राज्यपाल ने स्वप्निल पाण्डेय की अंग्रेजी औपन्यासिक कृति ‘‘लवस्टोरी ऑफ ए कमान्डो’...

राज्यपाल ने स्वप्निल पाण्डेय की अंग्रेजी औपन्यासिक कृति ‘‘लवस्टोरी ऑफ ए कमान्डो’ को लोकार्पित किया…

121
0
SHARE
एक सैनिक के जीवन की संघर्ष-गाथा जितनी प्रेरक होती है उतना ही मार्मिक और संवेदनशील उनका पारिवारिक जीवन भी होता है. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

रविवार को राज्यपाल लाल जी टंडन ने राजभवन में युवा लेखिका स्वप्निल पाण्डेय की दूसरी औपन्यासिक कृति-‘‘लव स्टोरी ऑफ ए कमान्डो’’ (Love Story of a Commando) को लोकार्पित किया.

पुस्तक को लोकार्पित करने के बाद लेखिका के रचनात्मक प्रयास की प्रशंसा करते हुए राज्यपाल टंडन ने कहा कि, महिलाएँ आज ज्ञान, विज्ञान, साहित्य, कला, खेलकूद, राजनीति और विभिन्न सेवाओं के क्षेत्र में काफी उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रही हैं. उन्होंने कहा कि साहित्य की दुनियाँ में भी भारतीय महिलाओं का योगदान अविस्मरणीय है. भारतीय अंग्रेजी साहित्य की रचना में भी सरोजिनी नायडू, अनिता देसाई, अरूंधति राय, अनिता नैयर, शशि देशपाण्डे, शोभा डे, किरण देसाई, भारती मुखर्जी सहित दर्जनों-महिला रचनाकारों ने अपना योगदान दिया है. युवा महिला रचनाकार भी भारतीय संस्कृति, परम्पराओं, मर्यादाओं और मूल्यों के अनुरूप कई उपन्यास लिख चुकी हैं.

राज्यपाल टंडन ने कहा कि, आज साहित्य और विज्ञान के बीच दूरियाँ कम हो गई हैं. साइंस और टेक्नोलॉजी की पढ़ाई करनेवाले युवा भी कई अच्छे-अच्छे उपन्यास तथा कहानियाँ-कविताएँ आदि लिख रहे हैं. विज्ञान के विद्यार्थियों में भी मानवीय संवेदना का भरपूर विस्तार रहने का ही नतीजा है कि वे साहित्य के क्षेत्र में भी अपना महत्वपूर्ण-योगदान कर रहे हैं.

राज्यपाल टंडन ने बी०आई०टी० मेसरा से शिक्षा ग्रहण कर चुकी युवा महिला कथाकार स्वप्निल पाण्डेय की प्रशंसा करते हुए कहा कि आज लोकार्पित पुस्तक में एक भारतीय सैनिक कमान्डो की मार्मिक जीवन-गाथा को आधार बनाकर नयी पीढ़ी के युवाओं में राष्ट्रप्रेम का भाव जगाने को सराहनीय प्रयास किया गया है. उन्होंने कहा कि, भारतीय सैनिक विषम परिस्थितियों में दुर्गम स्थलों पर तैनात रहकर देश की रक्षा के लिए सर्वदा अपने प्राणों की आहूति देने को तैयार रहते हैं तथा देश-प्रेम की भावना उनके हृदय में बराबर हिलोरें मारती रहती हैं.

राज्यपाल टंडन ने कहा कि, एक सैनिक के जीवन की संघर्ष-गाथा जितनी प्रेरक होती है उतना ही मार्मिक और संवेदनशील उनका पारिवारिक जीवन भी होता है. राज्यपाल टंडन ने एक प्रेरणादायी कथावस्तु को आधार बनाकर राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत होकर लिखी गई एक अच्छी औपन्यासिक कृति के लिए लेखिका को अपनी बधाई और शुभकामनाएँ दी.

लेखिका स्वप्निल पाण्डेय ने कहा कि रिया और विराट की प्रेम कथा पर आधारित यह उपन्यास एक सैनिक की देशभक्ति और संवेदनशीलता की कथा है, जो आधुनिक युवाओं के लिए बेहद प्रेरणादायी है. उन्होंने बताया कि उड़ी (जम्मू कश्मीर) में वर्ष 2016 के आतंकवादी हमले में हुई सैनिक जवानां की शहादत की घटना पर आधारित उनके प्रथम उपन्यास ‘‘सोल्जर्स गर्ल’’ (2017) को भी पाठकों ने काफी पसंद किया था और उसी से प्रोत्साहित होकर इस उपन्यास की रचना हुई है.

लोकार्पण के अवसर पर विभूति पाण्डेय, विजय पाण्डेय, कुणाल किशोर एवं अनिल कुमार आदि उपस्थित थे.