रासायनिक संकेत और सूत्र…

रासायनिक संकेत और सूत्र…

313
0
SHARE
आधुनिक रासायनशास्त्र में तत्वों के संकेत को जर्मन वैज्ञानिक बर्जीलियस ने प्रणाली को विकसित किया था. फोटो :- गूगल .

रासायनिक संकेत (Chemical Symbol) :- किसी तत्व के लम्बे नाम को संक्षिप्त या यूँ कहें की छोटे रूप में व्यक्त करने के लिए प्रयुक्त अक्षर या अक्षर के समूह को रासायनिक संकेत कहते हैं.

आधुनिक रासायनशास्त्र में तत्वों के संकेत को जर्मन वैज्ञानिक बर्जीलियस ने 1811 ई० में इस प्रणाली को विकसित किया था. इस प्रणाली के अनुसार

  1. किसी तत्व के अंग्रेजी, फ्रेंच या जर्मन नाम का प्रथम अक्षर उस तत्व का संकेत होता है. जैसे:-

तत्व का नाम                                संकेत 

हाइड्रोजन (Hydrogen)              H

कार्बन (Carbon)                     C

ऑक्सीजन (Oxygen)               O

नाइट्रोजन (Nitrogen)               N

फ्लोरीन (Fluorine)                  F

  1. यदि दो या दो से अधिक तत्वों के नाम एक ही अक्षर से शुरू होते हों, तो ऐसी स्थिति में प्रत्येक तत्व के नाम का प्रथम अक्षर और उसके नाम का अन्य कोई अक्षर उस तत्व के संकेत के लिए प्रयुक्त किये जाते हैं. ज्ञात है कि, संकेत का प्रथम अक्षर कैपिटल तथा दूसरा स्माल लैटर में लिखा जाता है. जैसे :-

तत्व का नाम                          संकेत

बेरियम (Barium)                     Ba

कैल्सियम (Calcium)                 Ca

मैग्नीशियम (Magnesium)          Mg

क्लोरीन (Chlorine)                   Cl

ब्रोमीन (Bromine)                    Br

मॉलिब्डेनम (Molybdenum)         Mo

  1. कुछ तत्वों के संकेत उनके लैटिन नामों पर आधारित होते हैं. जैसे :-

 

तत्व का नाम                तत्व का लैटिन नाम                संकेत

सोडियम (Sodium)         नैट्रियम (Natrium)              Na

तांबा (Copper)              क्यूप्रम (Cuprum)              Cu

पोटैशियम (Potassium)    कैलियम (Kalium)              K

लोहा (Iron)                   फेरम (Ferrum)                 Fe

सोना (Gold)                   औरम (Aurum)                 Au

चाँदी (Silver)                 अर्जेण्टम (Argentum)         Ag

रासायनिक सूत्र (Chemical Formula) :- किसी तत्व या यौगिक के अणु को संक्षिप्त रूप में व्यक्त करने के लिए संकेतों के समूह को रासायनिक सूत्र कहते हैं. रासायनिक सूत्र तीन प्रकार के होते हैं….

  1. अणु सूत्र (Molecular Formula) :- किसी तत्व या यौगिक के अणु में उपस्थित तत्वों के परमाणुओं की वास्तविक संख्या व्यक्त करने वाले सूत्र को तत्व या यौगिक काअणुसूत्र कहते हैं. जैसे :- हाइड्रोजन के एक अणु में हाइड्रोजन के दो परमाणु होते हैं, इसीलिए हाइड्रोजन का अणुसूत्र H2 होता है. ठीक उसी प्रकार जल के एक अणु में हाइड्रोजन के दो तथा ऑक्सीजन का एक परमाणु होते हैं इसीलिए जल का अणु सूत्र है H2O.
  2. मूलानुपाती सूत्र (Empirical Formula) :- किसी यौगिक में उपस्थित तत्वों के परमाणुओं की संख्याओं के सरल अनुपात को व्यक्त करने वाले सूत्र को उस यौगिक का मूलानुपाती सूत्र कहते हैं जैसे :- एथेन (C2H2) के एक अणु में कार्बन और हाइड्रोजन के 2 एवं 6 परमाणु हैं. इसमें कार्बन (C) और हाइड्रोजन (H) के परमाणुओं की संख्या का सरल अनुपात 1:3 है, अतः एथेन का मूलानुपाती सूत्र CH3होता है.
  3. संरचना सूत्र (Structural Formula) :- रासायनिक संकेतों एवं अणुसूत्रों की सहायता से किसी वास्तविक रासायनिक अभिक्रिया के संक्षिप्त निरूपण को रासायनिक समीकरण कहते हैं जैसे:-

कार्बन ऑक्सीजन में जलकर कार्बन डाइऑक्साइड बनाता है (कार्बन + ऑक्सीजन –    कार्बन डाइऑक्साइड C + O2 → CO2).

3. ऊष्मा रासायनिक समीकरण (Thermochemical Equations) :- ऐसे रासायनिक समीकरण जिनमें रासायनिक अभिक्रिया के फलस्वरूप होने वाले ऊष्मा परिवर्तन व्यक्त करते हैं उसे ऊष्मा रासायनिक समीकरण कहा जाता है. रासायनिक अभिक्रिया में मुक्त ऊष्मा को (+) चिह्न द्वारा एवं अवशोषित ऊष्मा को (-) चिह्न के साथ लिखा जाता है जैसे :- नाइट्रोजन और ऑक्सीजन की अभिक्रिया द्वारा नाइट्रिक ऑक्साइड के बनने के दौरान ऊष्मा का अवशोषण होता है, अतः अवशोषित ऊष्माओं के मान को ऋण चिह्नों (-) के साथ लिखा जाता है.

4. ऊष्माशोषी अभिक्रिया (Endothermic Reaction) :-  जिस अभिक्रिया में ऊष्मा का अवशोषण होता है, उसे ऊष्माशोषी अभिक्रिया कहा जाता हैं. जैसे :- नाइट्रोजन और हाइड्रोजन की अभिक्रिया द्वारा अमोनिया के बनने में ऊष्मा मुक्त होती है. इसीलिए मुक्त ऊष्माओं के मान को धन चिह्न (+) के साथ समीकरण के अंत में लिख दिया जाता है.

N (नाइट्रोजन) + O (ऑक्सीजन) ⇌ 2NO (नाइट्रिक ऑक्साइड) -43.6 किलो कैलोरी

5.   ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया (Exothermic Reaction) :- जिस अभिक्रिया में ऊष्मा मुक्त होती है, उसे ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया कहा जाता हैं. जैसे :-

N2 (नाइड्रोजन) + 3H(हाइड्रोजन) ⇌ 2NH3 (अमोनिया) + 22.5 किलो कैलोरी