Health

वर्षा ऋतू में कैसा हो खान-पान….

भारतवर्ष ऋतुओं का देश है और यहाँ के प्रत्येक ऋतू की अपनी महता होती है या यूँ कहें कि अपनी प्राकृतिक शोभा होती है. अपने सौन्दर्य के छठा को चहुँ और फैला देती है. हर ऋतूओं की अपनी विशेष महत्व होती है. इस ऋतू में गर्मी से कुछ राहत तो मिलती है लेकिन उमस बढ़ जाने से पसीना बहुत आता है. यह मौसम जितना ही खूबसूरत होता है उतनी ही अधिक इस मौसम में वायरल बीमारियों के होने का खतरा भी बना रहता है. अक्सर इस मौसम में गर्म चाय के साथ पकोड़े खाने का दिल करता है. इस मौसम में पाचन क्रिया धीमी हो जाती है और इन्फेक्शन से लड़ने की क्षमता भी कम हो जाती है.

डॉ० बिमलेश कुमार.

आयुर्वेद में मौसम के अनुसार खान-पान के बारे में बताया गया है. आयुर्वेदिक डॉक्टर बिमलेश कुमार ने बताया कि बरसात के मौसम में वात दोष संबंधी बीमारी ज्यादा होती है जिसके कारण पेचिश और डायरिया जैसे बीमारी होने का खतरा बना रहता है. आम भाषा में कहें तो, इस मौसम में पेट में गैस ज्यादा बनती है और पेट फूलने लगता है. बारिश के मौसम में खाने-पीने के प्रति बरती गई जरा सी लापरवाही आपके स्वास्थ्य को बिगाड़ सकती है.

आयुर्वेदिक डॉ० बिमलेश कुमार ने बताया कि, वर्षा ऋतू के मौसम में चने की दाल, उड़द, मटर, मसूर, मक्का, आलू और कटहल जैसी गैस बनानेवाली चीजों से परहेज करना चाहिए. इस मौसम में बासी खाना, दही, छाछ, जैम, मुरब्बा, आचार, तेज मसाले वाली खाना, तली हुई, खट्टी और गर्म प्रकृति वाले खाने से भी परहेज करना चाहिए. आयुर्वेदिक डॉ० बिमलेश कुमार ने बताया कि,, इस मौसम में ऐसा खाना खाएं जो आसानी से पच जाए. जब भी खाना खाएं तो खाना गर्म होनी चाहिए. सब्जियों में लौकी, टमाटर, भिंडी, प्याज और पुदीना खा सकते हैं जबकि फलों में अनार, सेब, केला आदि खान चाहिए. खाने में गेंहूँ , चावल, मूंग की दाल, खिचड़ी और लस्सी का सेवन कर सकते हैं. इस मौसम में नॉन वेज नहीं खाना चाहिए.

इस मौसम में उमस ज्यादा होती है और गर्मी की वजह से उमस के कारण शारीर में पानी की कमी हो जाती है. इसिलिये बारिश के मौसम में अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए. वारिश के मौसम में अपने खान-पान के तरीके बदल देने से कई तरह की बीमारियों और परेशानियों से बचा जा सकता है. इस मौसम में कालीमिर्च, हींग और धनिया जरुर खाना चाहिए. इसे खाने से आपके शरीर के रोग-प्रतिरोधक क्षमता और पाचन शक्ति को भी बढाती है. एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि, इस मौसम में हो सके तो पानी को उबाल कर पीना ज्यादा फायदेमंद होता है.

डॉ० बिमलेश कुमार (खगौल)पटना. 

Related Articles

Check Also
Close
Back to top button