मुख्यमंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री स्व० डॉ० जगन्नाथ मिश्र के पार्थिव शरीर पर...

मुख्यमंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री स्व० डॉ० जगन्नाथ मिश्र के पार्थिव शरीर पर पुष्प-चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी…

8
0
SHARE
वे तो चले गये लेकिन उन्होंने जो काम किया है, बिहार में उनकी जो ऐतिहासिक भूमिका रही है, उसे भुलाया नहीं जा सकता है. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

पूर्व मुख्यमंत्री स्व० डॉ० जगन्नाथ मिश्र का पार्थिव शरीर आज दिल्ली से पटना आने के पश्चात  बिहार विधानसभा लाया गया, जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पुष्प-चक्र अर्पित कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी और दिवंगत आत्मा की चिर शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की.

स्व० डॉ० जगन्नाथ मिश्र के पार्थिव शरीर पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, बिहार विधान परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष हारून रषीद, राज्य सरकार के मंत्रीगण, विधायकगण, विधान पार्षदगण सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी.

बिहार विधानमंडल में पुष्प-चक्र अर्पित करने के पश्चात मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्व मुख्यमंत्री स्व० डॉ० जगन्नाथ मिश्र के शास्त्री नगर स्थित आवास जाकर उनके पार्थिव शरीर पर पुष्प-चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी तथा दिवंगत आत्मा की चिर शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की. मुख्यमंत्री ने उनके परिजनों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी. इस अवसर पर बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी, सामाजिक कार्यकर्ता छोटू सिंह सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने डॉ० जगन्नाथ मिश्र के पार्थिव शरीर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

पूर्व मुख्यमंत्री स्व० डॉ० जगन्नाथ मिश्र के शास्त्री नगर स्थित आवास पत्रकारों से बातचीत करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉ० जगन्नाथ मिश्र के निधन से हम सब दुखी हैं. वैसे तो यह नियति की बात है कि जो इस धरती पर आया है, उसे आज न कल जाना ही है. वे तो चले गये लेकिन उन्होंने जो काम किया है, बिहार में उनकी जो ऐतिहासिक भूमिका रही है, उसे भुलाया नहीं जा सकता है. वे तीन बार मुख्यमंत्री रहे हैं, केन्द्र में भी मंत्री रहे हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि अंतिम समय तक वे बिहार की समस्याओं के बारे में हमेशा सक्रिय रहते थे. वे सरकार में नहीं थे लेकिन जो भी जानकारी उनके पास होती थी, उसके बारे में उनसे चर्चा करते थे. व्यक्तिगत रूप से उनके प्रति मेरे मन में हमेशा सम्मान का भाव रहा है. पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ थे लेकिन जब भी मुलाकात होती थी तो ऐसा लगता था कि उनमें आत्म विश्वास अभी पूरे तौर पर है. कल अचानक कुछ ही समय में उनकी तबीयत खराब हुयी और यह घटना घटी. हम उनकी स्मृति को प्रणाम करते हैं और उनके प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं. मुझे पूरा विश्वास है कि बिहार उनको सदैव याद रखेगा.