भौतकी विज्ञान से संबंधित-06…

भौतकी विज्ञान से संबंधित-06…

20
0
SHARE
pix by google.

Light…

  1. Light seems to travel in simple lines.
  2. The unit of light intensity is a candilla.
  3. The efficiency of a lens is the inverse of its focus distance.
  4. The SI unit of the lens capacity is the diopter.
  5. Light is a form of energy. Light waves are electromagnetic waves, whose names do not require a physical medium.
  6. When the ray of light enters the glass from the air, its wavelength decreases.
  7. If a transparent block is not visible when immersed in a liquid, then the periodicity of both is equal.
  8. Visible light of the spectrum has a wavelength.
  9. The value of the ratio of a light-beam passing from one medium to another is called the refractive index of the second medium as compared to the first medium.
  10. When light enters from one medium to another, then change in direction of light is called refraction of light.
  11. A convex mirror always produces a straight, small and imaginary image.
  12. Magnitude is the ratio of the height, size and the height or shape of an object.
  13. Mirrors and lenses make reflections of objects, reflections can be real or virtual according to the position of the object.
  14. In the process of refraction, the velocity, amplitude, wavelength of light changes but the frequency remains unchanged.
  15. The refractive index of a transparent medium is the ratio between the speed of light in a vacuum and the speed of light in a medium.
  16. The ability of a convex or converging lens is positive and the ability of a still or divergent lens is negative.
  17. There are two laws of reflection of light – incident ray, reflected ray and the normal at the point of incidence, all in the same plane. The incidence angle and the angle of reflection are equal.
  18. Without a plane mirror, the image is straight and imaginary and is formed as far back from the mirror as the object is ahead of the mirror.
  19. All the rays parallel and adjacent to the principal axis of the spherical mirror, the point at which the main axis converges or appears to diverge after reflection from the mirror, is called the main focus of the spherical mirror.
  20. Concave mirrors can create both real and imaginary images. The actual image may be large or small, but the imaginary image is large.
  21. There are two laws of refraction of light – incident ray, refracted ray and the normal at the point of incidence are all in the same plane.
  22. The ratio of the Sine of the incidence angle and Sine of the angle of incidence for a particular character of light is a constant for any two mediums. This rule is also called Snell’s rule.
  23. There are two conditions for complete internal reflection – the rays of light must pass through the dense medium to the sparse medium and the condensation angle of the dense medium must be greater than the critical angle.
  24. Both real and imaginary or virtual images are formed by a convex lens, while only virtual images are formed by a concave lens.
  25. The refractive index of light from a rectangular glass slab is twice.
  26. On the air-glass interface, and on the second glass-wind interface, the ray emitted is parallel to the incident ray, but it is displaced laterally.
  27. All types of reflection pages follow the rules of reflection. Refractory pages follow the rules of refraction.
  28. The magnification produced by a spherical mirror is the ratio of the height of the image to the height of the object.
  29. The focus distance of a spherical mirror is half its radius of curvature.
  30. Mirror formula [latex] \ frac {1} {v} + \ frac {1} {u} = \ frac {1} {f} [/ latex] Image-distance shows the amplitude in the reflection-distance and focus distance of the spherical mirror is.
  31. A light beam, which travels obliquely from the dense medium to the sparse medium, tilts beyond the normal.
  32. The light beam, which is slanting in the dense medium through the sparse medium, tilts towards the normal.
  33. In vacuum, the light travels at an excessive speed of 3 × 108ms- The speed of light varies in different mediums.
  34. In the case of a rectangular glass slab, refraction occurs at both the air – glass interface and the glass – air interface while the output beam is parallel to the direction of the incident ray.
  35. The violet light has the shortest wavelength and the red color light has the longest wavelength.
  36. Some objects exploit light in one way and emit light rays of another color. Calcium chloride exploits violet rays but emits blue rays. This type of phenomenon is called fluorescence.
  37. The cut diamond shines with full internal reflection due to its high sub-index.
  38. Energy is redistributed in the interference pattern and the total energy is conserved.
  39. If a lens is placed in a medium whose refractive index is greater than the refractive index of the substance of the lens, the nature of the lens changes as the focus distance changes and the concave lens behaves like a convex lens.

