महामहिम राज्यपाल से महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति ने शिष्टाचार मुलाकात...

महामहिम राज्यपाल से महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति ने शिष्टाचार मुलाकात की…

415
0
SHARE
विश्वविद्यालय की गतिविधियों में पारदर्शिता और गतिशीलता लाने हेतु ‘डिजिटीकरण’ की प्रक्रिया को तेज किया जा रहा है. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

सोमवार को महामहिम राज्यपाल लाल जी टंडन से महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय, मोतिहारी के कुलपति प्रो० (डॉ०) संजीव कुमार शर्मा ने राजभवन पहुँचकर शिष्टाचार मुलाकात की.

शिष्टाचार मुलाकात के दौरान कुलपति डॉ० शर्मा ने महामहिम राज्यपाल को महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय, मोतिहारी की विगत तीन वर्षों की प्रगति-यात्रा के बारे में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि आधारभूत संरचना विकसित करने की दिशा में राज्य का यह दूसरा केन्द्रीय विश्वविद्यालय तेजी से आगे बढ़ रहा है. उन्होंने जानकारी दी कि निधि की कोई कमी नहीं है. डॉ० शर्मा ने बताया कि वर्तमान युग की जरूरतों और माँग के अनुरूप विश्वविद्यालय में पाठ्यक्रम निर्धारित किए गए हैं. कुलपति ने बताया कि शिक्षकेत्तर कर्मियों एवं शिक्षकों की पर्याप्त संख्या में नियुक्ति विहित प्रावधानों के अनुरूप कर ली जायेगी. उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय के पुस्तकालय एवं प्रयोगशालाओं को आधुनिक रूप से सुसज्जित किया जा रहा है. डॉ॰ शर्मा ने बताया कि विश्वविद्यालय की गतिविधियों के डिजिटीकरण का भरपूर प्रयास किया जा रहा है. कुलपति शर्मा ने बिहार राज्य के विश्वविद्यालयों में महामहिम राज्यपाल-सह-कुलाधिपति टंडन के मार्ग-दर्शन में चलाये जा रहे उच्च शिक्षा विषयक सुधार-प्रयासों की काफी प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि राज्य के विश्वविद्यालयों में महामहिम कुलाधिपति-सह-राज्यपाल की पहल से ‘दीक्षान्त समारोहों’ के नियमित आयोजन सुनिश्चित कराये जाने के फलस्वरूप उच्च शिक्षा क्षेत्र में काफी सकारात्मक संदेश गये हैं, साथ ही राज्य के विश्वविद्यालयों में एकेडमिक एवं परीक्षा-कैलेण्डर के अनुपालन से भी राज्य में उच्च शिक्षा की स्थिति में तेजी से सुधार हो रहा है.

महामहिम राज्यपाल ने कुलपति डॉ॰ शर्मा को बताया कि को राज्य के विश्वविद्यालयों के लिए ‘‘बिहार में उच्च शिक्षा की रूपरेखा’’ (Blueprint of higher Education in Bihar) तैयार हो रही है, जिसमें अल्पकालिक, मध्यकालिक एवं दीर्घकालिक नीतियाँ को समाहित किया जा रहा है. राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालय की गतिविधियों में पारदर्शिता और गतिशीलता लाने हेतु ‘डिजिटीकरण’ की प्रक्रिया को तेज किया जा रहा है. राज्यपाल टंडन ने बिहार के विश्वविद्यालयों में ‘नैक प्रत्ययन’ (NAAC Accreditation), ‘यू०एम०आई०एस०’ (UMIS) आदि के कार्यान्वयन आदि की भी बात डॉ॰ शर्मा को बतायी.