मनमोहनी…

मनमोहनी…

105
0
SHARE

प्रकृति की गोद मे रहने या बैठने से कितना सुकून आता है इस बात को हम सभी महसूस करते है. वर्तमान समय के भाग-दौड़ की ज़िंदगी में हम सभी अपने काम व उससे जुड़े उलझनों में ऐसे खो जाते हैं और…  प्रकृति से दूर होकर तनाव को अपना साथी बना लेते हैं.

राजधानी पटना में एक समय ऐसा आलम था कि खोजने पर भी पार्क नहीं मिलते थे लेकिन, वर्तमान समय में पार्क ही पार्क हैं जहां बच्चे, बूढ़े, जवान और युवा प्रकृति की गोद में बैठते हैं खेलते है साथ ही तनाव को भी दूर करते हैं.

राजधानी पटना में कई ऐसे पार्क है जहां काफी भीड़ होती है वहीं कंकरबाग में एक ऐसा पार्क है पार्क संख्या- 25 जहां जाने के बाद उस पार्क से बाहर आने का मन ही नहीं करता है. कोलाहल से दूर इस पार्क के अंदर आते ही मन प्रसन्न हो जाता है या यूं कहें कि बाग-बाग हो जाता है.

संकलन :- भास्कर और दिलीप.

Video link :-   https://youtu.be/LyhhXAC8Gt0

स्थान :- पार्क संख्या -25, पी.सी.कॉलोनी.