सही कैरियर का चुनाव करे…. - Gyan Sagar Times
Education

सही कैरियर का चुनाव करे….

स्कूल समाप्त होने के बाद युवाओं के पास कैरियर चुनने का समय आता है, वैसे तो सभी लोग जानते हैं की कैरियर क्या होता है और इसके जीवन में क्या महत्व होता है. जब आप स्कूल समाप्त करते हैं उसके बाद कालेज व युनिवर्सिटी के वृहद संसार में प्रवेश करते हैं. हर स्टूडेंट की चाहत होती है कि वो अपना मनपसन्द कैरियर का चुनाव करे.

एक समय था कि युवाओं के पास कुछ गिने-चुने ही ऑप्शन होते थे. वर्तमान समय में विकल्पों की कमी नहीं है. आज पुराने विकल्पों के साथ–साथ कई नये विकल्प भी सामने आ गये है या यूँ कहें कि आ रहे है. आज के युवाओं को खुद तय करना होता है कि वो एकेडमिक या प्रोफेशनल कोर्स में से क्या करें.

वर्तमान समय में छात्र यह तय नहीं कर पाते है कि वो क्या पढ़े और क्या नहीं पढ़ें..? सही मार्गदर्शन नहीं मिलने से छात्र दुविधा में रहते हैं और उन्हें कोई उपाय नहीं सूझता है तो वो आपस में बैठकर या अभिभावक की मर्जी से या यूँ कहें कि, अभिभावक के दबाव में आकर कोर्स का चुनाव कर लेते हैं जो आगे चलकर उनका प्रदर्शन व कैरियर दोनों ही प्रभावित होता है. कुछ छात्र 12वीं के बाद बिना किसी लक्ष्य के पढाई करते है जिसका कोई औचित्य नहीं रह जाता है.  वर्तमान समय में विकल्पों की कमी नहीं है और छात्र अपनी रूचि के अनुसार अपने लिए मनपसन्द कैरियर का चुनाव करना बेहतर होगा.

वर्तमान समय में भी अधिकांश अभिभावक आज भी अपने बच्चों को डॉक्टर या इंजीनियर की ही पढाई कराना चाहते हैं. वो इस बात को समझ नहीं पाते है या यूँ कहें कि समझना ही नहीं चाहते हैं कि उनके बच्चे उस पढाई के लिए सक्षम है या नहीं. वर्तमान समय में भी अभिभावक अपने बच्चे की तुलना दुसरे के बच्चे के साथ करते है. यह प्रवृति उचित नहीं है चुकीं टेकनिकल कालेजों में कुछ हजार छात्रों का ही चयन हो पाटा है और शेष असफल हो जाते हैं. वर्तमान समय में अभिभावक व बच्चों को चाहिए की एक सीधी रेखा में चलने के बजाय दुसरे विकल्पों पर भी विचार करना चाहिए.

12वीं के बाद प्राय: सभी कालेजों व यूनिवर्सिटी में तमाम तरह के प्रोफेशनल कोर्स की पढाई होती है और छात्र अपनी रूचि से इनमे से किसी एक कोर्स का चुनाव कर सकते हैं. एकेडमिक कोर्सों में बीए-ऑनर्स, बीएसी-फिजिक्स, बीएसी-बायो, बीएसी-एग्रीकल्चर जैसे कोर्स तीन वर्षीय होते है, जिसके बाद दो वर्षीय एमए, एमएससी, एमफिल और पीएचडी भी किया जा सकता है. ज्ञात है कि बीए-ऑनर्स में भी अनगिनत विषयों में विकल्प मौजूद हैं. अगर छात्र की रूचि कॉमर्स में है तो वो बी-कॉम, एम्-कॉम भी कर सकते हैं. बी-कॉम के अलावा आप कास्ट एंड वर्क एकाउंटेंट या चार्टेड एकाउंटेंट का कोर्स भी कर सकते हैं. अगर छात्र की रूचि कानूनी सलाहकार बनने की है तो आप 12वीं के बाद 5 वर्षीय लॉ का भी कोर्स कर सकते हैं. इस कोर्स को करने के बाद आप एडवोकेट या लीगल एडवाइजर के रूप में अपना कैरियर शुरुआत कर सकते हैं.

