अर्थशास्त्र से संबंधित(21)…

अर्थशास्त्र से संबंधित(21)…

16
0
SHARE
pix by google.

Q:- Describe the functions of commercial bank?

  1. Getting money on deposit = The main function of commercial bank is to collect public savings and make it available to those people. Five types of accounts are opened in the bank. Such as current account, fixed deposit account, savings account, home savings account and indefinite deposit account.
  2. Lending = Another important function of a commercial bank is to give loans to its customers as per the requirements. The bank offers five types of loans. Such as advance loans, cash credit, overdraft, encashment of bills and investment in government securities.
  3. Transfer of currency = Banks provide facilities to send currency from one part of the country to another through its various branches.
  4. Cheap means of exchange = Banks provide cheap and convenient means of exchange to the people. Such as checks and notes etc.
  5. Buying and selling of foreign exchange = Commercial banks also sell and sell foreign currency on the request of the central bank.
  6. Collecting and publishing data = Commercial banks obtain necessary information about industries and trade, and to publish them.
  7. Building credit = Business banks build credit to increase the economic development of the country.
  8. Managing internal and foreign trade = Commercial banks also make arrangements for many trade organizations or formats to promote international trade.
  9. Other useful functions = Commercial banks also provide other useful functions and services such as facilitating the holding of valuables, issuing credit certificates to their customers, accepting exchange bills, managing trusts, financial advice and Giving information etc.

Agent related work :-

  1. Banks pay checks, exchange bills, letters of credit etc. sent by their customers.
  2. Customers pay checks, premia of insurance, taxes, credit, donations, loan installments etc.
  3. They also pay dividends, interest, rent etc. on behalf of their customers.
  4. To undertake the sale and purchase of government securities, shares of companies and loans etc. for customers.
  5. Passport, foreign exchange purchase, correspondence, trustee and property work etc. for its customers.

================================ ======

प्र0 :- व्यावसायिक बैंक के कार्यों का वर्णन कीजिए है?

  1. जमा पर रूपया प्राप्त करना = व्यापारिक बैंक का मुख्य कार्य जनता की बचत को एकत्रित करना तथा उसे उन लोगों के लिए उपलब्ध कराना है. बैंक में पाँच प्रकार के खाते खोले जाते है. जैसे- चालू खाता, सावधि जमा खाता, बचत खाता, गृह बचत खाता और अनिश्चितकालीन जमा खाता.
  2. ऋण देना = व्यापारिक बैंक का दूसरा महत्त्वपूर्ण कार्य अपने ग्राहकों को आवश्यकताओं के अनुसार ऋण देना है. बैंक पाँच प्रकार के ऋण देता है. जैसे- अग्रिम ऋण, नकद साख, अधिविकर्ष, बिलों का भुनाना और सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश.
  3. मुद्रा का स्थानान्तरण = बैंक अपनी विभिन्न शाखाओं के माध्यम से मुद्रा को देश के एक भाग से दूसरे भाग में भेजने की सुविधाएँ देते है.
  4. विनिमय का सस्ता माध्यम = बैंक लोगों को सस्ते तथा सुविधाजनक विनिमय का माध्यम प्रदान करते है। जैसे चैक तथा नोट आदि.
  5. विदेशी विनिमय का क्रय-विक्रय करना = व्यापारिक बैंक केन्द्रीय बैंक के आग्रह पर विदेशी मुद्रा का क्रय-विक्रय भी करते है.
  6. आँकड़ों को एकत्रित तथा प्रकाशित करना = व्यापारिक बैंक उद्योगों तथा व्यापार के विषय में आवश्यक जानकारी प्राप्त करते है, और उन्हें प्रकाशित करने है.
  7. साख का निर्माण करना = व्यापारिक बैंक देश का आर्थिक विकास को बढ़ाने के लिए साख का निर्माण करते है.
  8. आन्तरिक तथा विदेशी व्यापार का प्रबन्धन करना = व्यापारिक बैंक अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए कई व्यापारिक संगठन या फार्में का अर्थ-प्रबन्ध भी करते है.
  9. अन्य उपयोगी कार्य = व्यापारिक बैंक अन्य उपयोगी कार्य तथा सेवाएँ भी देते है जैसे बहुमूल्य वस्तुओं को रखने की सुविधा देना, अपने ग्राहकों के लिए साख प्रमाण-पत्र जारी करना, विनिमय बिलों को स्वीकार करना, ट्रस्ट का प्रबन्ध करना, वित्तीय सलाह तथा जानकारी देना आदि.

अभिकर्ता  सम्बन्धी कार्य :-

  1. बैंक अपने ग्राहकों द्वारा भेजे गए चैक, विनिमय विपत्र, साख पत्र आदि का भुगतान करते है.
  2. ग्राहकों के चैकों का भुगतान, बीमे के प्रीमियर, कर, साख, चन्दे, ऋण की किस्त आदि का भुगतान करते है.
  3. अपने ग्राहकों की ओर से लाभांश, ब्याज, किराया आदि का भी भुगतान करते है.
  4. ग्राहकों के लिए सरकारी प्रतिभूतियाँ, कम्पनियों के शेयर्स तथा ऋण आदि के क्रय-विक्रय का कार्य करना.
  5. अपने ग्राहकों के लिए पासपोर्ट, विदेशी मुद्रा का क्रय-विक्रय, पत्र-व्यवहार, ट्रस्टी तथा सम्पति के कार्य आदि.