News

व्यक्ति विशेष

भाग - 126.

फिल्म निर्देशक सत्यजीत राय

सत्यजीत राय भारतीय सिनेमा के एक महान निर्देशक थे, जिन्होंने अपनी फिल्मों के माध्यम से विश्व सिनेमा पर गहरी छाप छोड़ी. उनका जन्म 2 मई 1921 को कोलकाता में हुआ था और उन्होंने 1992 में अपनी मृत्यु तक फिल्म निर्माण में अपना योगदान दिया. राय की सबसे प्रसिद्ध फिल्म त्रयी ‘अपु त्रयी’ है, जिसमें ‘पाथेर पांचाली’ (1955), ‘अपराजितो’ (1956), और ‘अपुर संसार’ (1959) शामिल हैं। इन फिल्मों ने उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई.

सत्यजीत राय की फिल्में अक्सर सामाजिक विषयों पर आधारित होती थीं और उनका दृष्टिकोण बेहद यथार्थवादी होता था. उनकी अन्य प्रसिद्ध फिल्मों में ‘चारुलता’, ‘घरे बाइरे’, और ‘शतरंज के खिलाड़ी’ शामिल हैं. राय को उनके काम के लिए कई पुरस्कार और सम्मान प्राप्त हुए, जिसमें भारत रत्न, दादासाहेब फाल्के पुरस्कार और एक ऑस्कर पुरस्कार भी शामिल हैं.

उन्होंने न केवल फिल्मों में, बल्कि लेखन और संगीत में भी अपनी प्रतिभा दिखाई. वह एक प्रतिभाशाली ग्राफिक डिजाइनर भी थे और उन्होंने कई पुस्तकों के लिए कवर डिज़ाइन किए. सत्यजीत राय की कला और फिल्में आज भी प्रासंगिक हैं और वे सिनेमा प्रेमियों द्वारा बहुत सराही जाती हैं.

==========  =========  ===========

साहित्यकार विष्णु कांत शास्त्री

विष्णु कांत शास्त्री एक प्रमुख भारतीय साहित्यकार, विद्वान, और राजनेता थे. उनका जन्म 5 जनवरी 1929 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में हुआ था. विष्णु कांत शास्त्री ने हिंदी साहित्य में अपनी गहरी पकड़ और विशाल योगदान के लिए प्रसिद्ध थे. उन्होंने भाषा, इतिहास, और साहित्य के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण किताबें लिखीं.

शास्त्री जी की शैक्षिक योग्यता भी काफी उच्च थी. उन्होंने विभिन्न विषयों में अपनी पढ़ाई पूरी की और बाद में शिक्षा के क्षेत्र में भी अपनी सेवाएं दीं. उन्होंने विभिन्न कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में पढ़ाया और उनकी गणना उत्कृष्ट अध्यापकों में की जाती थी.

राजनीति में भी उनका सक्रिय योगदान रहा. वे उत्तर प्रदेश के राज्यपाल भी रहे और उन्होंने इस पद पर रहते हुए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए. विष्णु कांत शास्त्री की साहित्यिक कृतियाँ और उनके विचार आज भी हिंदी साहित्य के प्रेमियों के बीच में प्रसिद्ध हैं.

उनकी लेखनी में विचारशीलता और गहनता थी, और उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज को दिशा दिखाने की कोशिश की. उनके द्वारा लिखित कुछ प्रमुख कृतियों में ‘हिंदी साहित्य का इतिहास’ और ‘भारतीय संस्कृति की एकता’ शामिल हैं. वे न केवल एक साहित्यकार और विद्वान थे, बल्कि एक गहन चिंतक भी थे जिन्होंने भारतीय संस्कृति और समाज के विकास में योगदान दिया.

==========  =========  ===========

अभिनेत्री निगार खान

निगार खान एक भारतीय टेलीविजन और फिल्म अभिनेत्री हैं, जिन्होंने विभिन्न टेलीविजन शोज और फिल्मों में काम किया है. वे अभिनेत्री गौहर खान की बहन हैं. निगार खान ने अपने कैरियर की शुरुआत में विभिन्न टीवी शोज में सहायक भूमिकाएँ निभाईं और बाद में उन्होंने अधिक प्रमुख रोल निभाए.

