News

खुदीराम बोस

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,

वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा!!

भारत को आज़ादी पाने में 200 साल लगे, इन दो सौ सालो में एक दौर आया था, जब देश के नौजवानों ने अपनी जिम्मेदारी समझी और निकल पड़े अंग्रेजों के खिलाफ क्रान्ति करने। भगत सिंह, राज गुरु, चंद्रशेखर आज़ाद और इन्हीं में से एक था वो, 18 साल का नौजवान लड़का, अपना नाम खुदीराम बोस बताता था।महज़ 18 साल, यह उम्र का वह पड़ाव है, जब लकड़पन छूट रहा होता है और जवानी सर पर होती है। जूनून, जज़्बा और शरीर में एक अलग ही जोश के साथ दौड़ता खून, इस उम्र में एक चाहत मन में जगती है कुछ अलग कर जाने की। पर किसे पता था, खुदीराम वो कर जाएंगे, जिससे उनका नाम देशभक्तों की किताब में स्वर्ण अक्षरों से अंकित किया जाएगा।

कोर्ट में जब जज ने खुदीराम को फांसी की सजा सुनाई फिर भी उनके चेहरे पर एक चिंता नहीं दिखी। मौत से इस कदर बेतकल्लुफ़ी थी कि जेलर आख़िरी इच्छा पूछने आया तो खुदीराम उससे भी मसखरी करने लगे। जेलर ने आख़िरी ख्वाहिश पूछी तो खुदीराम ने कहा, “आम मिल जाएं तो बेहतर होगा।” जेलर ने आम लाकर खुदीराम को दे दिए। कुछ देर बाद जेलर आया तो देखा आम ज्यों के त्यों पड़े थे। जेलर ने पूछा कि आम क्यों नहीं खाए तो खुदीराम ने जवाब दिया कि आम तो वो ख़ा चुका है।जेलर ने जाकर गौर से आम की तरफ़ देखा तो पाया कि आम की गुठलियां इस तरह निकाली गई थीं कि आम साबुत ही दिखाई पड़ रहे थे। ये देखकर खुदीराम खिलखिलाकर हंस पड़े। 11 अगस्त की सुबह 6 बजे खुदीराम को फांसी दे दी गई। वहां मौजूद लोगों के अनुसार फांसी मिलने तक एक बार भी न वो घबराए, न उनके चेहरे पर कोई शिकन आई।कहने को तो खुदीराम उस फांसी से झूल रहे थे, लेकिन अंग्रेजो को यह साफ़-साफ़ दिख रहा था कि वह खुदीराम नहीं, बल्कि अंग्रेजी सरकार अपनी आखिरी साँसे गिन रही है।एक 18 साल का लड़का, अपनी माटी को स्वतंत्र देखने का सपना और मन में अंग्रेजों के खिलाफ क्रान्ति, आज इतने सालों बाद भी खुदीराम की कहानी नई लगती है, आप जितनी बार पढ़ें उतनी बार!

============= ============ ==============

Shaheeds ki chitaon par lagenge har bars mele,

Watan par marne walon ka yahi baki Nishan Hoga!!

It took 200 years for India to get independence, in these two hundred years there was a time when the youth of the country realized their responsibility and set out to revolutionize against the British. Bhagat Singh, Raj Guru, Chandrashekhar Azad, and one of them was he, a young boy of 18, who used to call himself Khudiram Bose. Just 18 years old, this is the stage of age when the lameness is leaving and youth is on the head. it occurs. Blood runs with passion, passion, and a different enthusiasm in the body, in this age a desire arises in the mind to do something different. But who knew, Khudiram would do that, due to which his name would be written in golden letters in the book of patriots.

When the judge sentenced Khudiram to death in court, even then there was no worry on his face. She was so unconcerned with death that when the jailer came to ask for her last wish, Khudiram started playing pranks on her too. When the jailer asked for his last wish, Khudiram said, “It would be better if we get mangoes.” The jailer brought mangoes and gave them to Khudiram. After some time the jailer came and saw that the mangoes were lying as they were. When the jailer asked why he did not eat the mangoes, Khudiram replied that he had already eaten the mangoes. The jailer went and looked at the mangoes carefully and found that the mango kernels were removed in such a way that the mangoes were visible whole. Seeing this, Khudiram laughed out loud. Khudiram was hanged at 6 am on 11 August. According to the people present there, he did not panic even once till he was hanged, nor did he have any wrinkles on his face. To say that Khudiram was swinging from that gallows, but it was clearly visible to the British that he was not Khudiram, but The English government is counting its last breaths. An 18-year-old boy, with a dream of seeing his soil independent and revolution against the British in his heart, even after so many years, the story of Khudiram seems new, the more times you read it!

Prabhakar Kumar.

Rate this post
:

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!