Dharm

सुन्दरकाण्ड-15-3.

रावण को विभीषण का समझाना और विभीषण का अपमान-03

दोहा: –

तात चरन गहि मागउँ राखहु मोर दुलार ।

सीता देहु राम कहुँ अहित न होइ तुम्हार ।।

वाल व्यास सुमनजी महाराज,श्लोक का अर्थ बताते हुए कहते है कि, हे तात ! मै चरण पकड़कर आपसे भीख माँगता हूँ या यूँ कहें कि विनती करता हूँ कि आप मेरा दुलार रखिए और श्रीरामचन्द्रजी को सीताजी दे दीजिए, जिसमे आपका अहित न हो.

चौपाई: –

बुध पुरान श्रुति संमत बानी। कही बिभीषन नीति बखानी।।

सुनत दसानन उठा रिसाई। खल तोहि निकट मुत्यु अब आई ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, विभीषण ने पंडितो, पुराणो और वेदो द्वारा अनुमोदित वाणी से नीति बखानकर कही. पर उसे सुनते ही रावण क्रोधित होकर उठा और बोला कि रे दूष्ट ! अब मृत्यु तेरे निकट आ गई है.

जिअसि सदा सठ मोर जिआवा। रिपु कर पच्छ मूढ़ तोहि भावा।।

कहसि न खल अस को जग माहीं। भुज बल जाहि जिता मैं नाही ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, अरे मूर्ख ! मेरे ही अन्न से पल रहा है. पर हे मूढ़ ! तुझे शत्रु का ही अच्छा लगता है. अरे दुष्ट ! बता न, जगत् मे ऐसा कौन है जिसे मैने अपनी भुजाओ के बल से न जीता हो?

मम पुर बसि तपसिन्ह पर प्रीती। सठ मिलु जाइ तिन्हहि कहु नीती।।

अस कहि कीन्हेसि चरन प्रहारा। अनुज गहे पद बारहिं बारा ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, मेरे नगर में रहकर प्रेम करता है तपस्वियो पर. मूर्ख ! उन्ही से जा मिल और उन्ही को नीति बता. ऐसा कहकर रावण ने उन्हे लात मारी, परन्तु छोटे भाई विभीषण ने रावण के मारने पर भी बार-बार उसके चरण ही पकड़े.

उमा संत कइ इहइ बड़ाई। मंद करत जो करइ भलाई।।

तुम्ह पितु सरिस भलेहिं मोहि मारा। रामु भजें हित नाथ तुम्हारा ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, शिवाजी कहते है – हे उमा ! संत की यही बड़ी महिमा है कि वे बुराई करने पर भी भलाई ही करते है. विभीषणजी ने कहा –  आप मेरे पिता के समान है, मुझे मारा सो तो अच्छा ही किया, परन्तु हे नाथ भला हो आपका! अगर आप श्रीरामचन्द्रजी का नाम उच्चारण करते हैं तो इसमें आपकी ही भलाई है.

सचिव संग लै नभ पथ गयऊ। सबहि सुनाइ कहत अस भयऊ ।।

श्लोक का अर्थ बताते हुए महाराजजी कहते है कि, इतना कहकर विभीषण अपने मंत्रियो को साथ लेकर आकाश मार्ग में गए और सबको सुनाकर वे ऐसा कहने लगे.

महात्मा भवन,

श्रीरामजानकी मंदिर,

राम कोट, अयोध्या.

Mob: – 8709142129.

==========  =========  ===========

Vibhishan’s explanation to Ravana and Vibhishan’s insult-03.

Doha: –

Taat Charan Gahi Maagun Raakhahu Mor Dulaar

Sita Dehu Raam Kahun Ahit Na Hoi Tumhaar ।।

Vaal vyaas sumanajee maharajaji, shlok ka arth bataate hue kahate ki, he taat ! mai charan pakadakar aapase bheekh maangata hoon ya yoon kahen ki vinatee karata hoon ki aap mera dulaar rakhie aur shreeraamachandrajee ko seetaajee de deejie, jisame aapaka ahit na ho.

Choupai: –

Budh Puraan Shruti Sammat VaaneeKahi Bibheeshan Niti Bakhaanee।।

Sunat Dasaanan Utha RisaeeKhal Tohi Nikat Mutu Ab Ai।।

Shlok ka arth bataate hue “maharajaji ne kaha ki, Vibheeshan Ne pandito, puraano aur vedo dvaara daarshanik vaani se niti bakhaankar  kahi. Par use sunte hi rawan krodhit hokar uathaa aur bola ‘re’ dusht ! ab mrityu nikat aa gai hai.

Jiasi Sada Sath Mor Jiaava। Ripu Kar Pachchh Moodh Tohi Bhaava।।

Kahasi Na Khal As Ko Jag Maaheen। Bhuj Bal Jaahi Jita Main Naahee ।।

Shlok ka arth bataate hue maharajaji kahate hai ki, are dusht ! mere hi ann se pal raha hai. par he muddh ! tujhe shatru ka hi achchha lagata hai. are dusht ! bata na, jagat me aisa kaun hai jise maine apanee bhujao ke bal se na jeeta ho?

Mam Pur Basi Tapasinh Par Preetee। Sath Milu Jai Tinhahi KahuNita।।

As Kahi Keenhesi Charan Prahaara। Anuj Gahe Pad Baarahin Baara ।।

Shlok ka arth bataate hue maharajaji kahate hai ki, mere nagar mein rahakar prem karata hai tapasviyo par. moorkh ! unhee se ja mil aur unhee ko neeti bata. aisa kahakar raavan ne unhe laat maaree, parantu chhote bhaee vibheeshan ne raavan ke maarane par bhee baar-baar usake charan hee pakade.

Uma Sant Kai Ihi Badaii। Mand Karat Jo Kari Bhalaee.।।

Tumh Pitu Saris Bhalehin Mohi Maara। Raamu Bhajen Hit Naath Tumhaara ।।

shlok ka arth bataate hue maharajaji kahate hai ki, shivaajee kahate hai – he uma ! sant kee yahee badee mahima hai ki ve buraee karane par bhee bhalaee hee karate hai. vibheeshanajee ne kaha – aap mere pita ke samaan hai, mujhe maara so to achchha hee kiya, parantu he naath bhala ho aapaka! agar aap shreeraamachandrajee ka naam uchchaaran karate hain to isamen hi aapaki hee bhalaii hai.

Sachiv Sang Lai Nabh Path Gayuu। Sabahi Sunai Kahat As Bhayuu।।

Shlok ka arth bataate hue maharajaji kahate hai ki, itana kahakar vibhishan apane mantriyo ko saath lekar aakaash marg mein gye aur sabako sunakar ve aisa kahane lage.

Mahatma Bhawan,

Shriram-Janaki Temple,

Ram Kot, Ayodhya.

Mob: – 8709142129.

:

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button