News

कालाबाजारी को रोकने के लिए जांच दल गठित…

गुरुवार को जमुई के जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह भा०प्र०से० ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि कोरोना संक्रमण के दौरान जिले में डेडीकेटेड कोविड केयर सेंटर में 77 बेड की व्यवस्था है.  इसके अतिरिक्त और 40 बेड की व्यवस्था करने के लिए सिविल सर्जन को निर्देश दिया गया है  साथ ही उन्होने बताया कि जमुई जिले के सदर अस्पताल में 1000 एलपीएम उत्पादन वाले ऑक्सीजन प्लांट की भी स्थापना की जा रही है.

जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह भा०प्र०से० ने बताया कि कोविड-19 महामारी से उत्पन्न परिस्थिति में निजी एंबुलेंस चालकों के द्वारा 50 किलोमीटर दूरी तक के परिवहन हेतु निर्धारित दर को जमुई जिले में लागू कर दिया गया है. उन्होने बताया कि छोटी कार सामान्य का दर 15 सौ रुपए, छोटी कार वातानुकूलित 1700 रुपए, बोलेरो, सुमो, मार्शल सामान्य का दर 18 सौ रुपए, बोलेरो, सुमो, मार्शल वातानुकूलित का दर 21 सौ रुपए के साथ 50 किलोमीटर के अलावे ₹18 प्रति किलोमीटर निर्धारित किया गया है.

जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह भा०प्र०से० ने बताया कि एंबुलेंस में बेसिक लाइफ सपोर्ट सिस्टम एवं जीवन रक्षक दवाएं सहित प्रशिक्षित स्वास्थ्य कर्मी उपलब्ध रहेंगे. साथ ही उन्होने बताया कि उपरोक्त निर्धारित दर का अनुपालन नहीं करने वाले एंबुलेंस चालकों या मालिकों पर द बिहार एपिडेमिक डिजीज कोविड-19 रेगुलेशन 2021 के तहत कार्रवाई की जाएगी. उन्होने बताया कि वर्तमान परिस्थितियों में औषधियों की कालाबाजारी को रोकने के लिए जिला स्तर पर जांच दल गठित किया गया है जिसमें वरीय उप समाहर्ता भारती राज एवं उदय शंकर सहायक औषधि नियंत्रक जमुई को नियुक्त किया गया है.

प्रभाकर मिश्रा(जमुई). 

Related Articles

Back to top button