Health

गुणों की खान है तरबूज…

गर्मियों का मौसम शुरू हो चूका है और इस मौसम में मौसमी फलों व सब्जियों प्रचुर मात्र में मिलती है. गर्मियों के मौसम में कई तरह के फल उपलब्बध होते है जो मानव शरीर को डिहाइड्रेशन से बचाते हैं. उन्ही फलों एक फल है तरबूज. ज्ञात है कई, तरबूज में 92 प्रतिशत पानी और 6 प्रतिशत शक्कर (चीनी) होती है इसके अलावा विटामिन ए, सी और बी 6 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. इसके अलावा इसमें बीटा कैरोटिन भी पाया जाता है जो सेल को मरम्मत करने में मदद करता है.

तरबूज को अंग्रेजी में वाटरमेलोन (Watermelon)कहते है और इसका वैज्ञानिक नाम सितरुल्लुस लेनेटस (Citrullus lanatus) है. तरबूज के कई और भी नाम है जैसे राजस्थान में मतीरा और हरियाणा में हद्वाना भी कहा जाता है. बताते चलें कि, भारतीय व अमरीकी वैज्ञानिक इसे प्राकृतिक वियाग्रा भी कहते हैं. टेक्सास के फ्रुट एंड वेजीटेबल इम्प्रूवमेंट सेंटर के वैज्ञानिक डॉ भिमु पाटिल के अनुसार, “जितना हम तरबूज़ के बारे में शोध करते जाते हैं, उतना ही अधिक जान पाते हैं. वैज्ञानिको के अनुसार तरबूज का फल गुणों की खान है और मानव शरीर के लिए वरदान है.  तरबूज़ में सिट्रुलिन नामक न्यूट्रिन होता है जो शरीर में जाने के बाद अर्जीनाइन में बदल जाता है. ज्ञात है कि, अर्जीनाइन एक एम्यूनो इसिड होता है जो शरीर के  रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है और खून के परिभ्रमण को सुदृढ रखने में मदद करता है.

बताते चलें कि, तरबूज को लम्बी अवधि वाला फसल माना जाता है. तरबूज़ की खेती अत्यधिक रेतीली मिट्टी से लेकर चिकनी दोमट मिट्टी तक में की जा सकती है विशेष रूप से नदियों के किनारे रेतीली भूमि में इसकी खेती की जाती है. तरबूज के कई किस्में और प्रजातियाँ पाई जाती है उनमे से प्रमुख किस्में इस प्रकार हैं… शुगर बेबी,  आशायी यामातो, न्यू हेम्पशायर मिडगट, पूसा बेदाना, दुर्गापुरा केसर और अर्का मानिक.

 

तरबूज खाने के कई फायदे हैं यह हमें हीट स्ट्रोक, डिहाइड्रेशन से बचाव, एसिडिटी का उपचार, क्लींजिंग, वजन नियंत्रित करने, कब्ज दूर करने, हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है. विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर तरबूज में विटामिन्स, मिनरल्स, एंटीओक्सीड़ेट और आर्गेनिक कंपाउंड्स पाए जाते हैं साथ ही इसमें वसा और कोलेस्ट्रोल ना के बराबर होते हैं.

न्यूट्रीशन चार्ट प्रति 100 ग्राम:-

  • कार्बोहाइड्रेट 55 g
  • शर्करा 2 g
  • आहारीय रेशा (फाइबर) 4 g
  • वसा 15 g
  • प्रोटीन 61 g
  • पानी 45 g
  • विटामिन A equiv. 28 μg
  • थायमीन (विटामिन B1) 0.033 mg
  • राइबोफ्लेविन (विटामिन B2) 0.021 mg
  • नायसिन (विटामिन B3) 0.178 mg
  • पैंटोथैनिक अम्ल (विटामिन B5) 0.221 mg
  • विटामिन B6 0.045 mg
  • फोलेट (विटामिन B9) 3 μg
  • विटामिन C 8.1 mg
  • कैल्शियम 7 mg
  • आयरन 24 mg
  • मैगनीशियम 10 mg
  • फॉस्फोरस 11 mg
  • पोटेशियम 112 mg
  • जस्ता (जिंक) 10 m

तरबूज के फायदे:-

  • तरबूज में लाइकोपिन पाया जाता है, लाइकोपिन हमारी त्वचा को जवान बनाए रखने में मदद करता है साथ ही कैंसर होने से भी रोकता है.
  • तरबूज की फाँकों पर काली मिर्च पाउडर, सेंधा व काला नमक बुरककर खाने से खट्टी डकारें आना बंद होती हैं.
  • खाना खाने के बाद तरबूज़ का रस पीने से भोजन शीघ्र ही पच जाता है और नींद भी अच्छी आती है.
  • मोटापा कम करने में लाभदायक होता है.
  • पोलियो के रोगियों को ख़ून बढ़ाने और साफ़ करने में मदद करता है साथ ही त्वचा रोगों में भी फ़ायदेमंद होता है.
  • तेज धुप के कारण सिरदर्द होने पर आधा-गिलास तरबूज का रस पीने से लाभ मिलता है.
  • पेशाब में जलन होने पर ओस या बर्फ़ में रखे हुए तरबूज़ के रस को सुबह शक्कर मिलाकर पीने से लाभ मिलता है.
  • गर्मी में प्रतिदिन तरबूज़ का शरबत पीने से शरीर का ठंडा रहता है साथ ही चेहरा भी चमकदार होता है.
  • लाल गूदेदार छिलकों को हाथ-पैर, गर्दन व चेहरे पर रगड़ने से त्वचा चमकदार होती है.
  • तरबूज़ की फाँकों पर काली मिर्च पाउडर, सेंधा व काला नमक बुरककर खाने से खट्टी डकारों का आना बंद हो जाता है.
  • तरबूज़ के गूदे को “ब्लैक हैडस” द्वारा प्रभावित जगह पर धीरे-धीरे रगड़कर धोने से लाभ होता है.
  • तरबूज़ में विटामिन ए, बी, सी तथा लौहा भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जिससे रक्त (ब्लड) शुद्ध और साफ़ होता है.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!