News

मैथमेटिकल ओलंपियाड प्रशिक्षण कार्यक्रम…

गणित का नाम सुनते ही अक्सर लोगों को इसका भुत पीछे पड़ जाता है वहीँ, आधुनिक बिहार के नौनिहाल गणितीय आंकड़ों से खेलना शुरू कर दिया है. वैसे भी गणित से सरल कोई भाषा नहीं. सामजिक परिवेश में दैनिक दिनचर्या में सम्मलित ये गणित का उपयोग बच्चे से बुजुर्ग तक करते हैं. बच्चों व शिक्षकों को गणित में अभिरुचि बढ़ाने हेतु हर साल बिहार मैथमेटिकल सोसाइटी के तत्वावधान में टैलेंट सर्च टेस्ट इन मैथमेटिकल ओलंपियाड एवं टैलेंट नरचर कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है. इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्कूल व कॉलेज में पढ़ने वाले बच्चे व शिक्षकों भाग लेते हैं.

संयुक्त सचिव डॉ० कुमार ने बताया कि, हर शनिवार और रविवार को आनलाईन प्रशिक्षण कार्यक्रम चल रहा है. उन्होंने बताया कि, टैलेंट सर्च टेस्ट इन मैथमेटिकल ओलंपियाड एवं टैलेंट नरचर कार्यक्रम में भाग लेने के लिए ऑनलाइन व ऑफलाइन आवेदन लिया जा रहा है. उन्होंने बताया कि ऑनलाइन आवेदन के लिए बिहार मैथमेटिकल सोसाइटी की ऑफिसियल वेबसाईट www.bmsbihar.org को देखें. उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में कक्षा 06-12 एवं स्नातक तथा स्नातकोत्तर के साथ-साथ यूपीएससी, आईआईनेट की तैयारी करने वाले विद्यार्थी भाग ले सकते हैं.

बिहार मैथमेटिकल सोसाइटी के संयुक्त सचिव डॉ० विजय कुमार ने बताया कि रविवार के कार्यक्रम में कुलपति, भीम राव अंबेदकर विश्वविधालय मुजफ्फरपुर जिला शिक्षा पदाधिकारी मुजफ्फरपुर, प्राचार्य एल एस कालेज, एवं आर डी एस कालेज सहित कई शिक्षकों ने बिहार मैथमेटिकल सोसाइटी की आजीवन सदस्य बने.

रविवार 05 सितंबर 2021 को ऑनलाइन एवं आफलाईन छात्रों व शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम  एलएस कॉलेज मुजफ्फरपुर में आयोजित किया गया. इस अवसर पर एलएस कॉलेज मुजफ्फरपुर के प्राचार्य डॉ० ओम प्रकाश राय ने अतिथियों को स्वागत करते हुये कहा कि, विद्यालय को प्रभावशाली बनाने के लिए स्थानीय समुदाय की सक्रियता एवं अभिभावकों को प्रेरणा एवं फीडबैक प्राप्त करना आवश्यक है. इस कार्यक्रम का उद्घाटन जिला पदाधिकारी, मुजफ्फरपुर ने किया. जिला पदाधिकारी ने कहा कि, बच्चों को रचनात्मक, खेल, संगीत एवं कला शिष्टाचार, सामाजिक व्यवहार एवं अभिव्यक्ति आदि का शिक्षण प्रारंभिक स्तर पर दिए जाने से बच्चों को शिक्षण के प्रति आकर्षण पैदा होता है.

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, कुलपति बी० आर० ए० बिहार विश्वविधालय मुजफ्फरपुर ने कहा कि सरकार के द्वारा कल्याणकारी योजना से बच्चों के नामांकन में काफी वृद्धि हुई है परंतु गुणात्मक शिक्षा के लिए शैक्षणिक जागरूकता अभियान,  शिक्षा प्रेमी समाजसेवी, अभिभावक एवं प्रशासनिक पदाधिकारी को एक मंच पर आकर अभिवंचित वर्गों के विद्यालयों को मुख्यधारा में जोड़ने के लिए प्रयास करना आवश्यक है. वहीँ, क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशक तिरहुत प्रमंडल ने कहा कि शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण मॉडल बनाकर करके निगरानी करना आवश्यक है. मुख्य वक्ता डॉ अजीत कुमार,गणित विभाग इनसटीटीयूट आफ केमिकल साइंस मुंबई, डॉ अंबर हबीब, विभागाध्यक्ष गणित विभाग,शिव नादर विश्वविधालय उत्तरप्रदेश (एलुमिनाई आईआईटी मुमबई एवं कैलिफोर्निया विश्वविधालय) ने मैट्रिसेज के संदर्भ में विस्तृत चर्चा करते हुए उसके एप्लीकेशन को बताया.

टैलेंट नरचर कार्यक्रम के संयोजक चंदन तिवारी एवं संजीव कुमार ने बताया कि इस प्रतियोगिता परीक्षा मे कक्षा 06-12, स्नातक एवं स्नातकोत्तर एवं प्रतियोगिताओं के आधारित प्रशिक्षण दिया जाता है. इस कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापन मोहम्मद अब्दुल कलाम अंसारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी मुजफ्फरपुर ने किया. उन्होंने कहा कि, जिला के शैक्षणिक विकास के लिए अकादमिक नवाचार शिक्षा समिति का गठन किया जायेगा.

इस अवसर पर डॉ० अमिता शर्मा, आर डी एस प्राचार्या मुजफ्फरपुर, डॉ० कृषणनदन प्रसाद सिंह, उप परीक्षा नियंत्रक बी एम एस, डा० विजय कुमार एवं विभागाध्यक्ष गणित विभाग, एल एस कालेज मुजफ्फरपुर, किशोर पार्थ, एल एन मिश्रा कालेज आफ बिजनेस मैनेजमेन्ट आदि उपस्थित थे.

Related Articles

Check Also
Close
Back to top button