Health

Back Ache Or Lower Back Pain (L.B.P)…

पीठ के निचले हिस्से में दर्द (L.B.P)…

Cause:-

  1. Abnormal posture,
  2. Unrountined life style,
  3. Prolonged forward bending,
  4. Prolonged standing,
  5. Sudden jerk,
  6. To reduce inter vertebral space,
  7. Decalcification from vertebra,
  8. Weakness of back abdominal muscles,
  9. Lack of sound sleep and exercises,
  10. Countousily biking,
  11. To use spongy bed.

These are most common causes for the back pain.

Conservative treatments for Physiotherapy is the most significant and have no side effect.

Aim of treatment:-   

  • To reduce pain and stiffness of back pain.
  • To reduce reediting pain of posterior aspect of lower limb.
  • To improve proper blood circulation & conduction of impulse.
  • To correct the proper blood circulation & conduction of impulse improve muscle, strength and healthy tissue and to eliminate burning sensation of nerve.
  • To prevent forward bending of spine.
  • To prevent prolong standing & sitting.
  • To seat long time in same posture.
  • To reduce body weight and central obesity

Treatments:-

Heat therapy such as short wave: – wave diathermy, microwave diathermy –The radiation of these equipments dipper penetration of muscles and joints.

Impulse Therapy:- Interferential therapy & tansqutenious nerve stimulation. It reduces muscle spasm and pain.

Intermittent pelvic traction:-  It relives nerve compression.

  • Avoid jerk and forward bending of spine.
  • To use limbo- Sacral corset.
  • To maintain good posture.
  • To use flat and hard bed.

Exercise Therapy:-

  • Posterior spinal mussel exercise.
  • Isometric contraction of back muscle.
  • Breading exercise.
  • Hamstring stretching exercise.
  • Straight leg raising exercise.
  • Abdominal muscle exercise.
  • Stranding of abductor, adductor, flexor and extensor muscles of hip and lower spine.

==============================  ===================

पीठ दर्द या पीठ के निचले हिस्से में दर्द (L.B.P)…

==================================================

कारण :-

  1. असामान्य मुद्रा,
  2. बेमिसाल जीवन शैली,
  3. लंबे समय तक आगे झुकना,
  4. लंबे समय तक खड़े रहना,
  5. अचानक झटका,
  6. इंटरवर्टेब्रल स्पेस को कम करने के लिए,
  7. कशेरुकाओं से विकैल्सीकरण,
  8. पीठ के पेट की मांसपेशियों की कमजोरी,
  9. अच्छी नींद और व्यायाम की कमी,
  10. काउंटियस बाइकिंग,
  11. स्पंजी बेड का प्रयोग करना,

ये पीठ दर्द के सबसे आम कारण हैं.

फिजियोथेरेपी उपचार सबसे महत्वपूर्ण है और इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है.

उपचार का उद्देश्य :-

  • पीठ दर्द के दर्द और जकड़न को कम करने के लिए.
  • निचले अंग के पीछे के हिस्से के दर्द को कम करने के लिए.
  • उचित रक्त परिसंचरण और आवेग के संचालन में सुधार करने के लिए.
  • उचित रक्त परिसंचरण और आवेग के संचालन को ठीक करने के लिए मांसपेशियों, ताकत और स्वस्थ ऊतकों में सुधार और तंत्रिका की जलन को खत्म करने के लिए.
  • रीढ़ की हड्डी को आगे झुकने से रोकने के लिए.
  • लंबे समय तक खड़े रहने और बैठने से रोकने के लिए.
  • लंबे समय तक एक ही मुद्रा में बैठे रहना.
  • शरीर के वजन और केंद्रीय मोटापे को कम करने के लिए.

उपचार:-

हीट थेरेपी जैसे शॉर्ट वेव :- वेव डायथर्मी, माइक्रोवेव डायथर्मी – इन उपकरणों के विकिरण से मांसपेशियों और जोड़ों का डिपर प्रवेश होता है.

इंपल्स थेरेपी:- इंटरफेरेंशियल थेरेपी और टैन्सक्यूटेनियस नर्व स्टिमुलेशन. यह मांसपेशियों में ऐंठन और दर्द को कम करता है.

आंतरायिक श्रोणि कर्षण:- यह तंत्रिका संपीड़न से राहत देता है.

  • रीढ़ को झटका और आगे झुकने से बचें.
  • लिंबो- सैक्रल कोर्सेट का उपयोग करना.
  • अच्छी मुद्रा बनाए रखने के लिए.
  • सपाट और सख्त बिस्तर का उपयोग करना.

व्यायाम चिकित्सा:-

  • पोस्टीरियर स्पाइनल मसल्स व्यायाम.
  • पीठ की मांसपेशियों का आइसोमेट्रिक संकुचन.
  • ब्रेडिंग व्यायाम.
  • हैमस्ट्रिंग स्ट्रेचिंग व्यायाम.
  • सीधे पैर उठाने का व्यायाम.
  • पेट की मांसपेशियों का व्यायाम.
  • कूल्हे और निचली रीढ़ की अपहर्ताओं, योजक, फ्लेक्सर और एक्सटेंसर मांसपेशियों का फड़कना.

 

 

                                                                                                               Dr. Manoj kumar (P.T)

                                                                                                                     (Consultant Physiotherapist)

                                                                                                                         Bihar College of Physiotherapy.

 

Related Articles

Back to top button