दुनिया छोड़ कर चली गईं, गुजरे जमाने की अभिनेत्री शकीला

दुनिया छोड़ कर चली गईं, गुजरे जमाने की अभिनेत्री शकीला

509
0
SHARE
शकीला की असली पहचान गुरुदत्त की 1954 में आई फिल्म 'आर पार' के मशहूर गाने 'बाबूजी धीरे चलना' के जरिए मिली थीं.

50-60 के दशक में एक से बढ़कर एक फिल्मों में काम किया, लेकिन उन्हें असली पहचान गुरुदत्त की 1954 में आई फिल्म ‘आर पार’ के मशहूर गाने ‘बाबूजी धीरे चलना’ के जरिए मिली. गुजरे जमाने की मशहूर अभिनेत्री शकीला का 82 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है. उन्होंने 20 सितंबर, 2017 को आखिरी सांस ली. ब्लैक एंड व्हाइट सिनेमा के दौरान उनका रुतबा किसी सुपरस्टार से कम नहीं था. वो गुरुदत्त के साथ आर-पार और सीआईडी फिल्मों में नजर आई थीं. शकीला इतनी अधिक ख़ूबसूरत थीं कि लोग उन्हें परियों की रानी कहते थे. गुरुवार सुबह मुंबई में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया. यह जानकारी उनके रिश्तेदार नासिर खान ने सोशल मीडिया में निधन की जानकारी दी.

इंडियनएक्सप्रेस.कॉम के अनुसार नासिर खान(जॉनी वॉकर के बेटे) ने कहा कि, उन्हें किडनी की बीमारी थी, साथ ही उन्हें डायबिटिज भी था. हाल ही के दिनों में उन्हें दिल की भी बीमारी हो गई थी. इन सब की वजह से बुधवार की रात वो दुनिया छोड़ कर चली गईं. बताते चलें कि, इस्लाम में शव को ज्यादा देर तक नहीं रखा जाता हैं, इसलिए उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया. नासिर ने बताया कि, वो बहुत ही खुशमिजाज थीं, और मेरे पापा के साथ उन्होंने फिल्म आर-पार में काम भी किया था. फिल्म के सेट पर मेरे पापा की मुलाकात उनकी छोटी बहन नूरजहां से हुई थी उसके बाद दोनों ने शादी कर ली. शकीला आंटी अपने काम से बहुत खुश थीं और हम सभी उन्हें बहुत याद करेंगे. शकीला ने श्रीमान सत्यवादी, चाइना टाउन, पोस्ट बॉक्स 999, दास्तान, शहंशाह, अलीबाबा चालीस चोर जैसी कई फिल्में की और उनकी आखरी फिल्म ‘उस्तादों के उस्ताद’ जो कि 1963 में प्रदर्शित हुई थी.

एक जनवरी 1935 को जन्मी शकीला ने गुरुदत्त, देवानंद, सुनील दत्त, किशोर कुमार, शम्मी कपूर, राज कपूर जैसे कलाकारों के साथ काम किया. कहा जाता है कि वो बेहद ही खूबसूरत एक्ट्रेस मानी जाती थीं. शकीला ने शादी के बाद फिल्म इंडस्ट्री को अलविदा कह दिया, और उन्होंने एक एनआरआई से विवाह किया था, जिससे उनका एक बेटी और बेटा भी था. उनकी बेटी ने आत्महत्या कर ली थी, जिससे शकीला को काफी सदमा पहुंचा था. शकीला, वहीदा रहमान, नंदा और जबीन जलील की दोस्ती बेहद ही गहरी मानी जाती थी.