आयुर्वेदिक औषधि भी है अदरक… - Gyan Sagar Times
Health

आयुर्वेदिक औषधि भी है अदरक…

भारतीय व्यंजन में अक्सर अदरक का इस्तेमाल होता ही है, ये भोजन के स्वाद को बढ़ाता है, साथ ही आयुर्वेदिक औषधी भी है. एक फुल जिसके कंद को अदरक कहते हैं, या यूँ कहें कि, एक भूमिगत रूपांतरित तना होता है, जो मिटटी के अंदर ही बढ़ता है साथ ही इसका तना फूलकर मोटा हो जाता है जिसमे काफी मात्रा में भोज्य पदार्थ संचित होता है. अदरक जिंजीबरेसी कुल का पौधा है, इसे अंग्रेजी में जिंजर(Ginger)  कहते हैं और इसका वानस्पतिक नाम जिंजिबर ऑफ़िसिनेल(Zingiber officinale). भारत में अदरक की खेती बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश, चेन्नई और कोचीन में होती है.

आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सा प्रणालियों में अदरक का प्रयोग दवा बनाने में किया जाता है. ताज़ी अदरक में 81% जल, प्रोटीन 2.5%, कार्बोहाइड्रेट 13%, रेशे 2.5%, वसा 1% पाया जाता है. इसमें आयरन, कैल्शियम, आयोडीन, क्लो‍रीन व विटामिन सहित कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि, सुखी अदरक की तासीर गर्म होती है जबकि, गीली अदरक की तासीर ठंडी होती है. अदरक का स्वाद तीखा होता है और इसे बलवर्धक भी कहा जाता है. वैज्ञानिक शोध के अनुसार, अदरक एक शक्तिशाली एंटीवायरल औषधि भी है.

अगर, भोजन में अदरक का प्रयोग करते हैं तो पाचन तन्त्र को ठीक करता है साथ ही अजीर्ण, उलटी, जोड़ों का दर्द, अतिसार, पेचिस… आदि बीमारियों में लाभ मिलता है साथ ही ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करता है व कोलेस्ट्रोल को नियंत्रण करने में मदद करता है. इसके प्रयोग से त्‍वचा आकर्षक व चमकदार हो जाती है. खांसी के साथ कफ परेशान लोगों के लिए अदरक वरदान से कम नहीं माना जाता है. अदरक खाने से मुंह के हानिकारक बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं. अदरक का प्रयोग गठिया, अर्थराइटिस, साइटिका, गर्दन और रीढ की हड्डियों के रोग के इलाज में किया जाता है. अदरक में कोलेस्ट्राल का स्तर कम करने, खून का थक्का जमने से रोकने, एंटी फंगल और कैंसर के प्रति प्रतिरोधी होने के गुण भी पाए जाते हैं. सर्दी और जुकाम में अदरक की चाय बहुत ही फायदेमंद होता है. इसके अलावा और क्या कहें अदरक गुणों का खजाना है, यह मसाला भी है और आयुर्वेदिक औषधि भी…

 अदरक के फायदे..

  1. इसमें आयरन, केल्शियम, लौह फास्फेट, आयोडीन, क्लोरिन, खनिज लवण तथा विटामिन की प्रचूर मात्रा पाई जाती है.
  2. अदरक के टुकड़े को भोजन से पहले सेंधानमक व नींबू का रस डालकर खाने से पाचन क्रिया ठीक रहती है.
  3. अदरक के प्रयोग से अजीर्ण, जोडों में दर्द, वमन, बवासीर, अतिसार, संग्रहणी, पेचिस, पीलिया आदि रोगों में लाभ मिलता है.
  4. अदरक खाने से ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है साथ ही कोलेस्ट्रोल भी कंट्रोल रहता है.
  5. एक गिलास गुनगुने पानी के साथ अदरक का एक टुकड़ा खाने से त्वचा में निखार आता है.
  6. आपको खांसी के साथ कफ की भी शिकायत है तो रात को सोते समय दूध में अदरक डालकर उबालकर 15 दिनों तक पिएं,इससे सीने में जमा कफ आसानी से बाहर निकल जाएगा.
  7. अगर आप “हिचकी ” से परेशान हैं तो अदरक का एक छोटा टुकड़ा मुंह में रखकर चुसे,आपको लाभ मिलेगा.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!