दिल को बनाए दुरुस्त…

दिल को बनाए दुरुस्त…

15
0
SHARE
हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है और यह छाती के बाई ओर स्थित हॉट है जो प्रति मिनट 60-90 बार धड़कता है.फोटो:-गूगल

पूरी दुनिया में 29 सितंबर “ वर्ल्ड हार्ट डे ” मनाया जाता है और इस साल भी दिल की बीमारियों के प्रति जागरूक फैलाने के लिए वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन एक नई थीम के साथ दिल की बीमारियों के प्रति जागरूक किया जाता है. आधुनिक जीवन शैली और बदलते लाइफ स्टाइल के कारण वर्तमान समय में प्राय: लोग किसी ना किसी बीमारी से परेशान हो रहें हैं. वर्तमान समय में हृदय (हार्ट) संबंधी बीमारी आम हो गई है. वर्तमान समय में यह बीमारी महिलाओं और पुरुषों आ रहा है खासकर युवाओं में यह बीमारी ज्यादा देखने में आ रहा है. वर्तमान समय में ह्रदय  की मांसपेशियों का बढ़ना, हार्ट फेल कर जाना और अनियमित हार्ट बीट का होना आम एक आम समस्या है.

बताते चलें कि, हृदय (हार्ट) हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग है और यह छाती के बाई ओर स्थित हॉट है जो प्रति मिनट 60-90 बार धड़कता है. हृदय को जिन्दा रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है, जब भी हृदय को ऑक्सीजन नहीं मिलती है तो हृदय की आर्टरी रुक जाती है और इस स्थिति को हार्ट अटैक या यूँ कहें की इसे दिल का दौरा भी कहा जाता है. आइये जानतें है हृदय रोग के लक्षण….

अचानक सीने में दर्द होना दिल का दौरा पड़ने का संकेत होता है,

एक-दोनों हाथ, कमर, गर्दन, जबड़े या पेट में दर्द और बेचैनी का होना,

सांस लेने में तकलीफ, ठंडा पसीना आना, उलटी और चक्कर का आना,

अत्यधिक शारीरिक श्रम के दौरान साइन में दर्द होना,

साँस का टूटना या यूँ कहें की, रुक-रुक कर सांस आना,

घबराहट और दिल की धडकनों का अनियमित होना,

गले में कुछ फंसा हुआ महसूस होना

अगर आपको ऐसा महसूस होता है तो आप अपने लाइफ स्टाइल और खान-पान में बदलाव करें जिससे हृदय रोग के खतरे को कम किया जा सकता है जैसे:-

संतुलित और पौष्टिक भोजन करें

धुम्रपान और तम्बाकू से दूर रहें,

व्यायाम जरुर करें,

तनाव को दूर रखने का प्रयास करें,

हमेशा रक्तचाप की जांच करवाते रहें.

हार्ट की बीमारी होने का एक कारण है मोटापा. अगर आप मोटे हैं या आपका वजन बढ़ रहा है तो आपको हार्ट सम्बंधित बीमारी होने का खतरा ज्यादा है. वजन बढने से कोलेस्ट्रोल बढ़ता है और इसके कारण डायबटीज और ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियाँ हो जाती है जिसके कारण आपका हार्ट कमजोर हो जाता है.

अगर आप हमेशा बाजार के खाना खाते हैं तो आपको हार्ट की बीमारी होने का खतरा बना रहता है. दरअसल बात यह है कि, आप जो भी कुछ खाते हैं उसका असर आपके हार्ट को पड़ता है. अगर आप शरबत, सोडा युक्त ड्रिंक या जूस पीते हैं तो आप इससे परहेज करें चूँकि अधिक मात्रा में सोडियम लेने से शरीर में अतिरिक्त तरल पदार्थ पैदा करता है जो आपके हार्ट पर एक्स्ट्रा प्रेशर डालता है. अगर आप रेड मीट के शौकीन है तो आप सावधान हो जाएं चूँकि, रेड मीट खाने से कोलेस्ट्रोल बढने का खतरा बना रहता है.

जब भी आप खाना खाएं तो आप हमेशा हेल्दी खाना ही खाएं खासकर खाने में हरी पत्तीदार सब्जियों का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा करें. अगर आप दिल की बिमारियों से बचना चाहते हैं तो आप रिफाइंड कार्बोहाइड्रेटस, ट्रांस फैट और रेड मीट का सेवन कम से कम करें. आप वैसे खाने का प्रयोग करें जिसमें प्राकृतिक एंटीओक्सिडेंट मोजूद हों. आप अपने आपको तनाव से दूर रखें. तनाव से दूर रहने के लिए आप मेडिटेशन (ध्यान) करें या अच्छी किताब पढ़ें या संगीत सुने.