राज्यपाल लाल जी टंडन से रेडक्रॉस सोसाइटी के चेयरमैन डॉ॰ बी॰ बी॰...

राज्यपाल लाल जी टंडन से रेडक्रॉस सोसाइटी के चेयरमैन डॉ॰ बी॰ बी॰ सिन्हा ने मुलाकात कर…

6
0
SHARE
जिला स्वास्थ्य समितियों से समन्वय बनाते हुए रेडक्रॉस सोसाइटी को ‘नेत्र-चिकित्सा एवं ऑपरेशनों के शिविरों’ को भी आयोजित करना चाहिए. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

गुरुवार को राज्यपाल लाल जी टंडन से रेडक्रॉस सोसाइटी, बिहार ब्रांच के चेयरमैन डॉ॰ बी॰ बी॰ सिन्हा ने शिष्टाचार मुलाकात कर नव वर्ष की शुभकामनाएँ दी, एवं रेडक्रॉस सोसाइटी, बिहार की गतिविधियों से उन्हें अवगत भी कराया.

राज्यपाल टंडन ने रेडक्रॉस सोसाइटी के चेयरमैन डॉ॰ सिन्हा से कहा कि राज्य में पड़ रही ठंढ़ को देखते हुए झुग्गी-झोपड़ी एवं सार्वजनिक स्थलों पर रहने वाले गरीबों विशेषकर वृद्धों, महिलाओं एवं बच्चों के बीच पर्याप्त संख्या में कंबल का वितरण सुनिश्चित कराया जाए. राज्यपाल टंडन ने कहा कि रेडक्रॉस की सभी जिला इकाइयों को भी इसी आशय का निदेश शीघ्र दिया जाना चाहिए, ताकि ठंढ़ की वजह किसी गरीब की जीवन-क्षति नहीं हो. उन्होंने कहा कि, आवश्यकतानुसार गर्म कपड़ों का भी वितरण गरीब बच्चों में होना चाहिए तथा मलिन बस्तियों एवं सार्वजनिक स्थलों पर अलाव आदि का प्रबंध भी आपदा-प्रबंधन विभाग के साथ समन्वय स्थापित करते हुए किया जाना चाहिए.

राज्यपाल टंडन ने रेडक्रॉस सोसाइटी बिहार ब्रांच की गतिविधियों को सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों की तंग बस्तियों में भी अभिवंचित वर्ग के लोगों के कल्याणार्थ संचालित करने को कहा. उन्होंने कहा कि जिला स्वास्थ्य समितियों से समन्वय बनाते हुए रेडक्रॉस सोसाइटी को ‘नेत्र-चिकित्सा एवं ऑपरेशनों के शिविरों’ को भी आयोजित करना चाहिए. उन्होंने गाँधी मैदान के समीप स्थित रेडक्रॉस कार्यालय में विभिन्न रोगों के इलाज के लिए ख्याति प्राप्त चिकित्सकों की व्यवस्था पर संतोष व्यक्त करते हुए, यहाँ स्थापित ‘रक्त अधिकोष’ के संचालन में और अधिक व्यापकता लाने को कहा, ताकि जरूरतमंद रोगियों को पर्याप्त रूप से रक्त उपलब्ध होता रहे.

रेडक्रॉस के चेयरमैन डॉ॰ बी॰बी॰ सिन्हा ने राज्यपाल टंडन को बताया कि रेडक्रॉस सोसाइटी भवन, पटना में आधुनिक सुविधाओं एवं उपकरणां से सुसज्जित एक ‘आई॰ हॉस्पीटल’ संस्थापित होने जा रहा है, जिसका उद्घाटन-कार्यक्रम आगामी फरवरी, 2019 में सम्पन्न होगा. उन्होंने बताया कि फिलवक्त नेत्र-रोगियों की आँखों की जाँच मात्र 50 रूपये में करते हुए उन्हें पावर का फ्रेमवाला चश्मा मात्र 250/रु० में रेडक्रॉस द्वारा प्रदान किया जा रहा है. डॉ॰ सिन्हा ने रेडक्रॉस द्वारा पटना एवं अन्य जिलों में बच्चों एवं शिशुवती माताओं के लिए संचालित प्रतिरक्षीकरण (टीकाकरण) केन्द्रों के सफल संचालन की भी जानकारी दी.