सिनेमा में काम करती हैं। वे अपने अभिनय के साथ-साथ टेलीविजन पर भी प्रसिद्ध हैं। तारा शर्मा का जन्म 11 जनवरी 1977 को हुआ था।

कुछ उनकी प्रमुख फिल्में इस प्रकार हैं: –

मस्त” (1999) – इस फिल्म में वे मुख्य भूमिका में नजर आई थीं, और उनका अभिनय काफी प्रशंसा प्राप्त किया था।

खो दूर के बस पास” (2004) – इस फिल्म में भी वे मुख्य भूमिका में दिखाई दी थी।

तारा शर्मा ने टेलीविजन शो “तारा” के साथ-साथ कई अन्य टेलीविजन शोज़ और प्रोजेक्ट्स में भी काम किया है। उन्होंने अपने कैरियर में अपनी अच्छी अदाओं के लिए प्रसिद्ध हैं ।

: [responsivevoice_button voice="Hindi Female"]

Related Articles

Back to top button