देश-दुनिया में 18 मई का इतिहास…

देश-दुनिया में 18 मई का इतिहास…

570
0
SHARE
उमर खैयाम ने ज्यामिति बीजगणित की स्थापना की, जिसमें उसने अल्जेब्रिक समीकरणों के ज्यामितीय हल प्रस्तुत किए. इसमें हाइपरबोला तथा वृत्त जैसी ज्यामितीय रचनाओं द्बारा क्यूबिक समीकरण का हल भी शामिल है. फोटो:-गूगल.
  • वर्ष 1048 में फ़ारसी साहित्यकार, गणितज्ञ एवं ज्योतिर्विद उमर खैयाम का जन्म उत्तर-पूर्वी फ़ारस के निशाबुर (निशापुर) में ग्यागरहीं सदी में एक ख़ेमा बनाने वाले परिवार में हुआ था. इन्होंने इस्लामी ज्योतिष को एक नई पहचान दी और इनके सुधारों के कारण सुल्तान मलिकशाह का पत्रा (तारीख़-ए-मलिकशाही), जलाली संवत या सेल्जुक संवत का आरंभ हुआ. खय्याम ने ज्यामिति बीजगणित की स्थापना की, जिसमें उसने अल्जेब्रिक समीकरणों के ज्यामितीय हल प्रस्तुत किए. इसमें हाइपरबोला तथा वृत्त जैसी ज्यामितीय रचनाओं द्बारा क्यूबिक समीकरण का हल शामिल है. खगोलशास्त्र में कार्य करते हुए उमर खय्याम ने एक सौर वर्ष की दूरी दशमलव के छः स्थानों तक शुद्ध प्राप्त की तथा, इसी आधार पर एक नए कैलेंडर का आविष्कार किया. उस वक्त के ईरानी हुकूमत ने इसे जलाली कैलेंडर के नाम से लागू किया जो वर्तमान में ईरानी कैलंडर जलाली कैलेंडर का ही एक मानक रूप है.
  • वर्ष 1682 में छत्रपति शाहूजी महाराज का जन्म गांगुली गांव में हुआ था. शाहूजी महाराज छत्रपति शिवाजी का पौत्र तथा शम्भुजी और येसूबाई के पुत्र थे.शाहू, जिसे शिवाजी द्वितीय के नाम से भी जाना जाता है.बादशाह औरंगज़ेब ने ‘शिवाजी द्वितीय’ (शाहू) को ‘साधु’ कहना शुरू किया था, इसी से उसका नाम शाहू हो गया. शाहू ने पेशवा बालाजी विश्वनाथ की सहायता से मराठा साम्राज्य को एक नवीन शक्ति के रूप में संघटित किया था. वर्ष 1689 में रायगढ़ महाराष्ट्र के पतन के बाद शाहू, उसकी माँ येसूबाई एवं अन्य महत्त्वपूर्ण मराठा लोगों को क़ैद कर औरंगज़ेब के शिविर में नज़रबन्द कर दिया गया.शाहू उस समय बालक ही थे फिर भी उन्हें बन्दी बनाकर मुग़ल दरबार में लाया गया.वर्ष 1707 में औरंगज़ेब की मृत्यु के उपरान्त सम्राट बहादुर शाह प्रथम ने उसे मुक्त कर दिया. उसके बाद वापस वापस महाराष्ट्र आ गए और वहां पर परसोजी भोंसले (रघुजी भोंसले तृतीय), भावी पेशवा बालाजी विश्वनाथ और रणोजी सिन्धिया ने उसका साथ दिया. तब शाहू ने अपनी चाची के विरुद्ध युद्ध की घोषणा की और अंतत: वर्ष 1708 में उनका राज्याभिषेक हुआ.
  • वर्ष 1804 में नेपोलियन को फ़्रांस का सम्राट घोषित किया गया.
  • वर्ष 1881 में वकील, राजनीतिज्ञ और संविधान सभा के सदस्य राम लिंगम चेट्टियार का जन्म कोयंबटूर (तमिलनाडु) में हुआ था.इनके पिता अंगप्पा चेट्टियार प्रसिद्ध व्यापारी और बैंकर थे. वे मद्रास विश्वविद्यालय से वर्ष 1904  में कानून की डिग्री लेकर वकालत करने लगे और बाद में उन्होंने राजनीति में भी भाग लेना आरम्भ कर दिया. वर्ष 1921 में मद्रास लेजिस्लेटिव कॉउंसिल के सदस्य चुन लिए गए और वर्ष 1939 तक वे लगातार इसके सदस्य भी रहे. वर्ष 1946 में रामलिंगम संविधान सभा के सदस्य निर्वाचित हुए और वर्ष 1951 में वे निर्विरोध प्रथम लोकसभा के सदस्य चुने गए. संविधान सभा में इन्होंने हिंदी को राजभाषा के रूप में स्वीकार किए जाने का कड़ा विरोध किया था.
