‘जन-विमर्श’ कार्यक्रम में तीन विश्वविद्यालयों से संबंधित 36 मामले निष्पादित हुए…

‘जन-विमर्श’ कार्यक्रम में तीन विश्वविद्यालयों से संबंधित 36 मामले निष्पादित हुए…

317
0
SHARE
‘जन-विमर्श’ कार्यक्रम के लिए ‘ऑन-लाईन’ अभ्यावेदन प्राप्त करने की भी व्यवस्था शीघ्र सुनिश्चित की जाय. फोटो:-आईपीआरडी, पटना.

बुधवार को महामहिम राज्यपाल सह कुलाधिपति लाल जी टंडन के निदेशानुसार राजभवन में प्रत्येक माह आयोजित होनेवाले ‘जन-विमर्श’ कार्यक्रम के दौरान आज कुल 36 (छत्तीस) मामलों को निष्पादित किया गया. आज के कार्यक्रम में पटना विश्वविद्यालय, पटना, आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय, पटना तथा जय प्रकाश विश्वविद्यालय, छपरा से संबंधित कुल 36 अभ्यावेदनों पर सम्यक् विचार किया गया एवं उन्हें निष्पादित किया गया. कार्यक्रम में तीनों विश्वविद्यालय के कुलपति एवं संबंधित अन्य प्रशासनिक विश्वविद्यालय अधिकारी भी उपस्थित थे. सुनवाई में तीनों कुलपतियों, राजभवन के अपर सचिव विजय कुमार, विशेष कार्य पदाधिकारी एवं न्यायिक पदाधिकारी आदि ने भाग लिया. कुछ महत्वपूर्ण मामले राज्यपाल सह कुलाधिपति के समक्ष भी उपस्थापित किए गये जिनपर महामहिम का मार्ग-निर्देश प्राप्त हुआ. ‘जन विमर्श’ के दूसरे माह के आज के कार्यक्रम में आज पटना विश्वविद्यालय के 11 (ग्यारह), आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय, पटना के 10 (दस) तथा जय प्रकाश विश्वविद्यालय, छपरा के कुल-15 (पन्द्रह) मामलों का निष्पादन किया गया.

पटना विश्वविद्यालय के अन्तर्गत साइंस कॉलेज, पटना की एक कर्मी चंदा देवी की सेवा के दौरान हुई आकस्मिक मृत्यु के फलस्वरूप उनकी पुत्री अनिता कुमारी के अनुकंपा-आधार पर नियुक्ति के एक मामले में शिक्षा-विभाग से मार्ग-दर्शन प्राप्त करने का निर्णय लिया गया. इसी विश्वविद्यालय के कर्मी एम०एस० हैदर के प्रोन्नति विषयक एक मामले को आवेदक के पक्ष में निष्पादित किया गया. व्योमेश विभव के बायो केमेस्ट्री में गेस्ट फेकेल्टी के साथ-साथ वनस्पति विज्ञान में भी नियुक्ति के मामले में कुलपति को नियमानुरूप कार्रवाई के लिए अधिकृत किया गया. इस विश्वविद्यालय के अधीन सेवांत लाभ के मामलों में कम भुगतान की शिकायत की जाँच कराते हुए समुचित कार्रवाई का निदेश कुलपति को प्रदान किये गये. कुछ मामले भूतलक्षी प्रभाव से प्रोन्नति विषयक थे, जिनपर यथोचित कार्रवाई के निदेश कुलपति को दिये गये.

आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के अधीन कुल 10 (दस) मामले निष्पादित हुए. डॉ० जाकिर हुसैन इंस्टीच्यूट ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट की सम्बद्धता के मामले को अभ्यावेदक के पक्ष में निस्तारित किए जाने की सूचना विश्वविद्यालय के कुलपति ने दी. जय प्रकाश विश्वविद्यालय के अधीन रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं रहने या गलत रहने की वजह से परीक्षा-परिणाम बाधित होने से जुड़े कई मामले ‘जन-विमर्श’ के आज के कार्यक्रम में उपस्थापित हुए. मो० साहेराब उर्दू डिग्री कॉलेज, गोपालगंज की निधि कुमारी तथा राजेश राजन (डॉ० भूषण प्रसाद डिग्री कॉलेज, बभनैया, सारण) से जुड़े ऐसे ही मामलों में 15 जुलाई तक प्रमाण-पत्र संबंधित विद्यार्थियों को जाँचोपरान्त उपलब्ध करवा देने का निदेश कुलपति को प्रदान किया गया. इस विश्वविद्यालय से जुड़े सेवांत-लाभ के मामलों में त्वरित भुगतान सुनिश्चित करने के निदेश प्रदान किए गये.

आज के ‘जन-विमर्श’ कार्यक्रम के दौरान महामहिम राज्यपाल सह कुलाधिपति लाल जी टंडन ने कहा कि ‘जन-विमर्श’ कार्यक्रम के लिए ‘ऑन-लाईन’ अभ्यावेदन प्राप्त करने की भी व्यवस्था शीघ्र सुनिश्चित की जाये तथा प्रत्येक माह तीन-तीन विश्वविद्यालयों के कम-से-कम 15-15 मामलों का निस्तारण अवश्य किया जाये. राज्यपाल ने कहा कि ‘जन-विमर्श’ कार्यक्रम के दौरान कुलपतियों एवं अन्य संबंधित प्रशासनिक विश्वविद्यालय- अधिकारियों की उपस्थिति आवश्यक होगी.