‘नैक जागरूकता एवं प्रशिक्षण कार्यशाला’ का उद्घाटन राज्यपाल लाल जी टंडन करेंगे…

‘नैक जागरूकता एवं प्रशिक्षण कार्यशाला’ का उद्घाटन राज्यपाल लाल जी टंडन करेंगे…

117
0
SHARE
दिव्यांग बच्चों को किसी से दया, कृपा या सहानुभूति नही चाहिए, बल्कि समाज के अन्य सभी बच्चों की भाँति ये दिव्यांग बच्चे भी भरपूर स्नेह, शिक्षा और समग्र विकास के समुचित अवसर के वास्तविक हकदार हैं. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

गुरुवार 04 अप्रैल को राजभवन स्थित राजेन्द्र मंडप में आयोजित दो दिवसीय ‘नैक जागरूकता एवं प्रशिक्षण कार्यशाला’ का उद्घाटन राज्यपाल लाल जी टंडन करेंगे.

उक्त कार्यशाला के उद्घाटन कार्यक्रम में राज्य के मुख्य सचिव दीपक कुमार, शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आर०के० महाजन, यू०जी०सी० के सचिव रजनीश जैन, राजभवन में शिक्षा सलाहकार प्रो० आर०सी० सोबती, राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह एवं ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा के कुलपति प्रो० एस०के० सिंह सहित राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपति, कुलसचिव आदि भाग लेंगे. कार्यशाला में अंगीभूत महाविद्यालयों के प्राचार्यगण, विश्वविद्यालयों में ‘नैक’ के नामित नोडल पदाधिकारी आदि बतौर प्रतिभागी भाग लेंगे.

दो दिवसीय कार्यशाला के विभिन्न सत्रों में देवी अहिल्या बाई विश्वविद्यालय, इंदौर के प्रो० संतोष बंसल,  बी०एच०यू०, वाराणसी के प्रो० मल्लिकार्जुन जोशी, ‘नैक’ की सलाहकार डॉ० के० रमा, डॉ० रूचिका त्रिपाठी एवं डॉ० वी०एस० मधुकर आदि भी प्रतिभागियों को संबोधित करेंगे. कार्यशाला के समापन-सत्र में भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद् (इंडियन कॉन्सिल ऑफ सोशल साइंस रिसर्च) के चेयरमैन डॉ० बी०बी० कुमार भी अपने विचार व्यक्त करेंगे.

कार्यशाला में ‘इन्स्टीच्यूशनल इनफॉरमेशन फॉर क्वालिटी एसेसमेंट (आई०आई०क्यू०ए०) ‘सेल्फ स्टडी रिपोर्ट’ (एस०एस०आर०) आदि तैयार करने, ‘स्टूडेंट सैटिसफेक्शन सर्वे’ (एस०एस०एस०) की तैयारी, डाटा वेरिफिकेशन एण्ड वैलिडेशन’ आदि से जुड़े कई मुद्दों आदि पर भी विस्तार से चर्चा होगी.

कार्यशाला में विभिन्न सत्रों के दौरान ‘रिवाइज्ड एक्रीडिटेशन फ्रेम वर्क’, पाठ्यक्रमों में सुधार, आधारभूत-संरचना, सांस्थिक प्रबंधन, शोध की गुणवत्ता में विकास, टीचिंग-लर्निंग-प्रोसेस, नवाचारमूलक प्रयोग आदि विभिन्न विषयों पर भी विचार-मंथन होगा.

ज्ञात है कि, राज्य के सभी 260 अंगीभूत महाविद्यालयों ने ‘ऑल इंडिया सर्वे ऑन हायर एडुकेशन’ में प्रतिवेदन भरकर ‘AISHE-ID प्राप्त कर ली है. कार्यशाला में ‘इस्टीच्यूशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर क्वालिटी एसेसमेंट’(I.I.Q.A) तथा ‘सेल्फ स्टडी रिपोर्ट’(S.S,R) भरने की ‘मॉक ड्रील’ भी होगी, ताकि ‘नैक प्रत्ययन’ की तैयारी के सभी प्रमुख सैद्धान्तिक एवं व्यावहारिक पहलुओं की सम्यक् जानकारी सबको हो सके.