उन्हें खासतौर पर ‘खतरों के खिलाड़ी’, ‘बिग बॉस’, और ‘सच का सामना’ जैसे रियलिटी शोज में उनकी भागीदारी के लिए जाना जाता है. निगार खान ने कुछ हिंदी फिल्मों में भी अभिनय किया है, लेकिन उनकी पहचान मुख्य रूप से टेलीविजन उद्योग में बनी.

वे अपनी बहन गौहर खान के साथ अक्सर विभिन्न इवेंट्स और टेलीविजन शोज में नजर आती हैं, और दोनों बहनों को उनके मजबूत पारिवारिक बंधन के लिए भी जाना जाता है. निगार खान ने अपने कैरियर में विविधता का प्रदर्शन किया है और वे अपनी प्रतिभा के लिए प्रशंसित हैं.

==========  =========  ===========

साहित्यकार बनारसीदास चतुर्वेदी

बनारसीदास चतुर्वेदी एक हिंदी साहित्यकार और पत्रकार थे. उनका जन्म 19 दिसंबर 1892 को उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में हुआ था. बनारसीदास चतुर्वेदी ने हिंदी साहित्य और पत्रकारिता में महत्वपूर्ण योगदान दिया और वे ‘कर्मयोगी’ नामक पत्रिका के संस्थापक और संपादक भी थे.

उनके लेखन में गहरी अंतर्दृष्टि और सामाजिक मुद्दों के प्रति संवेदनशीलता का पता चलता है. चतुर्वेदी जी ने विशेष रूप से भारतीय समाज और राजनीति पर अपने विचार व्यक्त किए और उनका लेखन स्वतंत्रता संग्राम के दौरान और उसके बाद भी प्रासंगिक रहा.

बनारसीदास चतुर्वेदी ने अपने जीवनकाल में कई यात्राएँ कीं और विश्व के अनेक हिस्सों में भारतीय संस्कृति और साहित्य का प्रचार किया. उनके द्वारा किए गए साक्षात्कार और लेख उनकी पत्रिका ‘कर्मयोगी’ में प्रकाशित होते थे, जिसे हिंदी साहित्य और पत्रकारिता में एक महत्वपूर्ण पत्रिका माना जाता है.

चतुर्वेदी जी का निधन 2 जुलाई 1985 को हुआ. उनके निधन के बाद भी, उनका लेखन और विचार आज भी साहित्यिक और पत्रकारिता क्षेत्र में प्रेरणा के स्रोत के रूप में माने जाते हैं.

==========  =========  ===========

राजनीतिज्ञ पद्मजा नायडू

पद्मजा नायडू एक प्रमुख भारतीय राजनीतिज्ञ और राजनयिक थीं, जो सरोजिनी नायडू की पुत्री थीं. उनका जन्म 1900 में हुआ था और उन्होंने अपनी मां की तरह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय भूमिका निभाई. पद्मजा नायडू ने अपने जीवन में कई महत्वपूर्ण राजनीतिक और राजनयिक पदों पर कार्य किया.

वह विशेष रूप से वेस्ट बंगाल की राज्यपाल के रूप में अपनी सेवाओं के लिए जानी जाती हैं, जहां उन्होंने 1956 – 67 तक कार्य किया. पद्मजा नायडू ने अपने कार्यकाल में विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों के कल्याण पर ध्यान केंद्रित किया था.

उनके राजनयिक कैरियर में, पद्मजा ने भारत की विदेश नीति में भी योगदान दिया और विदेश में भारत की राजदूत के रूप में कई महत्वपूर्ण पदों पर आसीन रहीं. वह समाज सेवा में भी सक्रिय रहीं और विशेष रूप से जानवरों के अधिकारों के लिए काम किया.

पद्मजा नायडू का निधन 1975 में हुआ. उनकी स्मृति में, दार्जिलिंग के नजदीक स्थित एक प्रसिद्ध चिड़ियाघर का नाम उनके नाम पर ‘पद्मजा नायडू हिमालयन जूलॉजिकल पार्क’ रखा गया है. उनका जीवन और कार्य भारतीय राजनीति और समाज सेवा में एक प्रेरणास्रोत के रूप में देखा जाता है.

Rate this post
:

Related Articles

Back to top button