अगर, छात्रों को प्रोफेशनल कोर्स करने की इच्छा है तो वो 12वीं के बाद पीसीएम् के छात्र   आईआईटी-जेईई, एआईईईई या राजकीय इंजीनियरिंग परीक्षाओं को पास कर किसी भी एक  ब्रांच में चार वर्षीय बीई-बीटेक की पढाई कर सकते हैं. अगर छात्र पीसीबी को लेकर आगे बढना चाहते हैं तो वो एआईपीएमटी, सीपीएमटी या राजकीय मेडिकल कालेजो को पास कर एमबीबीएस या उसके समकक्ष की पढाई कर अपने कैरियर को संवार सकते हैं. इसके अलावा भी अन्य कोर्स भी मौजूद हैं जैसे कंप्यूटर एप्लीकेशन, जर्नलिज्म(मीडिया), डिज़ाइनींग, एनीमेशन,मल्टी-मीडिया, हार्डवेयर-नेटवर्किंग, गेमिंग, कंप्यूटर एकाउंटिंग, फार्मेसी, क्लिनिकल रिसर्च व पैरामेडिकल जैसे कोर्स करके आप अपने कैरियर की सीढियों को चढ़ सकते हैं.

बताते चलें कि, वर्तमान समय में इंजीनियरिंग और मेडिकल के अलावा अन्य कई विकल्प मोजूद हैं. तमाम कालेज और यूनिवर्सिटी 12वीं के बाद कई तरह के जॉब ओरिएंटेड कोर्स करा रहें हैं इन कोर्सों में एडमिशन लेकर डिग्री के साथ-साथ प्रोफेशनल योगता हासिल कर अपने कैरियर को संवार सकते हैं. किसी भी यूनिवर्सिटी से प्रोफेशनल कोर्स करने के लिए यूनिवर्सिटी की वेबसाईट पर जाकर पता करें कि, स्नातक स्तर पर कौन-कौन से कोर्स उपलब्बध हैं और उनकी अवधि क्या है व कोर्स को करने में कितना खर्चा आएगा. अगर आप विज्ञान से बीएसी करते हैं उसके बाद आप न्यूक्लियर साइंस,नैनो टेक्नोलॉजी, इंडस्ट्रियल केमेस्ट्री आदि में एम्टेक कर सकते हैं. इन सब के अलावा आप कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रोनिक्स जैसे एप्लाइड फिजिकल साइंस से सम्बन्धित विषयों या बायोटेक्नोलॉजी, फ़ूड टेक्नोलॉजी, फिशरीज जैसे लाइफ साइंस से सम्बन्धित विषयों में भी बीएसी कर सकते हैं.

अगर आपकी रूचि आर्ट्स में है तो आप घबराए नहीं चुकी इस विषय में भी काफी रोजगार उपलब्बध है जो आपके कैरियर को नई ऊँचाई देगा. आर्ट्स में कई विषय है जैसे इतिहास, भूगोल और अर्थशास्त्र… अगर आप घुमने-फिरने का शौक रखते हैं तो आप टूरिस्ट गाइड व मैनेजमेंट भी कर सकते हैं. इन सबके अलावा आप दूसरी भाषाओँ की पढाई कर आप दुभाषिये बनाकर भी आप अपना कैरियर संवार सकते हैं.

अगर आप मुश्किल में हो और आपको कुछ भी समझ में नहीं आ रहा हो तो आप शांत मन से सोचेगें तो हल जरुर मिलेगा आगर आपको जीवन में सफलता पाना है तो रास्ते के मुश्किलों को धैर्य से सामना करते हुए आगे की और अग्रसर होना चाहिए. छोटी-मोटी परेशानियां हर किसी के जीवन में आती है उससे घबराना नहीं चाहिए बल्कि धैर्य व ईमानदारी से  परेशानियों से मुकाबला करते हुए आगे बढना चाहिए.

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!