नाटक ब्लेड…

नाटक ब्लेड…

250
0
SHARE
नाटक “ब्लेड” उर्दू के मशहूर लेखक अफसाना निगार सआदत हसन मंटो की चर्चित कहानी जेबकतरा पर आधारित है.

नाटक “ब्लेड” उर्दू के मशहूर लेखक अफसाना निगार सआदत हसन मंटो की चर्चित कहानी जेबकतरा पर आधारित है. इस नाटक का मंचन मंगलवार की शाम कालिदास रंगालय के मंच पर नाट्य संस्था अदाकार ख्वाहिश ने पेश किया. इस नाटक में एक जेबकतरे के भीतर की इंसानियत को पेश किया गया है और इस नाटक को रवि मिश्रा ने निर्देशित किया है. इस नाटक के जरिये आम-आवाम में एक संदेश दी गई है कि, बुरा इंसान भी इंसानियत की मिसाल पेश कर सकता है.

photo - 02

काशी नाम का एक जेबकतरा है जो बिमला नामक महिला का बटुआ गायब कर देता है. उस बटुए में से कुछ रूपये और एक पत्र मिलता है जिसे पढ़कर काशी को खुद से श्रम आने लगती है और उसे अहसास होता है कि, ऐसे औरत का बटुआ उड़ाया है जिसे रुपयों की बेहद जरूरत है. इन सभी बातों को सोचकर उसके अंदर की इंसानियत जाग जाती है और वह बटुआ लौटाने वके लिए मेहनत-मशक्कत कर बटुए के मालकिन को बटुआ लौटा देता है. इसके बाद काशी और बिमला की दोस्ती हो जाती है और बिमला उसे अच्छा आदमी बनाना चाहती है लेकिन, काशी अपनी आदतों से मजबूर रहता है.

photo - 03बिमला के कुछ ख़त और सबूत पंडित देशराव के पास होते हैं और सबूत पंडित देशराव बिमला से ब्लैक मेल करता है और बिमला भी परेशान रहा करती है. बिमला काशी को उन पत्रों को उड़ानेके लिए कहना चाहती है परन्तु, उसे अच्छा आदमी बनाने के कारण वह कह नहीं पाती  है. जब उन दोनों को एक दुसरे के बारे में पता चलता है तबतक देर हो चुकी होती है और उन दोनों को बेहद ही अफ़सोस होता है.

 

photo - 04 photo - 05

नाटक ब्लेड के कलाकार:-

डॉ० किशोर सिन्हा, अर्चना सोनी, सुभाष चंद्रा, आजाद शक्ति, रंजन कुमार, प्रेम कुमार, विवेक ओझा, शिव प्रसाद, संचीत कुमार, रजनी कुमारी, ममता तिवारी और हर्ष आजाद.