‘श्री निवास रामानुजम’ के गणित में योगदान पर व्याख्यान…

‘श्री निवास रामानुजम’ के गणित में योगदान पर व्याख्यान…

69
0
SHARE
रामानुजम ने गणित के संबंध में एनालिटिक सिद्धांत, इलिपटिक फंक्शन, कन्टीन्यूड फ्रैक्शन, इन्फनाईट सीरिज, गेम थ्योरी, डायोफ्नाईट समीकरण एवं कई समीकरण एवं सिद्धांतों को दिया.

शनिवार को पटना स्थित कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स आर्ट्स एंड साइंस में ‘श्री निवास रामानुजम’ के गणित में योगदान पर व्याख्यान कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम की अध्यक्षता   कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स आर्ट्स एंड साइंस (पटना) के प्रधानाचार्य तपन कुमार शांडिल्य ने की. रामानुजम के गणित में योगदान पर व्याख्यान कार्यक्रम के मुख्य वक्ता प्रो० पी०के०शरण, प्रो० डी०एन० शर्मा के साथ-साथ कई गणितज्ञों ने भी परिचर्चा की.

रामानुजम के गणित के योगदान पर व्याख्यान कार्यक्रम में प्रो० एम०जेड० आलम (विभागाध्यक्ष, गणित) ने अतिथियों का स्वागत करते हुए उनके गणित में किए गये योगदान पर परिचर्चा की साथ ही इनके द्वारा कन्टीन्यूड फ्रैक्शन व नेशनल मैथेमेटिकल डे मनाने पर भी परिचर्चा की. बिहार मैथेमेटिकल सोसाइटी के संयोजक सह कार्यकारी संयुक्त सचिव डॉ० विजय कुमार के द्वारा मंच का संचालन के साथ-साथ रामानुजम के गणित में योगदान में मैजिक संख्या, इन्फनाईट सीरिज, अंकगणित एवं ज्यामितीय श्रेणी पर भी परिचर्चा की. बिहार मैथेमेटिकल सोसाइटी के द्वारा टैलेंट सर्च इन मैथेमेटिक्स में वर्ग 06-07 टीएसटीएम् जूनियर एवं वर्ग 08-09 टीएसटीएम् सीनियर ओलम्पियाड के छात्र-छात्राओं को सम्मलित होने के लिए आवाहन किया गया है. जिसकी परीक्षा 14 अप्रैल 2019 को बिहार प्रदेश के सभी जिलों में आयोजित की जाएगी.      

प्रो० पी०के०शरण ने रामानुजम के मैजिक नंबर के बारे में कहा कि, यह महान गणितज्ञ प्रो० हार्डी का टैक्सी नंबर था. प्रो० डी०एन० शर्मा ने बताया कि, रामानुजम के आर्थिक तंगी एवं अस्वस्थता के बावजूद अपने जीवन काल के 33 वर्षों में गणित के सैकड़ों फार्मूले की व्यख्या की जिसमें आज भी रिसर्च की आवश्यकता है. प्रो० आर०के०के० वर्मा ने रामानुजम समीकरण, सायमैट्रिक समीकरण पर व्याख्यान दिया.

पाटलिपुत्रा विश्वविद्यालय के गणित विभाग के विभागाध्यक्ष श्रीकान्त शर्मा ने पार्टीशन संख्याओं व इन्फैनाईट सीरिज पर चर्चा की साथ ही पी.जी. में छात्रों की 75% उपस्थिति की अनिवार्यता पर भी बल दिया. वहीं, डॉ० शंभू शरण ने रामानुजम के इन्फनाईट सीरिज के समीकरण के संबंध में बताया. अर्थशास्त्र विभाग के डॉ० विवेक कुमार ने भी रामानुजम के गणित को सभी विषयों में योगदान पर भी परिचर्चा की. रामानुजम ने गणित के संबंध में एनालिटिक सिद्धांत, इलिपटिक फंक्शन, कन्टीन्यूड फ्रैक्शन, इन्फनाईट सीरिज, गेम थ्योरी, डायोफ्नाईट समीकरण एवं कई समीकरण एवं सिद्धांतों को दिया.

रामानुजम का जन्म 22 दिसंबर 1887 को हुआ था और उनकी मृत्यु 26 अप्रैल 1920 को हुआ था. वर्ष 1911 में उनकी पहली पेपर इंडियन मैथेमेटिकल सोसाइटी में बनौर्ली समीकरण प्रकाशित हुआ था. वर्ष 1914 में इंग्लैण्ड गये और प्रो० हार्डी के साथ काम किया तथा 1916 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के द्वारा विज्ञान की उपाधि प्राप्त हुआ और वर्ष 1919 में भारत वापस हुए.   

‘श्री निवास रामानुजम’ के गणित में योगदान पर व्याख्यान कार्यक्रम में उपस्थित सभी गणितज्ञयों ने आशा एवं विचार दिए कि, भारत के साथ-साथ बिहार में भी इस महान गणितज्ञयों पर विशेष कार्यक्रम हो एवं उनके अन्सोल्ड प्रश्नों पर रिसर्च की आवश्यकता है. डॉ० प्रतिभा यादव (गणित विभाग) ने धन्यवाद ज्ञापन किया.