      …प्रकाश…

  • प्रकाश सरल रेखाओं में गमन करता प्रतीत होता है.
  • ज्योति तीव्रता का मात्रक केन्डिला होता है.
  • किसी लेंस की क्षमता, उसकी फोकस दूरी का व्युत्क्रम होती है.
  • लेंस की क्षमता का SI मात्रक डाइऑप्टर है.
  • प्रकाश उर्जा का एक रूप है। प्रकाश तरंगें, विद्युत चुंबकीय तरंगें हैं, जिनके नाम के लिए भौतिक माध्यम की आवश्यकता नहीं होती है.
  • जब प्रकाश की किरण वायु से कांच में प्रवेश करती है तो उसका तरंगदैर्ध्य घट जाता है.
  • किसी पारदर्शी गुटक को किसी द्रव में डुबाने पर दिखाई नहीं पड़े तो दोनों का अवर्तनांक बराबर होता है.
  • स्पैक्ट्रम के दृश्य प्रकाश में तरंगदैर्ध्य होता है.
  • एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाती हुई एक प्रकाश-किरण के लिऐ अनुपात का मान, पहले माध्यम की अपेक्षा दूसरे माध्यम का अपवर्तनांक कहलाता है.
  • जब प्रकाश एक माध्यम से दूसरे माध्यम में प्रवेश करता है, तब प्रकाश की दिशा में परिवर्तन को प्रकाश का अपवर्तन कहते हैं.
  • उत्तल दर्पण से हमेशा सीधा, छोटा और काल्पनिक प्रतिबिम्ब बनता है.
  • प्रतिबिम्ब की उंचाई, आकार और वस्तु की उँचाई या आकार के अनुपात को आवर्धन कहते हैं.
  • दर्पण तथा लेंस वस्तुओं के प्रतिबिंब बनाते हैं बिंब की स्थिति के अनुसार प्रतिबिंब वास्तविक अथवा आभासी हो सकते हैं.
  • अपवर्तन की क्रिया में प्रकाश का वेग, आयाम, तरंगदैर्ध्य तो बदल जाता है लेकिन आवृत्ति अपरिवर्तित रहती है.
  • किसी पारदर्शी माध्यम का अपवर्तनांक, प्रकाश की निर्वात में चाल तथा प्रकाश की माध्यम में चाल का अनुपात होता है.
  • उत्तल या अभिसारी लेंस की क्षमता धनात्मक और अब तक या अपसारी लेंस की क्षमता ऋणात्मक होती है.
  • प्रकाश के परावर्तन के दो नियम हैं- आपतित किरण, परावर्तित किरण और आपतन बिंदु पर अभिलंब, सभी एक ही समतल में होते हैं. आपतन कोण और परावर्तन कोण बराबर होते हैं.
  • समतल दर्पण के बिना प्रतिबिम्ब सीधा एवं काल्पनिक होता है तथा दर्पण से उतना ही पीछे बनता है, जितनी वस्तु दर्पण से आगे रहती है.
  • गोलीय दर्पण के मुख्य अक्ष समांतर और निकट आपतित सभी किरणे, दर्पण से परावर्तन के बाद मुख्य अक्ष पर जिस बिंदु पर अभिसारित होती हैं या जिस बिंदु से अपसारित होती प्रतीत होती हैं, वह बिंदु गोलीय दर्पण का मुख्य फोकस कहा जाता है.
  • अवतल दर्पण से वास्तविक और काल्पनिक, दोनों प्रकार के प्रतिबिम्ब बन सकते है. वास्तविक प्रतिबिम्ब बड़ा या छोटा हो सकता है, किन्तु काल्पनिक प्रतिबिम्ब बड़ा होता है.
  • प्रकाश के अपवर्तन के दो नियम हैं- आपतित किरण, अपवर्तित किरण और आपतन बिंदु पर अभिलंब सभी एक समान ही समतल में होते हैं.

