मुख्यमंत्री ने राज्य खेल अकादमी एवं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का शिलान्यास किया…

मुख्यमंत्री ने राज्य खेल अकादमी एवं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का शिलान्यास किया…

56
0
SHARE
राज्य खेल अकादमी में खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा, इसके अलावा छात्र, शिक्षक, प्रशिक्षकों के आवासन की भी सुविधा उपलब्ध होगी. फोटो :- आईपीआरडी, पटना.

शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजगीर में 90 एकड़ में बनने वाली राज्य खेल अकादमी एवं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का शिलान्यास एवं कार्यारम्भ शिलापट्ट का अनावरण कर किया, जिसकी अनुमानित राशि 633 करोड़ रुपये है. शिलापट्ट के अनावरण के बाद मुख्यमंत्री ने राज्य खेल अकादमी एवं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम राजगीर के मॉडल का मुआयना करते हुए संबंधित अधिकारियों से पूरी जानकारी भी ली. इस स्टेडियम के निर्माण को पूरा करने का  लक्ष्य दो सालों का है. इस अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में 40 हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी.

मुख्यमंत्री ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम एवं राज्य खेल अकादमी के कार्यारम्भ के लिए कला संस्कृति युवा विभाग और भवन निर्माण विभाग को बधाई दी साथ ही उन्होंने कहा कि, इसकी परिकल्पना हमने पहले ही की थी. हमने कहा था कि यहां का क्रिकेट स्टेडियम अंतर्राष्ट्रीय स्तर का होना चाहिए इसके लिए बी०सी०सी०आई० से सहमति भी ली गई. उन्होंने कहा कि इंडोर स्टेडियम में सभी प्रकार के खेलों की सुविधा उपलब्ध होगी, वहीं बाहर फुटबॉल और हॉकी खेलने की भी व्यवस्था रहेगी. राज्य खेल अकादमी में खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा, इसके अलावा छात्र, शिक्षक, प्रशिक्षकों के आवासन की भी  सुविधा उपलब्ध होगी. उन्होंने कहा कि राजगीर में स्थित पंच पहाड़ी, यहाँ का वातावरण, पर्यावरण की स्थिति को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम एवं राज्य खेल अकादमी के लिए इस स्थान का चयन किया गया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि, नालंदा विश्वविद्यालय भी यहीं है और महाभारत काल में जरासंध का अखाड़ा भी यहीं था. ऐसे में स्टेडियम और खेल अकादमी से जब पर्वत दिखेगा तो आनंद की अनुभूति लोगों को होगी. उन्होंने कहा कि बिहार के हर जिले में स्टेडियम बनाने की दिशा में काम किया गया है, स्पोर्ट्स कैलेंडर भी बनाये गए हैं. उन्होंने कहा कि, यहाँ अंतरराष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर में आने वाले लोग सामने पर्वत पाकर काफी आह्लादित होते हैं. इस कन्वेंशन सेंटर के बगल में पर्यटन निगम द्वारा पर्यटकों के रहने की व्यवस्था की गई है, जिसमें होटल की तरह सुविधायें उपलब्ध हैं. कन्वेंशन सेंटर के पास में ही 5 एकड़ जमीन का भी इंतजाम किया गया है ताकि कोई फाइव स्टार होटल बनाना चाहे तो उसे जमीन उपलब्ध कराया जा सके. उन्होंने कहा कि नालंदा विश्वविद्यालय को हमलोग रिवाइव कर रहे हैं, जो दुनिया में अपने आप में यूनिक होगा साथ ही इसकी तुलना अमेरिका या इंग्लैंड के किसी विश्वविद्यालय से नहीं की जा सकेगी. इसका अपना गौरव है, दुनिया भर से लोग इसमें आएंगे. उन्होंने कहा कि यह पूरा इलाका कॉमर्शियली रूप से विकसित होने वाला है और हमलोगों ने नालंदा विश्वविद्यालय को जमीन दे दी है ताकि वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन सकें.

मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया भर में जो विवाद होते हैं, उसके कनफ्लिक्ट रिजोल्यूशन का यह केंद्र होगा. इसके लिए 25 एकड़ जमीन नालंदा विश्वविद्यालय को दे दी गयी है. उन्होंने कहा कि, यहाँ आई०टी० सिटी भी बनाएंगे. उन्होंने कहा कि पटना, बिहटा और गया एयरपोर्ट से राजगीर 50 मिनट से एक घंटे के अंदर लोग पहुँच सकें इसके लिए बाईपास और नूरसराय से सिलाव तक सड़क का निर्माण भी कराया जा रहा है ताकि राजगीर आने की दूरी और कम हो जाय. राजगीर का अंतरराष्ट्रीय महत्व है, पांडवो के पिता पांडु यहाँ आये थे. ज्ञान प्राप्ति से पहले  और ज्ञान मिलने के बाद महात्मा बुद्ध बिम्बिसार के समय यहाँ आये थे. वेणु वन सिमटते-सिमटते छोटा हो गया है उसको भी बड़ा कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि घोड़ा कटोरा अद्भुत जगह है जहां चारों तरफ पर्वत का दृश्य बड़ा ही मनोरम है. वर्ष 2009 के दिसंबर महीने में जब हम राजगीर आये थे तो सात दिनों तक रहें थे उस वक्त हम गृद्धकूट पर्वत गये थे, उसके बाद से अब वहां जाते रहते हैं. अब वहाँ भगवान बुद्ध की ऊंची प्रतिमा बनकर लगभग तैयार हो गयी है. वह पूरा इलाका इको टूरिज्म का होगा जहाँ पेट्रोल या डीजल चलित वाहनों के जाने की अनुमति नहीं है. । उन्होंने कहा कि राजगीर की धरती पर भगवान बुद्ध, भगवान महावीर, मकदूम जहां साहब और गुरुनानक देव आकर रहे हैं. गुरुनानक देव के मंदिर निर्माण की अनुमति लेने का प्रयास कर रहे हैं. मलमास का मेला यहाँ लगता है, जिसे इस बार से राजकीय मेला घोषित किया जा चुका है. हिन्दू, बौद्ध, इस्लाम, सिख, जैन सभी धर्मों के मानने वाले लोग यहाँ आते हैं इसलिए राजगीर को विकसित करने की हमलोग कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि नालंदा यूनिवर्सिटी, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और राज्य खेल अकादमी जब यहां बनकर तैयार हो जाएगा तो कितना अद्भुत दृश्य होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहाँ जू सफारी भी बनेगा जहां बंद गाड़ी में बैठकर लोग शेर और बाघ जैसे जानवरों को करीब से देखेंगे तो कितना स्वाभाविक दृश्य होगा. जू सफारी के आगे का इलाका ग्रीन सफारी होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के हर जिले में काम किया जा रहा है, अभी लखीसराय कृमिल में लाल पहाड़ी की खुदाई हो रही है. शेखपुरा जिले में अपनी यात्रा के क्रम में हम पहुंचे तो वहाँ आर्कियोलॉजिकल साइट की जानकारी मिली तो एक्सपर्ट को देखने के लिए भेजा गया. उन्होंने कहा कि हमें जहाँ भी लगता है कि ऐतिहासिक या पुरातात्विक भूमि है तो उसकी महत्ता को जानने समझने और उसे विकसित करने की पूरी कोशिश करते हैं ताकि उसे पुनर्जीवित किया जा सके. मुख्यमंत्री ने आम लोगों से अपील करते हुए कहा कि,पूरे देश और दुनिया भर से पर्यटक यहाँ आते रहेंगे.आप लोगों का कर्तव्य है कि, उनके साथ सम्मानजनक व्यवहार करें. उन्होंने कहा कि पढ़ाई के अलावा खेल-कूद युवाओं के लिए बहुत ही आवश्यक है. राज्य खेल अकादमी का लाभ हमारे युवा लेंगें तो उनका जीवन और भी बेहतर होगा साथ ही तरक्की भी करेंगे. उन्होंने कहा कि हमारे राजगीर आने पर तरह-तरह की बातें शुरू हो जाती हैं लेकिन हमारी श्रद्धा हर ऐतिहासिक भूमि के प्रति बराबर है.

इस कार्यक्रम को उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, कला संस्कृति एवं युवा विभाग के मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि, भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव एवं पर्यटन एवं कला संस्कृति युवा विभाग के प्रधान सचिव ने भी संबोधित किया.