राज्य के विश्वविद्यालयों में शोध-कार्यों की गुणवत्ता विकसित करने हेतु पटना में...

राज्य के विश्वविद्यालयों में शोध-कार्यों की गुणवत्ता विकसित करने हेतु पटना में 29 मई को कार्यशाला आयोजित होगी…

490
0
SHARE
‘बायोमैट्रिक उपस्थिति प्रणाली’ के तहत विश्वविद्यालय/महाविद्यालय के शिक्षकां एवं शिक्षकेत्तर कर्मियों को शत-प्रतिशत निबंधित कराते हुए उनके द्वारा इस प्रणाली के तहत नियमित तौर पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराना सुनिश्चित करने को कहा गया है. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

सोमवार को महामहिम राज्यपाल लाल जी टंडन से राजभवन पहुँचकर तिलका माँझी भागलपुर विश्वविद्यालय के कार्यकारी कुलपति प्रो० लीला चंद साहा ने मुलाकात की एवं 29 मई 2019  को स्थानीय होटल लेमन ट्री प्रीमियर के सभाकक्ष में आयोजित होनेवाले शोध-कार्यों में गुणवत्ता-विकास विषयक एक दिवसीय उन्मुखीकरण / संवेदीकरण कार्यशाला को उद्घाटित करने का अनुरोध किया.

कार्यकारी कुलपति साहा ने राज्यपाल सह कुलाधिपति टंडन को बताया कि राजभवन के तत्वावधान में आयोजित होनेवाली इस कार्यशाला में देशभर से लब्धप्रतिष्ठ विषय-विशेषज्ञों को बुलाया गया है. कुलपति ने जानकारी दी कि महामहिम राज्यपाल द्वारा उद्घाटित होनेवाली इस कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में ‘की-नोट एड्रेस’ के लिए इंडियन कॉन्सिल ऑफ सोशल साइंस रिसर्च (ICSSR) के चेयरमैन प्रो० बी०बी० कुमार को बुलाया गया है. उद्घाटन कार्यक्रम में राजभवन में उच्च शिक्षा परामर्शी प्रो० आर०सी० सोबती, यू०जी०सी॰ के वाइस चेरमैन डॉ॰ भूषण पटवर्द्धन, कॉन्सिल ऑफ साइंसटिफिक एण्ड इंडस्ट्रीयल रिसर्च (HRIDS) के हेड डॉ० ए०के० चक्रवर्ती तथा राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार भी अपने विचार व्यक्त करेंगे.

कार्यशाला के प्रथम तकनीकी सत्र में वरिष्ठ वैज्ञानिक, अशोका ट्रस्ट फॉर रिसर्च इन इकोलॉजी डॉ० जगदीश कृष्णास्वामी तथा प्रो० संगीत कुमार रागी (दिल्ली विश्वविद्यालय), द्वितीय तकनीकी सत्र में प्रो० भूषण पटवर्द्धन (वाइस चेयरमैन, यू०जी०सी०) तथा डॉ० ए०के० चक्रवर्ती (हेड, सी०एस०आई०आर० –एच०आर०डी०जी०), तृतीय सत्र में –प्रो० आर०सी०सोबती एवं डॉ० अरूण कुमार रावत (परमर्शी, बायोटेक्नोलॉजी विभाग, विज्ञान एवं प्रावैधिकी मंत्रालय), चतुर्थ सत्र में डॉ० अखिलेश गुप्ता (परामर्शी, विभाग एवं प्रावैधिकी विभाग), डॉ० अखिलेश मिश्रा (इंचार्ज, पॉलिसी रिसर्च सेल, डी०एस०टी०) तथा डॉ० हरि ओम यादव (सी०एस०आई०आर०) के संभाषण होंगे, जबकि इन सबके साथ शाम 04.30 बजे से एक खुला सत्र भी संयोजित किया गया है, जिसमें विशेषज्ञ प्रतिभागियों के प्रश्नों को उत्तरित करेंगे.

कार्यशाला-संयोजक कुलपति ने राज्यपाल को बताया कि इस कार्यशाला का मूल उद्देश्य राज्य में शोध-कार्यों को बढ़ावा देना तथा उनमें गुणवत्ता विकसित करने हेतु आवश्यक नीति-निर्धारण एवं आधारभूत संरचना व व्यवस्था सुनिश्चित करने पर विचार करना होगा.

राज्यपाल टंडन ने कहा कि विश्वविद्यालयों में शोध-गतिविधियों में गुणवत्ता का विकास करते हुए इसे युगीन आवश्यकताओं और जरूरतों के मुताबिक और विश्व-मानकों के अनुरूप बनाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि शोध-कार्यों के लिए प्रयोगशालाओं और पुस्तकालयों के सुदृढ़ीकरण हेतु राज्य सरकार ने जो निधि उपलब्ध करायी है, उसका सदुपयोग किया जाना चाहिए उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों में आधारभूत संरचना तथा तकनीकी सुविधाओं के विकास हेतु निधि की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी.

महामहिम राज्यपाल से आज जयप्रकाश विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो० हरिकेश सिंह ने भी शिष्टाचार मुलाकात की तथा उन्हें दिनांक 28 मई 2019 को छपरा में आयोजित होनेवाले विश्वविद्यालय के ‘दीक्षांत समारोह’ में पधारने के लिए आमंत्रित किया. कुलपति प्रो० सिंह ने विश्वविद्यालय द्वारा ‘एकेडमिक कैलेण्डर’ के अनुपालन के क्रम में परीक्षाफल-प्रकाशन में तत्परता तथा यू०एम०आई०एस० के ससमय कार्यान्वयन की जानकारी भी राज्यपाल को दी.