विधना नाच नचाबे…

विधना नाच नचाबे…

54
0
SHARE
लोक भाषा मगही की फिल्म, “विधना नाच नचाबे" सनातन आकर्षण, लोक भाषा और लोक जीवन के निकट छुअन, लोक धुन की सजीवता के साथ, मधुरता का एहसास कराती है.

लोक भाषा मगही पर आधारित फिल्म, विधना नाच नचाबे” नवीनता के साथ सनातन आकर्षण, लोक भाषा और लोक जीवन के निकट छुअन, लोक धुन की सजीवता के साथ, मधुरता का एहसास कराती, समाजिक संस्कार के साथ पारिवारिक जीवन के अटूट विश्वास और विदुर्पताओ को दर्शाता हुआ, सामाजिकता को अपनाने की कोशिश भरी कहानी है.

इस फिल्म के निर्माता- निर्देशक, कथा-पटकथा, संवाद, गीत के रचयिता मगही के चर्चित कथाकार वरिष्ठ पत्रकार प्रभात वर्मा की अपनी संकल्प शक्ति, जीवन की आर्थिक जमा-पूंजी के साथ, मगही विकास का संकल्प लिये,पांच दशक वाद,मगही भाषा की समाजिक फिल्म दर्शको के समक्ष पेश किया है. इस फिल्म के सभी गाने प्रभात वर्मा ने लिखे हैं जिनमें टाइटिल सांग के साथ ही विवाह गीत,छठ पूजा के गीत, आधुनिक भजन, प्रेम गीत, चुनाव गीत व आइटम सांग भी शामिल है. रितेश मिश्रा, पप्पू और जिमी गुप्ता ने इस फिल्म को संगीत से सजाया है.

फिल्म की कहानी गांव की एक अनाथ बच्ची के जीवन की कहानी पर आधारित है, जिसके माता पिता की मृत्यु के बाद उसके अपने चाचा चाची ने उससे पीछा छुड़ाने के लिए योजना वनाई और उसे रेलगाड़ी पर बिठाकर भाग खड़े हुए, जिसे एक साधु का सहारा मिला और जीवन निर्वाह संकटो के साथ नाच गाने के बल पर चला और जवानी में साधु की मृत्यु के बाद समाज के विभिन्न विदुर्पताओ के साथ संसार के रचयिता विधना के इशारे पर नाचते हुए अनेक थपेड़ो के बीच दुख-सुख की अनुभूतिके साथ त्याग और अपनत्व के बल पर समाज के एक ऐसै सम्भ्रांत व्यक्ति के सहारे पनपी, जिन्होंने अपनी बेटी बनाकर उसे बहु का भी दर्जा दिया. लेकिन, मास्टर दरोगी को भी इसका खामियाजा अपने स्वार्थी पुत्र के कारण भुगतना पड़ा और रधिया को सौतन पीडा, पति प्रताड़ना से, अनेक प्रकार के विसमताओ के साथ राजनैतिक धरातल की  कारगुजारियो  के बीच गुजरती अनाथ रधिया के जीवन मे विधना का दुख-सुख का नाच देखते बन पड़ता है?

इस फिल्म के मुख्य कलाकारो मे छोटी रधिया की भूमिका निभाई है, अंशिका वर्मा ने और बड़ी प्रियंका सिन्हा ने, साधु अनुप लाल त्रृषी, मास्टर दरोगी की भूमिका निभाई है-प्रभात वर्मा ने, मास्टर दरोगी के बडाहील की भूमिका मे है-मुकेश चित्रांश, नायक मथुरा का किरदार निभाया है कृतन अजीतेश ने, सेठानी के रूप मे डाक्टर सविता मिश्र “मागधी” और दारोगा की भूमिका निभाई है पत्रकार ब्रजेश कुमार ने, वही सरविन्द कुमार ने खलनायकी की निभाई है, राजेश गुडू,  लालबहादुर प्रसाद,  ममता सिंह,  गोपाल कृष्ण मिश्रा,  एश्वर्या,  पूजा वर्मा,  सतीश कुमार,  शम्भू नाथ सिंह,  अनुज किशोर, अजीत कुमार, अजय मेहता, नीधी, अरूण कुमार गौतम व अन्य कलाकार.