भवंर पोखर में बनेगा मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल…

भवंर पोखर में बनेगा मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल…

12
0
SHARE
बिहार मातृ एवं शिशु कल्याण समिति की भँवरपोखर स्थित भूमि पर एक विश्वस्तरीय मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल बनाने का निर्णय लिया गया है. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

मंगलवार को राज्यपाल लाल जी टंडन की अध्यक्षता में राजभवन सभागार में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई, जिसमें राजभवन के अंतर्गत संचालित बिहार मातृ एवं शिशु कल्याण समिति की भँवरपोखर स्थित भूमि पर एक विश्वस्तरीय मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल(Maternal and Child Health Super Specialty Hospital) स्थापित करने का निर्णय लिया गया.

बैठक में समिति के अध्यक्ष सह महामहिम राज्यपाल टंडन के अतिरिक्त विधायक नीतिन नवीन, समिति के उपाध्यक्ष डॉ॰ ए॰ए॰ हई, राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह, बिहार राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक पदाधिकारी लोकेश कुमार सिंह, बिहार चिकित्सा सेवाएँ एवं आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड के एम॰डी॰ संजय कुमार सिंह, राज्यपाल सचिवालय के संयुक्त सचिव विजय कुमार सहित हॉस्पीटल-निर्माण से जुड़े कई विशेषज्ञ शामिल थे.

बैठक में राज्यपाल टंडन ने कहा कि बिहार राज्य मातृ एवं शिशु कल्याण समिति की भँवर पोखर स्थित भूमि पर एक ऐसा विश्वस्तरीय ‘मातृ एवं शिशु अस्पताल’ बनाया जाना चाहिए, जो गुणवत्ता में विश्वस्तरीय हो तथा जिसमें कम दर पर सामान्य आय वाले एवं गरीब रोगियों का भी इलाज संभव हो सके. उन्होंने कहा कि, पी॰पी॰पी॰ मोड में संचालित होनेवाले इस अस्पताल में ख्यातिप्राप्त चिकित्सकों एवं चिकित्सा-सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित होनी चाहिए.

भँवरपोखर के 25 डिसमिल (15244 स्क्वायर फीट) एरिया वाले इस भू-खंड में 40 शैय्यावाले उत्कृष्ट कोटि के ‘मातृ एवं शिशु चिकित्सा अस्पताल’ के निर्माण के लिए यथाशीघ्र शिलान्यास-कार्य सम्पन्न कराने का निर्देश राज्यपाल टंडन ने अधिकारियों को दिया. उन्होंने कहा कि शिलान्यास के साथ ही निर्माण-कार्य प्रारंभ भी हो जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि ‘बिहार चिकित्सा सेवाएँ एवं आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड’ को आगामी 15 दिनों के भीतर ‘पी०पी० आर०’ तैयार कर राजभवन में प्रेजेन्टेशन देना चाहिए, ताकि अन्य आवश्यक निर्णय लेने तथा ‘डी०पी०आर०’ तैयार करने में अनावश्यक विलम्ब नहीं हो.

राज्यपाल टंडन ने कहा कि राज्य स्वास्थ्य समिति को भी इस अस्पताल के निर्माण में आवश्यक सहयोग करना चाहिए, ताकि एक ऐसा उत्कृष्ट अस्पताल समय-सीमा में बनकर तैयार हो जाए, जो राज्य के लिए स्वास्थ्य प्रक्षेत्र में एक महत्त्वपूर्ण उपलब्धि की प्राप्ति हो. बैठक में अधिकारियों ने राज्यपाल टंडन के समक्ष प्रजेन्टेशन देकर बताया कि इस प्रस्तावित अस्पताल में सी०सी०यू०, आई०सी०यू०, Sick New Born Care Unit, Anti Natalensive Care Unit (PICU), Blood Shortage Unit, Pathology and Radiology Service, Operation Theatre, Pre—delivery wating beds, Post- delivery Observation Rooms, Surgical Post Oprative Rooms, Post-partum ward (For Family planing Operations), Labour Rooms, Ultra Sonography (UGS) Rooms, Child neurosurgery Room आदि की भी व्यवस्था होगी. इसमें Pathology Lab, OPD, Biomedical Waste Managements, Ambulance आदि के भी समुचित प्रबंध होंगे.  इस सुपर स्पेशलिटी हॉस्पीटल के निर्माण-कार्य के समानान्तर इसके सफल संचालन एवं प्रबंधन हेतु भी राज्यपाल टंडन ने अधिकारियों को कई आवश्यक सुझाव व निर्देश भी दिए.

 बैठक में विधायक नीतिन नवीन ने बताया कि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री से भी उन्होंने इस अस्पताल के निर्माण-कार्य को लेकर बातें की हैं. विधायक एवं समिति के उपाध्यक्ष डॉ० ए०ए०  हई ने भी अस्पताल-निर्माण को लेकर कई सुझाव दिये हैं.