  • वर्ष 1912 में पहली भारतीय फीचर फिल्म श्री पुंडा‍लिक कोरोनेशन सिनेमैटोग्राफ, मुम्बई के गिरगाँव में रिलीज़ हुई थी. इसे पहली फीचर-लेंथ भारतीय फ़िल्म के रूप में मान्यता प्राप्त है. इस फिल्म को दादासाहेब तोरने उर्फ ​​रामा चंद्र गोपाल द्वारा निर्मित और निर्देशित थी.
  • वर्ष 1914 में भारतीय रिज़र्व बैंक के दसवें गवर्नर एस. जगन्नाथन का जन्म हुआ था.इनका पूरा नाम सरूकाई जगन्नाथन था.इन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज( मद्रास) में शिक्षा प्राप्त की थी. जगन्नाथन भारतीय सिविल सेवा के सदस्य थे. इन्होने भारत में पहली बार 20 रुपये और 50 रुपये के भारतीय रुपयों के नोट पेश किए गए थे और इस पर जगन्नाथन ने अपने हस्ताक्षर किए थे.
  • वर्ष 1966 में भारत के सुप्रसिद्ध वनस्पति विज्ञानी पंचानन माहेश्वरी का निधन दिल्ली में हुआ था.
  • वर्ष 1933 में भारत के 12वें प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा का जन्म हॉलनसारिपीली तालुक के एक गांव जो कि मैसूर के पूर्व साम्राज्य (अब हसन, कर्नाटक में) का एक वोक्कालिगा जाति परिवार(भारत सरकार द्वारा अन्य पिछड़ा वर्ग के रूप में वर्गीकृत किया गया है) में हुआ था. उनके पिता का नाम दोडे गौड़ा( जो एक किसान थे) और माता का नाम देवम्मा था.
  • वर्ष 1950 में अमरीका और यूरोप की रक्षा के लिए 12 नाटो सदस्य देशों ने स्थाई संगठन बनाने पर सहमति जताई थी.
  • वर्ष 1974 में पोख़रण (राजस्थान) में अपने पहले भूमिगत परमाणु बम परीक्षण के साथ भारत विश्व में छठा परमाणु शक्ति संपन्न देश बना. इस परीक्षण का नाम स्माइलिंग बुद्धा दिया गया था.
  • वर्ष 1983 को अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस मनाने की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र ने की थी. इस दिवस का उद्देश्य विकासशील समाज में संग्रहालयों की भूमिका के प्रति जन-जागरूकता को बढ़ाना है और यह कार्यक्रम विश्व में काफ़ी समय से मनाया जा रहा है. अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय परिषद 1992 से प्रत्येक वर्ष एक विषय का चयन करता है एवं जनसामान्य को संग्रहालय विशेषज्ञों से मिलाने एवं संग्रहालय की चुनौतियों से अवगत कराने के लिए स्रोत सामग्री विकसित करता है. संग्रहालयों में हमारे पूर्वजों की अनमोल यादों को संजोकर रखा जाता है। किताबें, पाण्डुलिपियाँ, रत्न, चित्र, शिलाचित्र और अन्य सामानों के रूप में तमाम तरह की वस्तुएं संग्रहालयों में हमारे पूर्वजों की यादों को ज़िंदा रखे हुई हैं.
  • वर्ष 1990 में पूर्वी और पश्चिमी जर्मनी ने मौद्रिक संघ संधि पर हस्ताक्षर किए.
  • वर्ष 2004 में राफा (इस्रायल) विस्थापित कैम्प में इस्रायली सैनिकों ने 19 फ़िलिस्तीनियों को मौत के घाट उतारा दिया था.
  • वर्ष 2006 में नेपाल नरेश को कर के दायरे में लाया गया था.
  • वर्ष 2007 में कजाकिस्तान के राष्ट्रपति नूर सुल्तान नजर वायेव का कार्यकाल असीमित समय के लिए बढ़ा दिया गया.
  • वर्ष 2008 में मध्य प्रदेश सरकार ने पार्श्वगायक नितिन मुकेश को राष्ट्रीय लता मंगेशकर अलंकरण से सम्मानित किया था.
  • वर्ष 2012 में प्रसिद्ध धार्मिक गुरु जय गुरुदेव का निधन 116 वर्ष की उम्र में मथुरा में हुआ था.
  • वर्ष 2017 हिन्दी फ़िल्मों की अभिनेत्री रीमा लागू का निधन मुंबई में कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में दिल का दौरा पड़ने से हुआ था.