लोक चिकित्सक बने…

लोक चिकित्सक बने…

79
0
SHARE

चिकित्सक नही बन सकते है तो लोक चिकित्सक बने—— कोरोनावायरस को लोग जितना खतरनाक मान कर भयभीत हो रहे है, उतना डरने की जरूरत नहीं है. सर्दी,खांसी बुखार होने का मतलब लोग कोरोना मान ले रहे है. बरसात के मौसम में हर आदमी का तबीयत  कुछ न कुछ खराब हो जाता है, ऐसे स्थिति में अपने को व्यवस्थित और स्वस्थ रखे. कोरोना काल में सबसे ज्यादा बुढ़े और बच्चों पर ध्यान रखने की जरूरत है. पहले से जो लोग किसी न किसी बीमारी से परेशान हैं उनको इस समय विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है. सौ व्यक्ति यदि कोरोना से ग्रसीत है इसमें अंठानवे व्यक्ति को इलाज से ठीक हो रहे है. ऐसे समय में धैर्य और साहस से काम लें. ज्यदा इधर उधर की बातों पर ध्यान नहीं दे, विवेक से काम लें और मास्क का उपयोग करें और अपने को साफ सफाई पर पुरा ध्यान दें.

अपना रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाये और प्रकृति प्रदत्त आहार विहार लें. मनुष्य ज्ञान के अभाव में दुःखी होता है. उदाहरण स्वरुप पहले जब कम पढ़े लिखे होते थे तब सांप काटता था तब सांप से घबराकर लोग मर जाते थे, जबकि हमारे देश में पाये जाने वाले ज्यादातर सांप विषहीन होता था. यही हाल अभी कोरोना का चल रहा है कोरोनावायरस से कम ज्यदा लोग घबराकर मर रहे है. पटना एम्स अस्पताल में कोरोना पीड़ित लड़का अस्पताल से कुदकर जान दे दी वहीं दूसरी तरफ पटना सिटी के इलाके में एक कोरोना पीड़ित बच्चे ने आत्महत्या कर ली. ऐसे महामारी के समय में अफवाह फैलाना भी लोगों का मौत का कारण बन रहा है. इस संकट की घड़ी में पीड़ित परिवार को हौसला बढ़ाया जाय न कि पीड़ित को हौसला तोड़ा जाय.

आप चिकित्सक नही बन सकते है तो लोक चिकित्सक की भूमिका में आये और पीड़ित मानवता की सेवा में जुट जायें. जब कोरोना महामारी नहीं फैली थी तब सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए बहुत दानवीर दिखाई दे रहे थे. जब महामारी बढ़ने लगी तब धीरे धीरे सभी दानवीर गुम हो गए. कोरोना योद्धा वही होता है जो महामारी से डटकर मुकाबला करे. डाक्टर लोग बीमारी के समय बहुत अच्छा उपदेश देते है और महामारी के समय छिप जाते है. कोरोना काल के इस समय में एक दूसरे पर दोष मढ़ने का समय नहीं है, सभी लोग मिलकर इस युद्ध को लड़े और युद्ध के बाद हमलोगों को राजनीति करने का समय आयेगा तब राजनीति किया जायेगा. जब देश और प्रदेश बचेगा तब न राजनीति करेंगे. ऐसे महामारी के समय किसी प्रकार का राजनीति नहीं होना चाहिए, सब के सहयोग से ही हम कोरोना को हरा सकते है. जय हिन्द जय भारत.

संजय कुमार सिंह.