विभाज्यता (Divisibility) के नियम…

विभाज्यता (Divisibility) के नियम…

434
0
SHARE
कोई संख्या किसी दूसरी संख्या से विभाजित हो सकती है या नहीं. फोटो:-गूगल.

विभाज्यता का अर्थ होता है कि कोई संख्या किसी दूसरी संख्या से विभाजित हो सकती है या नहीं.  किसी भी आधार वाले संख्या-पद्धति (जैसे, द्वैयर्ड या अष्टाधारी संख्याओं) के लिए ऐसे नियम बनाये जा सकते हैं कि यहां केवल दाशमिक प्रणाली (दशमलव प्रणाली) के संख्याओं के लिए अस्वीकार्य होते हैं.

विभाज्यता के नियम :

  • 02 से विभाज्य होने वाली संख्या :-जिस संख्या के अन्त में 0 या कोई सेम संख्या (0, 2, 4, 6, और 8) होगी वह संख्या 2 से पूरी तरह विभाज्य होगी, चाहे यह संख्‍या कितनी भी बडी हो इससे कोई फर्क नहीं पडता है.
  • 03 से विभाज्य होने वाली संख्या-जिस संख्या का आंकिक योग फल 3 से विभाज्य होगा वह संख्या भी तीन से विभाज्य होगी. जैसे:- 7+6+3+5+9+1+2+4+2=39. 
  • 04 से विभाज्य होने वाली संख्या-जिस संख्या के अंतिम दोनों अंक 4 से विभाज्य हों या किसी संख्या के अन्त में दो या दो से अधिक शून्य हों तो वो संख्या 4 से विभाज्य होगी. जैसे:- 2528544 इस संख्या के अंतिम दोनों अंक 4 से विभाज्य हो जायेगें.
  • 05 से विभाज्य होने वाली संख्या :-किसी संख्या का अंतिम अंक 5 अथवा 0 हो तो वह संख्या 5 से विभाज्य  होगी. जैसे :- 2525325.
  • 06 से विभाज्य होने वाली संख्या :-अगर कोई संख्या 2 और 3 से विभाज्य है तो वह संख्या 6 से भी विभाज्य होगी.
  • 07 से विभाज्य होने वाली संख्या :– यदि किसी संख्या के अंकों का योग 7 से विभाज्य हो तो वह संख्या भी 7 विभाज्य होगी.
  • 08 से विभाज्य होने वाली संख्या :-किसी संख्या के अंतिम तीनों अंकों से निर्मित संख्या 8 से विभाज्य हो तो वह संख्या भी 8 से विभाज्य होगी.
  • 09 से विभाज्य होने वाली संख्या :-यदि किसी संख्या के अंकों का योग 9 से विभाज्य हो तो वह संख्या भी 9 विभाज्य होगी.
  • 10 से विभाज्य होने वाली संख्या:- कोई भी संख्या जिसके अन्त में 0 हो वह संख्या 10 से विभाज्य होगी.
  • 11से विभाज्य होने वाली संख्या:- यदि किसी संख्या के सम स्थानों के अंको और विषम स्थान के अंको का योग में अन्तर शून्य हो या 11 से विभाज्य हो तो वह पूरी संख्या 11 से विभाज्य होगी. जैसे :- 593779901.