अ.   प्रकाश के किसी विशेष वर्ण के लिए आपतन कोण की ज्या (Sine) तथा आपर्वन कोण की ज्या (Sine) का अनुपात किन्ही दो माध्यमों के लिए एक नियतांक होता है. इस नियम को स्नेल का नियम भी कहा जाता हैं.

  • पूर्ण आतरिक परावर्तन के लिए दो शर्ते हैं- प्रकाश की किरणों को सघन माध्यम से विरल माध्यम में जाना चाहिए और सघन माध्यम से आपतन कोण, क्रांतिक कोण से बड़ा होना चाहिए.
  • उत्तल लेंस द्वारा वास्तविक और काल्पनिक या आभासी, दोनों प्रकार के प्रतिबिंब बनते हैं, जबकि अवतल लेंस द्वारा केवल आभासी प्रतिबिम्ब ही बनते हैं.
  • आयताकार कांच के स्लैब से प्रकाश का अपवर्तनांक दो बार होता है.

अ. हवा-कांच अंतरा पृष्ठ पर और दूसरा कांच हवा अंतरापृष्ठ पर निर्गत किरण, आपतित किरण के समांतर तो होती है, परंतु वह पार्श्विक रूप से विस्थापित हो जाती है.

  • सभी प्रकार के परावर्ती पृष्ठ, परावर्तन के नियमों का पालन करते हैं. अपवर्ती पृष्ठ, अपवर्तन के नियमों का पालन करते हैं.
  • किसी गोलीय दर्पण द्वारा उत्पन्न आवर्धन, प्रतिबिंब की ऊँचाई तथा बिंब की ऊँचाई का अनुपात होता है.
  • किसी गोलीय दर्पण की फोकस दूरी, उसकी वक्रता त्रिज्या की आधी होती है.
  • दर्पण सूत्र [latex]\frac { 1 }{ v } +\frac { 1 }{ u } =\frac { 1 }{ f }[/latex] बिंब-दूरी प्रतिविम्ब-दूरी तथा गोलीय दर्पण की फोकस दूरी में संवध दर्शाता है.
  • सघन माध्यम से विरल माध्यम में तिरछी गमन करने वाली कोई प्रकाश किरण, अभिलंब से परे झुक जाती है.
  • विरल माध्यम से सघन माध्यम में तिरछी गमन करने वाली प्रकाश किरण अभिलंब की ओर झुक जाती है.
  • निर्वात में प्रकाश 3 × 108ms-1 की अत्यधिक चाल से गमन करता है. विभिन्न माध्यमों में प्रकाश की चाल भिन्न-भिन्न होती है.
  • किसी आयताकार काँच के स्लैब के प्रकरण में, अपवर्तन वायु-काँच अंतरापृष्ठ एवं काँच-वायु अंतरापृष्ठ दोनों पर होता है जबकि निर्गत किरण, आपतित किरण की दिशा के समांतर होती है.
  • बैंगनी वर्ण के प्रकाश का तरंगदैर्ध्य सबसे कम तथा लाल वर्ण के प्रकाश का तरंगदैर्ध्य सबसे अधिक होता है.
  • कुछ वस्तुएं एक प्रकार से प्रकाश का शोषण करती हैं और दूसरे रंग के प्रकाश की किरणें निकालती हैं. कैल्सियम क्लोराइड बैंगनी किरणों का शोषण करता है परंतु नीली किरणे निकालता है. इस प्रकार की घटना को प्रतिदीप्ति कहा जाता है.
  • तराशा हुआ हीरा अपने उच्च उपवर्तनांक के कारण पूर्ण आन्तरिक परावर्तन से चमकता है.
  • व्यतिकरण प्रारूप (इंटरफ्रेंस पैटर्न) में ऊर्जा का पुनर्वितरण होता है और कुल ऊर्जा संरक्षित रहती है.
  • यदि किसी लेंस को ऐसे माध्यम में रखा जाए जिसका अपवर्तनांक लेंस के पदार्थ के अपवर्तनांक से अधिक हो, तो लेंस की फोकस दूरी बदलने के साथ-साथ उसकी प्रकृति भी उलट जाती है और अवतल लेंस, उत्तल लेंस की भाँति व्यवहार करने लगता है.