बिजनेस फाइनेंस के उपयोगिता पर व्यखयान…

बिजनेस फाइनेंस के उपयोगिता पर व्यखयान…

49
0
SHARE
असंगठित मनी मार्केट मे मनी लेंडर उच्च ब्याज दर लेते है.

गुरुवार को कालेज आफ कामर्स, आर्ट्स एण्ड साइन्स (पटना) में एम०सी०ए० विभाग द्वारा बिजनेस फाइनेंस के उपयोगिता संदर्भ पर प्राचार्य प्रोफेसर (डॉ०) तपन कुमार शांडिल्य ने व्यखयान देते हुये कहा कि अर्थव्यवस्था संतुलित करने के बाजार मे संगठित एवं असंगठित मनी मार्केट है.

अर्थशास्त्री प्रोफेसर शांडिल्य ने कहा कि संगठित मनी मार्केट मे ट्रेजरी बिल मार्केट,कामर्सियल बिल मार्केट, सी० डी० मार्केट एवं कामर्सियल पेपर मार्केट के द्वारा बाजार को नियंत्रण किया जाता है. उन्होंने बताया कि परन्तु असंगठित मनी मार्केट मे मनी लेंडर उच्च ब्याज दर लेते है, जैसे चिटफंड कंपनी उच्च ब्याज दर देती है. परन्तु भविष्य मे कभी कभी इस प्रकार के मार्केट मे पैसा रखनेवाले को समस्या भी होती है.

वहीं, एमसीए समन्वयक डॉ० विजय कुमार ने कहा कि, सभी लोगों को आर्थिक नीति की जानकारी के आभाव मे सामान्य लोगों मनी मार्केट का गलत संदेश देकर पैसे की ठगी करते है. इस प्रकार आवश्यक है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे मे सभी को परिचित कराने की आवश्यकता है. प्रो० राम उद्देश्य सिंह ने कहा कि प्राचार्य के प्रशासनिक कार्य के अतिरिक्त शिक्षक की भूमिका मे शिक्षण कार्य करना छात्र एवं छात्राएँ को प्रेरित करना एक सराहनीय कदम है.

इस अवसर पर कालेज आफ कामर्स, आर्ट्स एण्ड साइन्स पटना में एमसीए के फैकल्टी मनोज कुमार,जितेन्द्र कुमार व सभी फैकल्टी सदस्य एवं  बड़ी संख्या मे छात्र- छात्राएँ सम्मिलित हुए.